Kisan Tractor Rally : वाराणसी में 6500 से अधिक ट्रैक्टर मालिकों को नोटिस, तहसीलों पर रहेगी विशेष सतर्कता

वाराणसी पुलिस की ओर से 6500 सेे अधिक ट्रैक्टर मालिकों को नोटिस दिया गया है।

गणतंत्र दिवस पर विपक्षी दलों के ट्रैक्टर मार्च को लेकर पुलिस अतिरिक्त सतर्कता बरत रही है। इस परिप्रेक्ष्य में पुलिस की ओर से 6500 सेे अधिक ट्रैक्टर मालिकों को नोटिस दिया गया है। हिदायत दी गई है कि मंगलवार को वे टै्रक्टर नहीं निकालेंगे।

Publish Date:Tue, 26 Jan 2021 06:20 AM (IST) Author: Saurabh Chakravarty

वाराणसी, जेएनएन। गणतंत्र दिवस पर विपक्षी दलों के ट्रैक्टर मार्च को लेकर पुलिस अतिरिक्त सतर्कता बरत रही है। इस परिप्रेक्ष्य में पुलिस की ओर से 6500 सेे अधिक ट्रैक्टर मालिकों को नोटिस दिया गया है। हिदायत दी गई है कि मंगलवार को वे टै्रक्टर नहीं निकालेंगे। उधर, खुफिया तंत्र ने किसानों के आंदोलन के समर्थन में समाजवादी पार्टी की ओर से तहसील स्तर पर टै्रक्टर रैली निकालने के आह्वान पर अलर्ट किया है। कहा गया है कि पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने अधिक संख्या में रैली में तहसीलों पर पहुंचने की रणनीति बनाई है।

इस दृष्टि से राजातालाब, पिंडरा,व सदर तहसील तक रैली निकाले जाने की बात कही गई है। यह भी कहा गया है कि पुलिस द्वारा बाधा उत्पन्न करने पर पार्टी कार्यकर्ता जिले के विभिन्न स्थानों से छिटपुट संख्या में कार्यक्रम स्थल पर पहुंच सकते हैं। विशेष रूप से सदर तहसील पर पार्टी के कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों के पहुंचने की प्रबल संभावना है। दूसरी ओर सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के तत्वावधान में तिरंगा यात्रा निकाले जाने का कार्यक्रम प्रस्तावित है। यात्रा आशापुर, पुराना आरटीओ चौराहा, पहडिय़ा, पुलिस लाइन होते हुए जिला मुख्यालय पहुंचकर ज्ञापन सौंपने के बाद संपन्न होगी। कार्यक्रम में पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर के भी पहुंचने की संभावना है। इस मद्देनजर पुलिस को चौकन्ना किया गया है। सुभासपा के एक पदाधिकारी को पुलिस ने हिरासत में लिया है।  

सपा ने मार्च का किया है एलान

सपा ने जिले में मार्च निकालने का एलान भी कर दिया है। इसको लेकर सपा के अर्दली बाजार कार्यालय में बैठक भी हुई। वहीं, अंदरखाने कांग्रेस की ओर से भी इसकी तैयारी हो रही है।

नंबर सर्विलांस पर, बदला पैंतरा

पुलिस प्रशासन ने इन दलों के नेताओं के मोबाइल नंबर सॢवलांस पर लगा दिया तो उन्होंने भी पैंतरा बदला है। सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए वाट्सएप से बात कर रहे हैं। सरदार सेना के आंदोलन को लेकर भी खुफिया नजरें गड़ी हैं।

रोहनिया सर्वाधिक संवेदनशील

किसान आंदोलन को लेकर रोहनिया विधानसभा क्षेत्र को सर्वाधिक संवेदनशील माना जा रहा है। इस क्षेत्र में पहले से ही कई मसलों पर किसान आंदोलित रहे हैं। ट्रांसपोर्ट नगर योजना इसमें प्रमुख है। कांग्रेस व सपा की ओर से भी क्षेत्र में पूर्व में किसानों को लेकर कार्यक्रम हो चुके हैं।

धारा 144 लागू है

धारा 144 लागू है। आंदोलन के रूप में लोग सड़कों पर आएंगे तो कार्रवाई होगी। ट्रैक्टर कृषि के लिए होता है उसी के लिए उपयोग कर सकेंगे। मार्च निकालेंगे तो सख्ती की जाएगी।

- अमित पाठक, एसएसपी

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.