वाराणसी नगर निगम : प्रदूषण की रोकथाम में खर्च होगी 15वें वित्त की आधी रकम, बनेगी कमेटी

नगर में प्रदूषण की रोकथाम के लिए शासन स्तर पर बड़ी योजना बनी है।

वाराणसी में प्रदूषण की रोकथाम के लिए शासन स्तर पर बड़ी योजना बनी है। इसके लिए धन उपलब्धता 15वें वित्त से की जाएगी। जारी शासनादेश में स्पष्ट किया गया है कि अब 15वें वित्त आयोग के तहत जारी रकम की आधी धनराशि प्रदूषण नियंत्रण के लिए खर्च की जाएगी।

Saurabh ChakravartyTue, 02 Mar 2021 07:10 AM (IST)

वाराणसी, जेएनएन। नगर में प्रदूषण की रोकथाम के लिए शासन स्तर पर बड़ी योजना बनी है। इसके लिए धन उपलब्धता 15वें वित्त से की जाएगी। केंद्रीय शहरी एवं आवासन विकास मंत्रालय की ओर से जारी शासनादेश में स्पष्ट किया गया है कि अब 15वें वित्त आयोग के तहत जारी रकम की आधी धनराशि प्रदूषण नियंत्रण के लिए खर्च की जाएगी। इसमें वायु से लेकर जल प्रदूषण को केंद्रित किया गया है।

इसके लिए केंद्र सरकार ने सभी राज्यों, नगर निगमों के लिए नियमावली जारी की है। सरकार ने यह फैसला नगरीय सुविधाओं के साथ मानव के बेहतर स्वास्थ्य के मद्देनजर किया है। सरकार ने कमेटी बनाने का निर्देश जारी किया है। कमेटी में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी, नगर आयुक्त के साथ ही महापौर को सदस्य बनाया गया है। शासनादेश में स्पष्ट उल्लेख कि विकास जरूरी है लेकिन प्रदूषण की कीमत पर नहीं। इसलिए रोकथाम के लिए भी कवायद की जाए क्योंकि मानव जीवन को खतरे में डालकर विकास कार्य नहीं कर सकते।

धूल से मुक्ति के लिए सुझाए गए कार्य

-नाली व सड़क के बीच में बची साइड पटरी पर इंटरलॉकिंग

-शहर को स्मार्ट तरीके से विकसित करते हुए ग्रीन सिटी बनाएं

-नाले को ढंका जाए

-कचरा प्रबंधन वैज्ञानिक तरीके से हो

-शहर को कचरा घर मुक्त किया जाए

-कचरा जलाने पर जुर्माना हो

विधान परिषद में भी उठे सवाल

एमएलसी शतरुद्र प्रकाश ने वायु प्रदूषण को लेकर विधान परिषद में सवाल उठाया था। प्रदेश सरकार ने बनारस में तीन जगहों पर वायु की गुणवत्ता मापने के लिए यंत्र लगाने का निर्णय लिया है। इसमें बीएचयू, क्वींस कालेज लहुराबीर और जलकल विभाग भेलूपुर स्थान चिन्हित है। चार करोड़ 20 लाख रुपये खर्च होंगे।

45 लाख से रामनगर में बनेगी सीवर लाइन

सीवर समस्या से जूझ रहे रामनगर के लिए अच्छी खबर है। जहां गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई 10 एमएलडी क्षमता की एसटीपी का निर्माण कर रहा है तो वहीं, वाराणसी विकास प्राधिकरण ने सीवर लाइन बिछाने का निर्णय लिया है। इस पर करीब 45 लाख रुपये खर्च होने का अनुमान है।  तिवारी कटरा से नवीन जूनियर हाईस्कूल तक सीवर लाइन का कार्य होगा। एमएलसी लक्ष्मण आचार्य के प्रस्ताव पर विकास प्राधिकरण यह काम करेगा। वीडीए वीसी ईशा दुहन ने बताया कि गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई ने सीवर लाइन निर्माण के लिए डीपीआर (डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट) बन रही है। वीडीए इस काम को अवस्थापना निधि से कराएगा। राशि आवंटित की गई है। शीघ्र ही टेंडर करके यहां सीवर लाईन बिछाई जाएगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.