top menutop menutop menu

वाराणसी में वीआइपी रूट पर भूमिगत केबल का रास्ता साफ, इसी माह से शुरू होगा कार्य

वाराणसी, [मुकेश चंद्र श्रीवास्तव]। गत वर्ष से ही अनुमति के पेच में फंसे शहर के वीआइपी मार्ग पर भूमिगत केबल डालने की राह साफ हो गई है। इसे मॉर्थ (मिनिस्ट्री ऑफ रोड ट्रांसपोर्ट हाइवेज) ने हरी झंडी दे दी है। आइपीडीएस (एकीकृत ऊर्जा विकास योजना) के तहत पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड व कार्यदायी संस्था की ओर से तीन करोड़ राशि जमाकर कर रूट नंबर तीन और पांच पर इस माह से कार्य शुरू हो जाएगा। काशी में लोकल फाल्ट व बिजली चोरी रोकने एवं 24 घंटे निर्बाध आपूर्ति के लिए पहले पुरानी काशी में भूमिगत केबल डालने के बाद दूसरे चरण का कार्य पिछले साल फरवरी में ही टाटा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड को दिया गया था। इसके बाद कभी बारिश तो कभी आचार संहिता की वजह से कार्य में देरी हुई।

मंत्रालय से हरी झंडी मिली, विभाग को राशि जमा करनी पड़ेगी

हालांकि सात में से पांच रूटों पर 85 से 95 फीसद तक कार्य हो गया है, मगर दो रूट संत अतुलानंद कान्वेंट स्कूल से कचहरी चौराहा वाया गिलट बाजार और भोजूबीर से लेकर पुलिस लाइन चौराहा वाया अर्दली बाजार का कार्य लटक गया। इसके लिए मॉर्थ से अनुमति लेना था। गत वर्ष से इसके लिए प्रयास जारी थी। काफी समय बीत जाने के बाद भी जब बात नहीं बनी तो इसके लिए यूपीपीसीएल चेयरमैन व कमिश्नर को लगना पड़ा, तब मंत्रालय से हरी झंडी मिली। हालांकि, इसके लिए विभाग को राशि जमा करनी पड़ेगी। टाटा कंपनी के अधिकारियों का कहना है कि राशि जमाकर इस माह कार्य शुरू होगा।

सभी रूटों पर 31 अक्टूबर तक कार्य पूरा करने का निर्देश

 

वाराणसी जोन के मुख्य अभियंता (वितरण) मनोज कुमार अग्रवाल ने बताया कि मॉर्थ से हरी झंडी के बाद इस माह रूट तीन व पांच पर कार्य शुरू होगा। कार्यदायी संस्था को सभी रूटों पर 31 अक्टूबर तक कार्य पूरा करने का निर्देश दिया गया है।

पहले चरण में यहां कार्य : कबीर नगर, मानस नगर, लक्सा, सोनारपुरा, भेलूपुर, गोदौलिया, दशाश्वमेध, ब्रह्मानंद कालोनी, खोजवां, शक्ति नगर, जवाहनगर, रवींद्रपुरी।

दूसरे फेज में ये क्षेत्र : कैंट स्टेशन से लहुराबीर वाया अंधरापुल व तेलियाबाग। कैंट से लहुराबीर वाया इंग्लिशिया लाइन तिराहा, मलदहिया व लोहामंडी क्रासिंग। संत अतुलानंद स्कूल से कचहरी चौराहा वाया गिलट बाजार। भोजूबीर व पुलिस लाइन चौराहा वाया अर्दली बाजार तक। भोजूबीर से महावीर मंदिर। कचहरी चौराहा से भोजूबीर तिराहा वाया सॢकट हाउस तथा बीएचयू से सामनेघाट और बड़ी गैबी।

यह भी जानें

431 करोड़ राशि दी गई थी पहले चरण के लिए 362 करोड़ में पूरा हुआ पहले चरण का कार्य 69 करोड़ बची राशि दूसरे चरण में स्थानांतरित 125 करोड़ में होना है दूसरे चरण का काम 8.5 हजार उपभोक्ता दूसरे चरण में होंगे कवर 3.4 किमी से अधिक पड़ेगी 33 केवी लाइन 52.59 किमी से अधिक पड़ेगी 11 केवी लाइन 110.18 किमी से अधिक पड़ेगी एलटी लाइन 117 नए ट्रांसफार्मर लगेंगे 250 केवीए क्षमता के

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.