दंगाइयों से निपटने को एक्शन में स्पेशल फोर्स, क्षमताओं का फोर्स ने किया प्रदर्शन

वाराणसी, जेएनएन। कत्ल या दुर्घटना में मौत जैसी किसी घटना के बाद भीड़ के बवाल, उग्र चक्काजाम, आपदा जैसी स्थिति में शाति व्यवस्था के लिए गठित वाराणसी पुलिस की स्पेशल फोर्स शनिवार से एक्शन में आ गई। सुबह पुलिस लाइन में फोर्स ने अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन किया। वहीं मौजूद अधिकारियों ने भी ताली बजाकर सराहना की। इसी दौरान आतंकवादी हमले और दंगा नियंत्रण का मॉक ड्रिल भी किया गया। स्पेशल फोर्स में 120 सिपाही और चार सब इंस्पेक्टर शामिल हैं। इनमें 60 महिला सिपाही भी हैं। फोर्स के महिला-पुरुष सदस्यों को अलग-अलग खास वर्दी दी है। इनके जूते भी आम पुलिसकर्मियों से अलग हैं।

पुलिस बल के लिए साबित होंगे मददगार सीआरपीएफ की 95 वीं बटालियन से इन्हें हर तरह की ट्रेनिंग दिलाई गई है। यह फोर्स चुनाव के दौरान अप्रिय हालात में पुलिस बल के लिए मददगार साबित होगा। शनिवार को स्पेशल फोर्स ने पुलिस लाइन मैदान पर वेपन्स हैंडलिंग, कवर और फायरिंग, दंगा नियंत्रण ड्रिल, भीड़ नियंत्रण, भीड़ को संभालने के लिए फ्रिस्किंग, वीआईपी/वीवीआईपी तथा मेला प्रबन्धन, आतंकवादी हमला, प्राकृतिक आपदा व अन्य प्रतिकूल हालात से निपटने के प्रशिक्षण का बखूबी प्रदर्शन किया।

अपर पुलिस महानिदेशक पीवी रामाशास्त्री ने कहा कि यह फोर्स शांति व्यवस्था के साथ ही खास आयोजनों में सुरक्षा व्यवस्था में मददगार साबित होगी। इस अवसर पर डीएम सुरेंद्र सिंह, एसएसपी आनंद कुलकर्णी, सीओ लाइन (आईपीएस) डॉ अनिल कुमार, कमाडेंट सीआरपीएफ 95वीं बटालियन एनपी सिंह सहित कई अन्य पुलिस अधिकारी मौजूद रहे। श्रेष्ठ जवानों को एडीजी से मिला सम्मान -एडीजी ने अलग-अलग दक्षता के लिए फोर्स की सदस्य ममता यादव, रेनू, निशा सिंह, शशिकला सिंह, प्रीति सिंह, प्रशांत तिवारी, महेश प्रताप सिंह, अनिरुद्ध कुमार यादव, अमित कुमार वर्मा, सत्य प्रकाश कुशवाहा तथा सीआरपीएफ को प्रशस्त्रि पत्र देकर सम्मानित किया।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.