वाराणसी में अगले माह रिंग रोड फेज-दो पर दौडऩे लगेंगे वाहन, 90 फीसद काम पूरा

वाराणसी में निर्माणाधीन रिंग रोड फेज-दो की सर्विस लेन का काम इस माह के अंत तक पूरा कर लिया जाएगा और एक अक्टूबर से वाहनों का आवागमन शुरू हो जाएगा। शहर के अंदर से गुजरने वाले ओवरलोड ट्रक समेत अन्य बड़े वाहन राजातालाब से कोईराजपुर के बीच चलेंगे।

Saurabh ChakravartySat, 11 Sep 2021 08:30 AM (IST)
निर्माणाधीन रिंग रोड फेज-दो की सर्विस लेन का काम इस माह के अंत तक पूरा कर लिया जाएगा

जागरण संवाददाता, वाराणसी। शहरवासियों के लिए अच्छी खबर है। अब रात में उनकी नींद हराम नहीं होगी। राहगीरों को रात में कोई बड़ा वाहन धक्का मारते हुए नहीं निकलेगा। ओवरलोड ट्रकों और प्रेशर हार्न की तेज आवाज नहीं सुनाई देगी, क्योंकि बड़े वाहनों के आवागमन के लिए निर्माणाधीन रिंग रोड फेज-दो की सर्विस लेन का काम इस माह के अंत तक पूरा कर लिया जाएगा और एक अक्टूबर से वाहनों का आवागमन शुरू हो जाएगा। शहर के अंदर से गुजरने वाले ओवरलोड ट्रक समेत अन्य बड़े वाहन राजातालाब से कोईराजपुर के बीच चलेंगे। मुख्य सचिव आरके तिवारी ने राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) को अधूरे कामों को हरहाल में 30 सितंबर में पूरा करने को कहा है। साथ ही रिंग रोड का काम 30 अक्टूबर तक। काम के मुताबिक साधन और संसाधन बढ़ा लिया जाए। मंडलायुक्त और जिलाधिकारी को खुद मानीटरिंग करने को कहा है। साथ ही लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए रिपोर्ट भेजने को कहा है।

यात्रियों के लिए विश्राम स्थल

रिंग रोड फेज-दो का करीब 90 फीसद काम पूरा हो चुका है। इसमें सड़क, डिवाइडर, सॢवस रोड, यात्रियों के बैठने के लिए विश्राम स्थल तथा जगह-जगह पौधे लगाने का काम तेजी से चल रहा है। वहीं, वरुणा नदी पर पुल का भी काम तेजी पर है। प्रयागराज हाइवे स्थित राजातालाब से बाबतपुर रोड कोइराजपुर तक सड़क बनने के साथ शहरवासियों को जाम से मुक्ति मिल जाएगी। बड़े वाहन शहर के अंदर प्रवेश नहीं करेंगे। और न ही वाहनों का तेज आवाज लोगों को सुनाई देगा। रात में उनकी नींद हराम होगी। शहर की सड़कें भी खराब नहीं होगी।

ओवरलोड ट्रकें मचाती हैं धमा-चौकड़ी

कपसेठी-बाबतपुर मार्ग स्थित कालिकाधाम पुल जर्जर होने से बड़े वाहनों का आवागमन बंद हो गया है। कोई विकल्प नहीं होने के चलते सैकड़ों ओवरलोड बड़े वाहन शहर के अंदर से गुजरते हैं। रात में शहर के अंदर ओवरलोड ट्रकें धमा-चौकड़ी मचाती है। इसको लेकर कई बार लोग आपत्ति जता चुके हैं लेकिन जिला प्रशासन और पुलिस अपनी विवशता बताते हुए शहरवासियों को समझाते हैं।

इन स्थानों पर लगता है वाहनों का रेला

प्रयागराज और चंदौली मार्ग की तरफ से आने वालों को बनारस के अंदर, जौनपुर, आजमगढ़ और गाजीपुर जाने के लिए नो इंट्री खुलने का इंतजार करना पड़ता है। इसके अलावा बाबतपुर, सारनाथ और मोहसराय से पहले बड़े वाहनों का रेला लगा रहता है। इस दौरान बेतरतीब वाहनों के खड़े होने पर कई किलोमीटर तक लंबा जाम लगता है। जाम के चलते अक्सर दुर्घटनाएं भी होती है। कई लोगों की जान तक जा चुकी है। स्थानीय पुलिस को जाम छुड़ाने में काफी मशक्कत करनी पड़ती है।

शहर की सड़कें नहीं होगी खराब

वाहनों की क्षमता को देखकर सड़कें बनाई जाती है। ओवरलोड और बड़े वाहन के लिए हाइवे की सड़क होती है। ओवरलोड ट्रकों के चलते शहर की सड़कें खराब हो रही है। पीडब्ल्यूडी मंडलायुक्त और जिलाधिकारी सामने इस बात को कई बार रख चुका है। हर बार प्रशासनिक अधिकारी उन्हेंंं भरोसा दिलाते हैं लेकिन होता कुछ नहीं है।

यह है परियोजना

हरहुआ से राजातालाब की दूरी-17 किलोमीटर

कार्य पूरा करने की अवधि-अक्टूबर-2021

कार्य प्रारंभ की तिथि-वर्ष 2019

कार्यदायी संस्था-एनएचएआइ

कुल लागत-450 करोड़

रिंग रोड फेज-दो को अक्टूबर तक पूरा करना है

रिंग रोड फेज-दो को अक्टूबर तक हरहाल में पूरा करना है

रिंग रोड फेज-दो को अक्टूबर तक हरहाल में पूरा करना है। 90 फीसद तक काम पूरा हो चुका है लेकिन कुछ स्थानों पर तकनीकी काम बाकी है। बारिश होने से कुछ काम प्रभावित हुआ है। सर्विस रोड का काम हरहाल में 30 सितंबर तक पूरा करने के साथ एक अक्टूबर से वाहनों के लिए खोल दिया जाएगा।

-आरएस यादव, परियोजना निदेशक-एनएचएआइ

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.