काशी हिंदू विश्वविद्यालय में एक बार फिर छात्रसंघ बहाली की सुगबुगाहट शुरू, कर्मचारी संगठनों और शिक्षकों का भी मिल रहा समर्थन

काशी हिंदू विश्वविद्यालय में एक बार फिर छात्रसंघ बहाली की सुगबुगाहट शुरू हो गई है। छात्र संगठनों ने इसकी मांग बुलंद करना शुरू किया है तो उन्हें कर्मचारी संगठनों एवं शिक्षकों का भी परोक्ष समर्थन मिलता दिख रहा है।

Saurabh ChakravartyWed, 08 Dec 2021 11:28 AM (IST)
काशी हिंदू विश्वविद्यालय में एक बार फिर छात्रसंघ बहाली की सुगबुगाहट शुरू हो गई है।

जागरण संवाददाता, वाराणसी : काशी हिंदू विश्वविद्यालय में एक बार फिर छात्रसंघ बहाली की सुगबुगाहट शुरू हो गई है। छात्र संगठनों ने इसकी मांग बुलंद करना शुरू किया है तो उन्हें कर्मचारी संगठनों एवं शिक्षकों का भी परोक्ष समर्थन मिलता दिख रहा है। हालांकि कोई आधिकारिक तौर पर इस मसले पर नहीं कुछ बोल रहा है। एक वरिष्ठ प्रोफेसर ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि संघों के होने से अपने मुद्दों और समस्याओं को उठाने में सुविधा रहती है। उन्होंने यह भी दावा किया कि इसे लेकर विश्वविद्यालय में उच्च स्तर पर बैठक कर विमर्श भी होने की खबर है लेकिन लगभग 35000 की संख्या के संघ को संभालना व्यावहारिक रूप से काफी कठिन बता इस विचार को स्थगित कर दिया गया।

इधर मंगलवार को बीएचयू स्थित काशी विश्वनाथ मंदिर में छात्रसंघ, अध्यापक संघ एवं कर्मचारी संघ की बहाली के लिए छात्रों के एक समूह ने बैठक की। इसमें सबने एक स्वर से मांग उठाई कि आगामी शैक्षणिक सत्र में विश्वविद्यालय में सभी संघों की बहाली की जाय। छात्रों ने नए कुलपति से भी अपील की है कि वह संघों की बहाली कर लोकतांत्रिक व्यवस्था कायम कर एक सकारात्मक संदेश दें। छात्रों ने सभी संघों की बहाली न होने की दशा में चरणबद्ध ढंग से बड़ा आंदोलन करने का भी निर्णय लिया। बैठक में अभिषेक सिंह काली, मृत्युंजय तिवारी, शशांक सिंह, वैभव तिवारी, उत्कर्ष, नित्यानंद उपाध्याय, अवनींद्र राय, शुभम तिवारी, शशिकांत मिश्र, आशीर्वाद दूबे, दुष्यंत चंद्रवंशी, दिलीप मौर्य आदि छात्र उपस्थित थे।

बीएचयू के डा. दयाशंकर और डा. विधि नागर को हिंदी संस्थान कल करेगा पुरस्कृत

काशी हिंदू विश्वविद्यालय के विज्ञान संस्थान के डा. दया शंकर त्रिपाठी और मंच कला संकाय की डा. विधि नागर को उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान नौ दिसंबर को लखनऊ में पुरस्कृत करेगा। संस्थान के यशपाल सभागार में आयोजित समारोह में उन्हें यह प्रदान किया जाएगा। एक तरफ जहां डा. त्रिपाठी को उनकी 2020 में प्रकाशित पुस्तक पर्यावरण दिग्दर्शिका पर उन्हें ‘होमी जहांगीर भाभा पुरस्कार’ से सम्मानित किया जाएगा, वहीं दूसरी तरफ मंच कला संकाय की डा. विधि नागर को उनकी पुस्तक ‘ठचो’ एवं ‘कथक’ पर ‘गिरजादेवी पुरस्कार’ से सम्मानित किया जाएगा। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि उपमुख्यमंत्री डा. दिनेश शर्मा होंगे। अध्यक्षता संस्थान के कार्यकारी निदेशक प्रो. सदानंद प्रसाद गुप्त होंगे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.