Panchayat Elections in Chandauli : एक ही प्रत्याशी को तीन-तीन बार आवंटित हुआ प्रतीक चिह्न

एक ही उम्मीदवार को तीन-तीन बार चुनाव चिह्न आवंटित किया गया तो अंतिम सूची से कई प्रत्याशियों के नाम गायब।

जिला पंचायत सदस्य पद के प्रत्याशियों को प्रतीक चिह्न आवंटन में तमाम तरह की गड़बड़ी सामने आई हैं। एक ही उम्मीदवार को तीन-तीन बार चुनाव चिह्न आवंटित किया गया तो अंतिम सूची से कई प्रत्याशियों के नाम गायब रहे।

Saurabh ChakravartyMon, 19 Apr 2021 05:15 PM (IST)

चंदौली, जेएनएन। वाह रे अधिकारी! इस बार पंचायत चुनाव ड्यूटी में लगे आरओ व एआरओ की कार्यप्रणाली अजीबोगरीब है। जिला पंचायत सदस्य पद के प्रत्याशियों को प्रतीक चिह्न आवंटन में तमाम तरह की गड़बड़ी सामने आई हैं। एक ही उम्मीदवार को तीन-तीन बार चुनाव चिह्न आवंटित किया गया तो अंतिम सूची से कई प्रत्याशियों के नाम गायब रहे। पर्चा उठाने वाले प्रत्याशियों को भी प्रतीक चिह्न का आवंटन कर दिया गया। प्रत्याशियों व उनके समर्थकों के हंगामा के बाद भूल सुधारी गई। इसको लेकर कलेक्ट्रेट में दूसरे दिन सोमवार को भी प्रत्याशियों व समर्थकों की भीड़ रही।

कलेक्ट्रेट स्थित अपर जिलाधिकारी न्यायिक के न्यायालय कक्ष में जिला पंचायत सदस्यों के नामांकन की प्रक्रिया पूरी हुई। आयोग की गाइडलाइन के अनुसार रविवार की दोपहर तीन बजे के बाद प्रतीक चिह्न का आवंटन किया जाना था।आरओ व एआरओ देर शाम तक मिलान में ही जुटे रहे। शाम सात बजे के बाद प्रतीक चिह्नों का आवंटन शुरू हुआ। इस दौरान तमाम तरह की कमियां सामने आने लगी। चकिया सेक्टर नंबर एक से नामांकन दाखिल करने वाले प्रत्याशी का नाम चार नंबर सेक्टर के प्रत्याशियों की सूची में शामिल कर दिया गया। इस गड़बड़ी पर प्रत्याशी भड़क गए उन्होंने नामांकन ही रद करने की मांग की है। बरहनी ब्लाक के सेक्टर तीन में नामांकन करने वाले उम्मीदवार को पहले चुनाव चिह्न उगता सूरज दिया गया। इसके आधार पर प्रत्याशी ने बैनर पोस्टर आदि प्रकाशित करवा लिया। सोमवार को सूचना मिली कि चुनाव चिह्न बदल गया।

ऐसे में वे भागे-भागे कलेक्ट्रेट पहुंचे। अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर नाराजगी जताई। बोले, इस तरह की लापरवाही से उहापोह की स्थिति बनी हुई है। इसी तरह सेक्टर दो के प्रत्याशी को पहले उगता सूरज दिया बाद में आरी निशान दिया। ताज्जुब यह कि इसी सेक्टर से पर्चा उठाने वाले प्रत्याशी को भी प्रतीक चिह्न भी आवंटित कर दिया गया। सदर ब्लाक के सेक्टर दो से चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशी का नाम ही सूची से गायब रहा। इस पर प्रत्याशी ने हंगामा किया तो दूसरी सूची जारी की गई लेकिन इसमें प्रत्याशी का पता ही गलत अंकित कर दिया गया। तीसरी बार में त्रुटि संशोधित की गई। सोमवार को भी कलेक्ट्रेट में प्रत्याशी और समर्थक पहुंचे। प्रतीक चिह्नों के बारे में पुष्टि करने के लिए परेशान दिखे। शिकायत के बाद सीडीओ अजितेंद्र नारायण पहुंचे। उन्होंने अपनी देखरेख में प्रतीक चिह्नों का आवंटन कराया।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.