राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन : वाराणसी में बैंक सखी अब समूह और बैंकों के बीच करेंगी ब्रिज का काम

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन में ब्लाकवार चयनित 32 बैंक सखियों को बैंकिंग प्रणाली का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इसका मुख्य उद्देश्य समूह की ग्रामीण महिलाओं और बैंक के बीच एक ब्रिज को तैयार करना है ताकि समूहों को कारोबार में किसी प्रकार की बैंकिंग को लेकर दिक्कत न आए।

Abhishek SharmaTue, 13 Jul 2021 09:56 AM (IST)
राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन में ब्लाकवार चयनित 32 बैंक सखियों को बैंकिंग प्रणाली का प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

जागरण संवाददाता, वाराणसी। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अंतर्गत ब्लाकवार चयनित 32 बैंक सखियों को ऑनलाइन बैंकिंग प्रणाली का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इसका मुख्य उद्देश्य समूह की ग्रामीण महिलाओं और बैंक के बीच एक ब्रिज को तैयार करना है ताकि समूहों को कारोबार में किसी प्रकार की बैंकिंग को लेकर दिक्कत न आए। यह प्रशिक्षण विशेषज्ञ पांच दिन दे रहे हैं।

इस अवधि के समाप्त होने के बाद इतनी ही संख्या में अन्य समहू की महिलाओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा। फेडरेशनों व सदस्यों के समस्याओं के समाधान में दक्ष बैंक सखियां बैंकों के साथ समन्वय कर मदद करेंगीं। बैंकों के विभिन्न बैंकिंग उत्पादों की जानकारी व सेवाएं समूह स्तर पर जरूरतमंद ग्रामीण गरीब परिवार की महिलाओं को मिल सके । बैंक सखियां समूहों के बचत खाता खोलने, ग्राम संगठनों के बचत खाता खोलने, समूहों के क्रेडिट लिंकेज, समूह सदस्यों के बीमा कराने, अटल पेंशन योजना से आच्छादन कराने व ऋण वापसी आदि कराने में सहयोग प्रदान करेंगीं। बैंक सखी संकुल समिति का कैडर है ।

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अधिकारियों का कहना है कि बैंक सखियों के सहयोग से मिशन अंतर्गत समूहों के क्रेडिट लिंकेज की प्रगति को भी गति दी जा सकेगी। बैंक सखियां प्रथम माह में परिवीक्षा अवधि में रहेंगी। इसके बाद उन्हें 2000 से 3250 रुपये तक प्रतिमाह मानदेय प्राप्त होगा। जनपद में पूर्व से 63 बैंक सखियां विभिन्न बैंक शाखाओं में अपनी सेवाएं मिशन के कार्यों हेतु दे रही हैं।

प्रशिक्षण की जिम्मेदारी रिटायर्ड बैंकर व मिशन के डिस्ट्रिक्ट रिसोर्स पर्सन निर्मल को सौंपी गई है। प्रशिक्षण में विभिन्न विषयों पर जिला मिशन प्रबंधक श्रवण कुमार सिंह की ओर से भी जानकारी दी जा रही है। प्रशिक्षण में उपायुक्त स्वत: रोजगार दिलीप सोनकर ने सभी बैंक सखियों को मेहनत और लगन से मिशन में अपनी सेवाएं देने की बात कही। कहा कि बैंक सखियां अपने लिए भी रोजगार सृजित कर रही हैं और दूसरे समूह की जरूरतमंद दीदियों को रोजगार सृजन हेतु फण्ड मुहैया कराने में भी मदद करेंगीं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.