वाराणसी में मुस्लिम महिलाओं ने प्रधानमंत्री के जन्मदिवस पर गाया गीत, जलाए 71 दीप

प्रधानमंत्री के जन्मदिवस पर लमही स्थित इंद्रेश नगर के सुभाष भवन में मुस्लिम महिला फाउंडेशन की महिलाओं ने रंगोली बनाकर सोहर गाया। इसके बाद 71 दीप जलाकर पीएम के तस्वीर की आरती उतारी। उनको प्रतीकात्मक रूप से लड्डू खिलाया।

Abhishek SharmaFri, 17 Sep 2021 03:08 PM (IST)
इंद्रेश नगर के सुभाष भवन में मुस्लिम महिला फाउंडेशन की महिलाओं ने रंगोली बनाकर, सोहर गाया।

वाराणसी, जागरण संवाददाता। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिवस पर लमही स्थित इंद्रेश नगर के सुभाष भवन में मुस्लिम महिला फाउंडेशन की महिलाओं ने रंगोली बनाकर, सोहर गाया। इसके बाद 71 दीप जलाकर पीएम के तस्वीर की आरती उतारी। उनको प्रतीकात्मक रूप से लड्डू खिलाया। उसके बाद सुभाष भवन में लड्डू वितरण किया गया। दुनिया के अन्य देशों की तरह भारत की मुस्लिम महिलाओं की जिन्दगी कल तक मुल्लाओं के रहमो करम पर आश्रित थी। तीन तलाक की बेड़ियों से जकड़ी हुयीं और हलाला के अपमान की आग में जलती हुयीं मुस्लिम महिलाओं की जिन्दगी बदतर हो चुकी थी।

शौहर के घर से कभी भी बेदखल कर दिये जाने के खौफ से पीड़ित मुस्लिम महिलाओं की जिन्दगी अनिश्चित थी। निकाह के बाद उनको कोई कानूनी अधिकार नहीं था जिससे सामाजिक सुरक्षा मिल सके। वर्ष 2013 में काशी से मुस्लिम महिलाओं ने मुस्लिम महिला फाउण्डेशन की नेशनल सदर नाजनीन अंसारी के नेतृत्व में तीन तलाक के खिलाफ आंदोलन शुरू किया और नरेन्द्र मोदी को चिट्ठी लिखकर समर्थन मांगा। जब नरेन्द्र मोदी भारत के प्रधानमंत्री बने तब उन्होंने मुस्लिम महिलाओं की इस मांग को कानूनी जामा पहनाने के लिये सरकार तक को दांव पर लगा दी। एक तरफ सभी दल तीन तलाक के खिलाफ कानून का विरोध कर रहे थे और दूसरी तरफ मुस्लिम महिलाओं की पीड़ा के साथ नरेन्द्र मोदी अकेले खड़े थे। तीन तलाक के खिलाफ कानून बना, मुस्लिम महिलाओं को जीवन जीने का हक मिला। हलाला के नाम पर आये दिन मुस्लिम महिलाओं के साथ हो रही घृणित यौन हिंसा से आजादी मिली और धर्म के नाम पर महिलाओं की जिन्दगी से खेलने वाले मुल्लों को कानून का खौफ दिखायी दिया। इस एहसान को मुस्लिम महिलायें कभी नहीं भूलीं।

पीएम नरेन्द्र मोदी के जन्मदिन पर मुस्लिम महिला फाउण्डेशन की महिलाओं ने इन्द्रेश नगर लमही के सुभाष भवन में मुस्लिम बेटियों के अभिभावक मोदी विषयक कार्यक्रम के अन्तर्गत युग के नेता नरेन्द्र मोदी के तस्वीर की आरती उतार कर शुक्रिया अदा किया। मुस्लिम महिलाओं ने रंगोली बनायी, ढ़ोल की थाप पर सोहर गाया, मोदी की तस्वीर को लड्डू खिलाया और नारा लगाया ‘मुस्लिम बहनें करे पुकार, हर जगह हो मोदी सरकार।‘ अनाज बैंक ने जरूरतमंदों को अनाज वितरित कर कोई भी भूखा न रहने का संदेश दिया। 71 दीप जलाये।

इस अवसर पर मुस्लिम महिला फाउण्डेशन की नेशनल सदर नाजनीन अंसारी एवं विशाल भारत संस्थान की केन्द्रीय परिषद की नेता नजमा परवीन ने घोषणा किया कि 5000 मुस्लिम बेटियां नरेन्द्र मोदी को चिट्ठी लिखकर मुस्लिम महिला अधिकार दिवस देने के लिये शुक्रिया कहेंगी और दुनियां भर की मुस्लिम महिलाओं की अपेक्षा भारत की मुस्लिम महिलाओं को ताकतर बनाने के लिये धन्यवाद कहेंगी। अन्य देशों के राष्ट्राध्यक्षों को भी चिट्ठी लिखकर मोदी की तरह मुस्लिम महिलाओं के सामाजिक सुरक्षा के लिये काम करने हेतु कहेंगी। विशाल भारत संस्थान की नजमा परवीन ने कहा कि मुस्लिम समाज अपनी बेटियों के सामाजिक सुरक्षा की गारंटी देने के लिये सदैव नरेन्द्र मोदी का ऋणी रहेगा।

विशाल भारत संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. राजीव श्रीवास्तव ने कहा कि भारत में मुस्लिम महिलाओं को कानूनी आजादी मिली है। सामाजिक कुरीतियों की बेड़ियों में जकड़कर गुलाम बनाने वाली मुस्लिम कट्टरपंथी सोच को मुस्लिम महिलाओं ने खुद ही नकार दिया है। हिन्दुस्तान की सभी वर्ग की महिलायें मुस्लिम बेटियों की आजादी के साथ खड़ी हैं। तीन तलाक और हलाला जैसे अपराधों के लिये मुस्लिम कट्टरपंथियों को कभी क्षमा नहीं किया जा सकता। नरेन्द्र मोदी ने पीड़ा और अपमान से मुस्लिम महिलाओं को आजादी दिलाया, सम्मान दिलाया, इसे कोई भी मुस्लिम महिला कभी नहीं भूल सकती।

मुस्लिम महिला फाउण्डेशन की नेशनल सदर नाजनीन अंसारी ने कहा कि नरेन्द्र मोदी मुस्लिम बेटियों के लिये अभिभावक हैं। जो उनके घर बसाने की चिन्ता करते हैं, तोड़ने की नहीं। मोदी जैसा न कोई हुआ है, न होगा। मुस्लिम महिलाओं के लिये मोदी उद्धारक हैं। इस कार्यक्रम में नगीना बेगम, नाजमा बेगम, शबाना, रशीदा, तबस्सुम, गुलफ्शा, यास्मीन, हदीसुन, नाजिया, समीमा, नसीबुन, रशीदा, जहिरून, तबस्सुम, शमसुननिशा, शहनम, अर्चना भारतवंशी, डा. मृदुला जायसवाल, खुशी रमन भारतवंशी, इली भारतवंशी, उजाला भारतवंशी, दक्षिता भारतवंशी आदि लोगों ने भाग लिया।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.