वाराणसी सर्किट हाउस परिसर में पार्किंग को वाहनों का इंतजार, बाहर सड़क किनारे भरमार

वाराणसी सर्किट हाउस परिसर में 26.77 करोड़ की लागत से नवनिर्मित अंडर ग्राउंड पार्किंग में महज दस से बीस फीसद ही वाहन खड़े हो रहे हैं। शेष पूर्व की तरह सड़क पर खड़े किए जा रहे हैं लेकिन इसे हटाने की हिम्मत पुलिस-प्रशासन नहीं जुटा पा रहा है।

Saurabh ChakravartyPublish:Tue, 07 Dec 2021 10:09 AM (IST) Updated:Tue, 07 Dec 2021 10:09 AM (IST)
वाराणसी सर्किट हाउस परिसर में पार्किंग को वाहनों का इंतजार, बाहर सड़क किनारे भरमार
वाराणसी सर्किट हाउस परिसर में पार्किंग को वाहनों का इंतजार, बाहर सड़क किनारे भरमार

जागरण संवाददाता,वाराणसी : सर्किट हाउस परिसर में 26.77 करोड़ की लागत से नवनिर्मित अंडर ग्राउंड पार्किंग में महज दस से बीस फीसद ही वाहन खड़े हो रहे हैं। शेष पूर्व की तरह सड़क पर खड़े किए जा रहे हैं लेकिन इसे हटाने की हिम्मत पुलिस-प्रशासन नहीं जुटा पा रहा है। लाचारी, यह कि रास्ते पर लगने वाले जाम के बीच आला अधिकारी प्रतिदिन गुजर रहे हैं। सिर्फ अधिकारी ही नहीं मंत्री समेत कई जनप्रतिनिधि भी इसी रास्ते से आ जा रहे हैं, जाम से जूझ रहे हैं लेकिन सब मौन साधे हुए हैं।

जाम से परेशान पब्लिक आए दिन सवाल कर रही है कि पार्किंग का औचित्य क्या है। आम लोगों की गाड़ी सड़क पर खड़ी होती है तो चालान काट दिया जाता है। यहां तो हजारों गाड़ी खुलेआम सड़क पर खड़ी रहती हैं, क्यों नहीं चालान काटा जा रहा है। इस पर जिम्मेदार ही मौन हैं।

25 अक्टूबर को प्रधानमंत्री ने पार्किंग लोकार्पित किया तो एक सप्ताह तक पुलिस प्रतिदिन ध्वनि विस्तारक यंत्र से लोगों से आग्रह करती दिखी कि वाहन सड़क से हटाकर पार्किंग में रखें, लेकिन इसका कोई असर नहीं हुआ।

अंडर ग्राउंड पार्किंग की क्षमता चार पहिया व दो पहिया वाहनों की लगभग पांच सौ है ङ्क्षकतु पार्किंग से जुड़े लोगों का कहना है कि व्यवस्थित ढंग से वाहनों को पार्क किया जाए तो एक हजार से अधिक वाहन यहां खड़े किए जा सकते हैं। बहरहाल, सोमवार को बामुश्किल से ऊपरी फ्लोर पर पंद्रह से बीस चार पहिया वाहन तो वहीं ग्राउंड पर पचास से भी कम दो पहिया वाहन खड़े थे। पार्किंग का अस्सी फीसद क्षेत्र पूरी तरह खाली पड़ा रहा। जबकि इस पार्किंग के बाहर बिल्कुल दीवार से सटे रोड पर पांच सौ से अधिक वाहन खड़े किए गए थे। रोड के डिवाइडर पर भी दर्जनों वाहन पार्क थे। इसके ठीक सामने एक पार्किंग में ठूंस-ठूंसकर वाहन खड़े किए गए थे।

महत्वपूर्ण

-पार्किंग का निर्माण शुरू हुआ छह मार्च, 2019 को।

-प्रस्तावित लागत तय था 19 करोड़ 15 लाख रुपये

-निर्माण पर कुल खर्च हुआ 26.77 करोड़ रुपये

- कार्यदायी एजेंसी रही आवास विकास कंस्ट्रक्शन यूनिट

-प्रधानमंत्री ने 25 अक्टूबर को किया लोकार्पित

-कार्यदायी एजेंसी ने लोकार्पण से पूर्व पार्किंग नगर निगम के किया हवाले

-लोअर व अपर बेसमेंट में कार और मोटरसाइकिल पार्क की व्यवस्था।