वाराणसी में मुंशी प्रेमचंद के आवास से छह पंखे गायब, लमही स्थित स्मारक की देखरेख का 16 साल बाद भी नहीं कोई इंतजाम

वाराणसी में उपन्यासकार मुंशी प्रेमचंद के आवास से रविवार देर रात सभी छह पंखे चोरी हो गए।

उपन्यासकार मुंशी प्रेमचंद के आवास से रविवार देर रात सभी छह पंखे चोरी हो गए। इसकी जानकारी सोमवार सुबह हुई जब मुंशी प्रेमचंद स्मारक की देखरेख करने वाले सुरेशचंद्र दुबे सफाई करने पहुंचे। आवास का ताला खोलते ही उन्हें जमीन पर कुछ पेंच गिरे दिखे।

Saurabh ChakravartyTue, 13 Apr 2021 06:30 AM (IST)

वाराणसी, जेएनएन। गरीब- गुरबा की आवाज को अपनी कलम से  धार देने वाले महान उपन्यासकार मुंशी प्रेमचंद के आवास से रविवार देर रात सभी छह पंखे चोरी हो गए। इसकी जानकारी सोमवार सुबह हुई जब मुंशी प्रेमचंद स्मारक की देखरेख करने वाले सुरेशचंद्र दुबे सफाई करने पहुंचे। आवास का ताला खोलते ही उन्हें जमीन पर कुछ पेंच गिरे दिखे। नजर जब पंखे की ओर गई तो वे अवाक रह गए। दूसरे कमरों में गए त उनमें लगे पंखे भी गायब थे।

उन्होंने आसपास के लोगों को जानकारी देने के साथ 112 नंबर डायल कर फोन पर पुलिस को सूचित किया। इस पर पुलिस कर्मी पहुंचे जरूर, लेकिन मौका मुआयना कर वापस चले गए। पूरे मामले की लिखित सूचना लालपुर पुलिस चौकी पर भी दी गई है। माना जा रहा है चोरों ने कुएं की दीवार की ओर से चढ़कर मुंशी जी के आंगन में प्रवेश किया। खाली घर में  चोरों को कुछ न मिला तो सभी पंखे ही खोल लिए गए। पंखे पिछले साल संस्कृति विभाग की ओर से लगवाए गए थे।

मुंशी प्रेमचंद की स्मृतियों की बेकदरी की कहानी नई नहीं है। वर्ष 2005 में मुंशी जी की 125 जयंती पर शासन-सत्ता ने झोली खोली तो आवास व स्मारक का जीर्णोद्धार व साज-संवार की गई। इसकी जिम्मेदारी विकास प्राधिकरण ने निभाई लेकिन उसके बाद इस खास साहित्यिक विरासत की किसी को सुध न आई। इस तरह की विरासतों को सहेजने के लिए जिम्मेदार संस्कृति विभाग ने भी सिर्फ प्रेमचंद जयंती पर ही सक्रियता दिखाई। बेपरवाही की हद यह कि इस साहित्यिक धरोहर का वारिस महकमा कौन, अब तक किसी को नहीं पता है। ऐसे में रखरखाव का भी कोई इंतजाम नहीं है। स्थानीय निवासी सुरेश दुबे साहित्यिक रुचि के कारण यह जिम्मेदारी संभालते हैैं।  

तीन साल पहले बिजली विभाग ने कर दी थी बत्ती गुल

दरअसल, तीन साल पहले जयंती से ठीक दो दिन पूर्व जब बिजली विभाग ने मुंशीजी के आवास व स्मारक का कनेक्शन अवैध बताते हुए बत्ती गुल कर दी तब वारिस महकमे की तलाश शुरू हुई। इस पर वीडीए, संस्कृति विभाग व ग्राम समाज तक  ने हाथ खड़े कर दिए। कागजों की पड़ताल में पता चला कि मकान अब तक आबादी में दर्ज है। पिछले साल संस्कृति विभाग ने स्मारक अपने अधीन लेने के लिए फाइल बढ़ाने का दावा जरूर किया लेकिन रिजल्ट अब तक सामने नहीं आया है। घटना के संबंध में क्षेत्रीय सांस्कृतिक केंद्र प्रमुख यशवंत सिंह राठौर को कई बार फोन और मैसेज किया गया लेकिन जवाब नहीं मिला।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.