वाराणसी में 20 दिनों में पंद्रह गुना बढ़ी कोरोना संक्रमण की दर, दो दिन में मिले 104 पॉजिटिव, एक की मौत

कोरोना संक्रमण इस बार पहले के मुकाबले तेजी से फैल रहा है।

कोरोना संक्रमण इस बार पहले के मुकाबले तेजी से फैल रहा है। विगत 10 मार्च को जहां 2469 सैंपल की जांच में केवल पांच पॉजिटिव मिले थे और संक्रमण दर 0.20 थी वहीं होली के दिन 2237 की जांच में 68 पॉजिटिव केस मिले।

Saurabh ChakravartyWed, 31 Mar 2021 06:50 AM (IST)

वाराणसी, जेएनएन। कोरोना संक्रमण इस बार पहले के मुकाबले तेजी से फैल रहा है। विगत 10 मार्च को जहां 2469 सैंपल की जां च में केवल पांच पॉजिटिव मिले थे और संक्रमण दर 0.20 थी, वहीं होली के दिन 2237 की जांच में 68 व मंगलवार को 1269 सैंपल की जांच में 36 पॉजिटिव केस मिले। इस तरह पिछले 48 घंटे में कुल 104 कोरोना के नए मरीज मिले। दोनों दिन संक्रमण की दर क्रमश: 3.03 व 2.83 रही और बीते 20 दिनों में संक्रमण की दर 14 से 15 गुना तक बढ़ गई है। मंगलवार को बीएचयू हास्पिटल में भर्ती अन्नपूर्णा नगर कॉलोनी निवासी 49 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गई। विगत एक सप्ताह में कोरोना से यह दूसरी मौत है।

त्योहार पर संक्रमण की तीव्र गति ने न केवल स्वास्थ्य विभाग बल्कि जिला प्रशासन को चिंता में डाल दिया है। शासन स्तर से होनी वीडियो कांफ्रेंसिंग में जिलाधिकारी से लेकर सीएमओ तक को हर पल अलर्ट मोड पर रहते हुए हर संभव प्रबंध करने का निर्देश मिला है। जिले में 10 मार्च को सक्रिय कोरोना मरीजों की संख्या महज 50 थी, जो 20 दिन बाद यानी 30 मार्च बढ़कर 398 हो गई है।

अब तक कुल 7,69,903 सैंपल की जांच की जा चुकी है, इनमें 7,47,320 निगेटिव व 22,583 पॉजिटिव रहे। हालांकि पॉजिटिव में से 20 मार्च को 25 व 30 मार्च को 28 मरीज की रिपोर्ट निगेटिव आने पर उन्हें स्वस्थ घोषित कर दिया गया। वहीं अब तक 21,806 मरीज ठीक भी हो चुके हैं।

डीएम ने किया लेवल-टू हॉस्पिटल का निरीक्षण, तैयारी रखने का निर्देश

कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने मंगलवार को कोविड लेवल-टू हॉस्पिटल दीनदयाल उपाध्याय राजकीय चिकित्सालय की ओपीडी व आइसोलेशन वार्ड का निरीक्षण किया। उन्होंने सीएमएम डा. वी. शुक्ला को निर्देश दिया कि कोविड मरीजों की तेजी से बढ़ती संख्या को देखते हुए सभी तैयारियां समय से पूरी कर ली जाएं। मरीजों को पौष्टिक भोजन समय से उपलब्ध हो। नए मरीजों के लिए सरकार की ओर से जारी प्रोटोकाल का कड़ाई से पालन हो। उन्होंने कहा कि कोरोना का नया वैरिएंट खतरनाक है और पहले के मुकाबले तेजी से फैल भी रहा है। इसलिए सुरक्षात्मक तरीका अपनाते हुए इलाज करने की जरूरत है। डीएम ने कोरोना के लिए उपलब्ध आवश्यक दवाओं के स्टॉक व जांच की व्यवस्था भी देखी। सीएमएस डा. शुक्ला ने बताया कि अस्पताल में कोरोना के चार मरीज भर्ती हैं। दो महीने के अंतराल पर पहला मरीज 24 मार्च को अस्पताल में भर्ती हुआ था। इस दौरान दो महीने तक अस्पताल में मरीज नहीं थे।इलाज के लिए अस्पताल में सभी जरूरी संसाधन, दवाई, स्टाफ हैं। करीब 42 डॉक्टर व 65 नर्सिंग स्टाफ तीन शिफ्ट में ड्यूटी कर रहे हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.