वाराणसी में बोले ओमप्रकाश राजभर - सुभासपा गठबंधन में घरेलू बिजली बिल पांच साल के लिए होगा माफ

जनप्रतिनिधियों के पास जनता बड़ी उम्मीद लेकर जाती है। हमने अपने कार्यकर्ताओं को कहा है कि यदि अधिकारी पीडि़त की बात नहीं सुनतें हैं तो वहीं धरने पर बैठ जाएं जब तक समस्याओं का निस्तारण नहीं हो तब तक बैठे रहें।

Abhishek SharmaSun, 19 Sep 2021 04:57 PM (IST)
ओम प्रकाश राजभर रविवार को सर्किट हाउस में संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे।

वाराणसी, जागरण संवाददाता। सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर ने फिर भाजपा जनप्रतिनिधियों पर तंज कसते हुए कहा कि विधायकों की बात डीएम, एसपी और थानेदार नहीं सुनते हैं। पहले थानों में कोई बात नहीं सुनीं जाती थी तो लोग डीएम और एसपी के बास जाते थे। अधिकारी विधायक की बात नहीं सुनेंगे तो जनता कहां जाएगी।

जनप्रतिनिधियों के पास जनता बड़ी उम्मीद लेकर जाती है। हमने अपने कार्यकर्ताओं को कहा है कि यदि अधिकारी पीडि़त की बात नहीं सुनतें हैं तो वहीं धरने पर बैठ जाएं, जब तक समस्याओं का निस्तारण नहीं हो तब तक बैठे रहें। वह रविवार को सर्किट हाउस में संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि पिछली सरकार में गैस और पेट्रोल की कीमत बढऩे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति इरानी प्याज का माला पहनकर धरने पर बैठी थी। तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को चूड़ी भेंट कर रही थीं। अब बेतहाशा कीमत बढऩे पर कुछ नहीं बोल रही हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सुभासपा गठबंधन सरकार बनते ही घरेलू बिजली बिल पांच साल के लिए माफ कर देंगे। हम किसानों के साथ कल भी थे और आगे भी रहेंगे। किसान नेता राकेश टिकैत के आंदोलन का हम पूरी तरह से समर्थन करते हैं।

आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा नेता गांवों और बस्तियों में नहीं जाते हैं। वह लग्जरी गाडिय़ों से जमीनी हकीकत जानना चाहते हैं लेकिन आने वाले विधानसभा चुनाव में जनता जवाब देने को तैयार है। लगभग सभी पार्टियां गांवों में डेरा डालना शुरू कर दी हैं लेकिन भाजपा नेता डर के मारे नहीं जा रहे हैं। गठबंधन को लेकर उन्होंने कहा कि भाजपा को हराने वाली सभी पार्टियों से सुभासपा समझौता करने को तैयार है लेकिन भाजपा से नहीं। भाजपा जनता पार्टी नहीं, बल्कि ठग पार्टी है। ठगों से हमेशा दूर रहना चाहिए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.