Varanasi Police Commissionerate : पुलिस की रडार पर जिले के टाप फाइव इनामी, नए जुर्म की भी बन रही लिस्‍ट

अपराध और अपराधियों पर शिकंजा कसने के क्रम में पुलिसिया कार्रवाई इन दिनों सुर्खियों में है। हाल में गंभीर अपराधों में लिप्त बदमाशों पर गैंगस्टर लगाना हो या एक लाख के इनामी अपराधी दीपक वर्मा को मुठभेड़ में ढेर करना पुलिस ने अपने इरादे जाहिर कर दिए हैं।

Saurabh ChakravartyMon, 20 Sep 2021 08:50 AM (IST)
अपराध और अपराधियों पर शिकंजा कसने के क्रम में पुलिसिया कार्रवाई इन दिनों सुर्खियों में है।

वाराणसी, मुहम्मद रईस। Varanasi Police Commissionerate अपराध और अपराधियों पर शिकंजा कसने के क्रम में पुलिसिया कार्रवाई इन दिनों सुर्खियों में है। हाल में गंभीर अपराधों में लिप्त बदमाशों पर गैंगस्टर लगाना हो या एक लाख के इनामी अपराधी दीपक वर्मा को मुठभेड़ में ढेर करना, पुलिस ने अपने इरादे जाहिर कर दिए हैं। दीपक के बाद अब कमिश्नरेट पुलिस की रडार पर जनपद के टाप फाइव इनामी बदमाश हैं, जिन पर एक लाख रुपये से लेकर दो लाख तक के इनाम घोषित हैं।

अपराधियों की कुंडली तैयार करने के बाद कमिश्नरेट पुलिस अब कानून-व्यवस्था के लिए चुनौती बने इनामी बदमाशों पर कानूनी शिकंजा कसने की तैयारी में है, ताकि अपराधियों में पुलिस का खौफ पैदा हो। सूत्रों के मुताबिक पुलिस की टाप फाइव लिस्ट में भेलूपुर थाने के वांछित मनीष ङ्क्षसह, अताउर्रहमान उर्फ बाबू उर्फ सिकंदर व शहाबुद्दीन सहित कैंट थाने का वांछित इंद्रदेव ङ्क्षसह उर्फ बीकेडी व शिवपुर थाने का वांछित सलीम उर्फ मुख्तार शेख है। मनीष, अताउर्रहमान व शहाबुद्दीन पर दो-दो लाख एवं बीकेडी व सलीम पर एक-एक लाख का इनाम घोषित है।

1997 से फरार चल रहे अताउर्रहमान व शहाबुद्दीन

वर्ष 1997 में भेलूपुर थाना क्षेत्र की जवाहर नगर कालोनी में रहने वाले कोयला कारोबारी एवं विश्व ङ्क्षहदू परिषद के कोषाध्यक्ष नंद किशोर रूंगटा का अपहरण हुआ था। उनका अब तक पता नहीं चला। इसमें अताउर्रहमान व शहाबुद्दीन का नाम आया था। तभी से दोनों फरार चल रहे हैं। 27 अगस्त 1999 को दोनों पर दो-दो लाख रुपये का इनाम घोषित किया गया। दोनों मुख्तार अंसारी के गुर्गे हैं। सूत्रों के मुताबिक वर्तमान में दोनों कराची-पाकिस्तान में हैं। उन्हें वहां की नागरिकता मिली हुई है।

गोकशी व जमीन कब्जा करने वालों पर गैंगस्टर

जिन 500 अपराधियों की कुंडली कमिश्नरेट पुलिस ने तैयार किया है, उनमें से 102 पर पिछले माह ही गैंगस्टर लगाया जा चुका है। शेष 398 अपराधियों में से गोकशी व भू-माफिया की अलग सूची बन रही है। सितंबर के अंतिम सप्ताह में ऐसे 100 अपराधियों पर गैंगस्टर लगाया जाएगा। अब तक गोकशी मामले में 51 अपराधी व जमीन कब्जा करने वाले 20 से अधिक बदमाश चिह्नित किए जा चुके हैं।

कानून-व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त रखने के क्रम में कमिश्नरेट पुलिस लगातार अपराधियों पर शिकंजा कस रही है। वांछित अपराधियों की नए सिरे से सूची तैयार की जा रही है। जल्द ही परिणाम जनता के सामने होगा।

- ए. सतीश गणेश, पुलिस कमिश्नर।

पुलिस कमिश्नरेट में कानून-व्यवस्था को दुरुस्त रखना पहली प्राथमिकता है। इनामी अपराधियों पर अगले 100 दिन के भीतर ठोस कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

- सुभाष चंद्र दुबे, एडिशनल पुलिस कमिश्नर (हेडक्वार्टर एंड क्राइम)।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.