Mission UP 2022 : भाजपा के वरिष्ठ पदाधिकारियों को फोन कर वाराणसी की नब्ज टटोल रहे अमित शाह

मिशन यूपी 2022 को लेकर भाजपा ने काम शुरू कर दिया है। खुद गृह मंत्री अमित शाह बनारस की नब्ज टटोल रहे हैं। पदाधिकारियों को सीधे खुद फोन कर रहे हैं। रविवार सुबह जब प्रदेश प्रवक्ता अशोक पांडेय को फोन आया तो अमित शाह की आवाज सुनकर चौंक गए।

Saurabh ChakravartySun, 13 Jun 2021 03:53 PM (IST)
रविवार सुबह जब प्रदेश प्रवक्ता अशोक पांडेय को फोन आया तो अमित शाह की आवाज सुनकर चौंक गए।

वाराणसी, जेएनएन। मिशन यूपी 2022 को लेकर ग्रास लेवल पर भाजपा ने काम शुरू कर दिया है। इसमें खुद गृहमंत्री अमित शाह बनारस की नब्ज टटोल रहे हैं। पदाधिकारियों को सीधे खुद फोन कर विकास कार्य से लेकर संगठन तक की चर्चा कर रहे। कोरोना काल में सरकारी इंतजाम व भाजपा के सेवा कार्य का भी फीडबैक भी ले रहे हैं। रविवार सुबह जब प्रदेश प्रवक्ता अशोक पांडेय को फोन आया तो अमित शाह की आवाज सुनकर चौंक गए। उनके आत्मीय भाव ने विभोर जिज्ञासा बढ़ा दी। अशोक पांडेय ने पहले अपने बारे में बताया फिर अमित शाह के सवालों का जवाब दिया।

बनारस में हो रहे विकास कार्य व जनता के लिए सुविधा व उपयोगिता की जानकारी दी। संगठन के कार्यों से अवगत कराया। खुद की इच्छा भी साझा की तो कोरोना संक्रमण काल में सरकारी स्तर से दी गई सुविधा व जनता की प्रतिक्रिया के साथ ही भाजपा की ओर से किए गए सेवा कार्यों से अवगत कराया। इसके बाद उन्होंने बनारस के कमिश्नर और डीएम के कार्य व्यवहार की भी चर्चा की। अमित शाह ने प्रदेश प्रवक्ता से पूछा कि संसाधन की कमी तो नहीं है। अमित शाह के सवालाें पर अशोक पांडेय ने बिंदुवार कम शब्दों में कई जानकारी दी। बताया कि कोविड को लेकर पहले तो परेशानी बढ़ी थी। आक्सीजन व दवाओं को लेकर संक्रमितों को मुश्किलें आईं लेकिन बाद में हालात सामान्य हुए। ट्रेन से आक्सीजन के टैंकर आए तो प्लांटों में उत्पादन क्षमता बढ़ाई गई। पं. दीनदयाल उपाध्याय राजकीय अस्पताल समेत अन्य में चिकित्सा इकाइयों में आक्सीजन प्लांट स्थापना की कवायद तेज हुई। अस्पतालों की निगरानी शुरू हुई जिससे मरीजों व उनके परिवारीजनों को आर्थिक संकट नहीं झेलना पड़ा। डीआरडीओ के सक्रिय होने के बाद अस्पतालों में बेड की कमी दूर हो गई। त्वरित कार्यवाही का परिणाम रहा कि बनारस में तेजी से कोविड नियंत्रण हो सका।

संगठन में जिम्मेदारी को लेकर असंतोष

संगठन को लेकर अशाेक पांडेय ने बिना संकोच गृहमंत्री अमित शाह के समक्ष बात रखी। उन्होंने कहा कि पदों पर जिम्मेदारी देने में योग्यता को ध्यान में रखना होगा। कई अनुभवी, निष्ठावान व क्षमतावान कार्यकर्ता संगठन की जिम्मेदारियों से वंचित हैं। अशोक पांडेय ने संगठन में जिम्मेदारियों को लेकर ब्राह्मणाें की उपेक्षा को भी सामने रखा। उदाहरण के तौर पर खुद की ओर ध्यान आकृष्ट कराया। कहा कि लंबे समय से उन्हें जिम्मेदारी नहीं सौंपी गई जबकि सक्रियता में कहीं कमी नहीं है।

बड़ी तादाद में प्रकोष्ठों में जिम्मेदारी

मिशन यूपी 2022 के तहत प्रदेश भाजपा ने असंतुष्टाें को जिम्मेदारी सौंपने की तैयारी कर ली है। इसके लिए प्रकोष्ठों व विभागों का नव गठन होने जा रहा है। इसके संकेत प्रदेश संगठन महामंत्री सुनील बंसल ने नौ जून को बनारस प्रवास के दौरान दिए। जिले में करीब 19 प्रकोष्ठ व विभाग हैं। जाति-धर्म व कर्म आधारित प्रकोष्ठों के पदों की जिम्मेदारी सौंपकर संगठन में असंतोष को कम करने की कोशिश की जाएगी। सुनील बंसल ने स्पष्ट किया है कि इन पदों पर नियुक्ति के लिए अनुभव, निष्ठा व क्षमता के आकलन को आधार बनाया जाए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.