पद्मविभूषण पं. छन्नूलाल मिश्रा से वाराणसी जिला प्रशासन ने संगीता मिश्रा मौत प्रकरण पर मांगा तीन-चार दिन का वक्त

पद्मविभूषण पं. छन्नूलाल मिश्रा की बड़ी बेटी संगीता मिश्रा

पद्मविभूषण पं. छन्नूलाल मिश्रा की छोटी बेटी डॉ. नम्रता मिश्रा ने बताया कि तीन-चार दिन में यदि वाराणसी जिला प्रशासन जांच रिपोर्ट से अवगत नहीं कराएगा तो हम लोग न्याय के लिए अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का दरवाजा खटखटाएंगे।

Saurabh ChakravartyFri, 14 May 2021 06:40 AM (IST)

वाराणसी, जेएनएन। पद्मविभूषण पं. छन्नूलाल मिश्रा की बड़ी बेटी संगीता मिश्रा के मौत प्रकरण में जिलाधिकारी कौशलराज शर्मा द्वारा बैठाई गई जांच रिपोर्ट तीन-चार में आने के आसार हैं। तीन दिन के बजाय 13 दिन बाद भी जांच रिपोर्ट नहीं आने पर गुरुवार को दोपहर लगभग 12 बजे के करीब पद्मविभूषण पं. छन्नूलाल मिश्रा ने कमिश्नर दीपक अग्रवाल और मुख्य चिकित्सा अधिकारी वीबी सिंह से फोन पर बात किया। उन्होंने दोनों अधिकारियों से कहा कि डीएम साहब ने जांच टीम से कहा था कि हमें तीन दिन में जांच करके रिपोर्ट दें। मेरी बेटी का निधन हुए 14 दिन बीत गए।

जांच कमेटी ने अभी तक रिपोर्ट नहीं सौंपी। उन्होंने कहा कि एक महीना बीतने पर अस्पताल प्रबंधन कह देगा कि सीसीटीवी फुटेज का रिकॉर्ड मिलना अब मुश्किल है। फिर जांच अधर में लटक जाएगी। इस पर दोनों अधिकारियों ने पं. छन्नूलाल मिश्रा से तीन-चार दिन का समय मांगा है। अधिकारियों ने कहा है जांच लगभग पूरी हो गयी है। कमेटी तीन-चार दिन में अपनी रिपोर्ट देगी। जिससे आपको भी अवगत कराया जाएगा। आप निश्चिंत रहें, आराम करें आपकी बेटी को न्याय मिलेगा। उसके बाद उन्होंने अधिकारियों से कहा कि 14 दिन बीत गए न्याय के इंतजार की उम्मीद में बैठा हूं।

नहीं मिला न्याय तो खटखटाएंगे मुख्यमंत्री दरबार का दरवाजा

पद्मविभूषण पं. छन्नूलाल मिश्रा की छोटी बेटी डॉ. नम्रता मिश्रा ने बताया कि तीन-चार दिन में यदि जिला प्रशासन जांच रिपोर्ट से अवगत नहीं कराएगा तो हम लोग न्याय के लिए अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का दरवाजा खटखटाएंगे। अभी हम जिला प्रशासन की बात मानते हुए चार दिन तक जांच रिपोर्ट आने का इंतजार करेंगे। उसके बाद भी यदि समय मांगा गया तो हम मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से समय लेकर मुलाकात करेंगे और पूरे वाकये से अवगत कराएंगे। गत 29 अप्रैल की देर रात पं. छन्नूलाल मिश्रा की बड़ी बेटी संगीता मिश्रा का कोविड-19 इलाज के दौरान मैदागिन स्थित मेडविन अस्पताल में निधन हो गया था। स्वजन इलाज में लापरवाही का आरोप लगाते हुए अस्पताल प्रबंधन से इलाज के दौरान का अनकट सीसीटीवी फुटेज मांगा था। अस्पताल प्रबंधन द्वारा सीसीटीवी फुटेज नहीं देने पर स्वजनों ने कोतवाली थाने में मुकदमा दर्ज कराया था। जिस पर डीएम कौशलराज शर्मा ने जांच कमेटी गठित किया था।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.