वाराणसी में माननीयों के स्वीकृत 100 से अधिक परियोजनाएं अधूरी, सीडीओ ने सभी एजेंसियों को जारी की चेतावनी

जनप्रतिनिधियों ने अपने-अपने विधानसभा क्षेत्र में डेवलपमेंट पर विधानमंडल क्षेत्र विकास निधि की धनराशि खर्च करने में कोई संकोच नहीं की। दिल खोलकर जरूरत मुताबिक धनराशि रीलिज की। किसी ने सड़क तो किसी ने नाली स्कूल बाउंड्री कोविड में आक्सीजन प्लांट आदि के लिए प्रस्तावित कार्ययोजना पर मुहर लगाई।

Saurabh ChakravartyThu, 24 Jun 2021 08:50 AM (IST)
वाराणसी में माननीयों के स्वीकृत 100 से अधिक परियोजनाएं अधूरी है।

वाराणसी, जेएनएन। जनप्रतिनिधियों ने अपने-अपने विधानसभा क्षेत्र में डेवलपमेंट पर विधानमंडल क्षेत्र विकास निधि की धनराशि खर्च करने में कोई संकोच नहीं की। दिल खोलकर जरूरत मुताबिक धनराशि रीलिज की। किसी ने सड़क तो किसी ने नाली, स्कूल बाउंड्री, कोविड में आक्सीजन प्लांट आदि के लिए प्रस्तावित कार्ययोजना पर मुहर लगाई। लेकिन एजेसियों ने दिलचस्पी नहीं दिखाई। रफ्तार बनी तो कोविड की पहली व दूसरी लहर खलनायक बनकर खड़ी हो गई। सुस्ती का आलम इस कदर की 100 से अधिक परियोजनाएं अभी जमीन पर आकार लेने को शेष पड़ी हुई हैं। पूर्ण कराने के लिए महज चार माह का समय अवशेष है। विधानसभा चुनाव को लेकर जैसे ही अधिसूचना जारी होगी। अधूरे कार्यों पर ब्रेक लगना तय है।

बहरहाल, विधानसभा क्षेत्रवार आंकड़ों की बात करें तो कैंट विधानसभा क्षेत्र के विधायक सौरभ श्रीवास्तव की ओर से 173 छोटी-बड़ी परियोजनाओं के लिए 510 लाख की धनराशि जारी की गई लेकिन अब तक 146 कार्य ही पूर्ण हो सके हैं। जमीन पर आकार लेने के लिए 27 परियोजनाएं इंतजार में हैं। कमोवेश कुछ यही हाल दक्षिणी विधानसभा क्षेत्र का भी है। इस क्षेत्र के विधायक व मंत्री डा. नीलकंठ तिवारी ने 27 कार्यों पर मुहर लगाई। निधि से 389 लाख रुपये जारी हुए किंतु 21 परियोजनाएं ही पूरी हो सकीं। जबकि छह अभी अधूरी पड़ी हैं। उत्तरी विधानसभा क्षेत्र के विधायक व मंत्री डा. रविंद्र जायसवाल की ओर से 634 लाख की 210 परियोजनाओं की स्वीकृति दी गई लेकिन अब तक 197 ही पूरी हुई हैं। जमीन पर 13 अधूरी पड़ी हैं।शिवपुर विधानसभा क्षेत्र के विधायक अनिल राजभर ने 70 परियोजनाओं के लिए 478 लाख विधायक निधि से जारी की लेकिन 50 ही अब तक पूर्ण हैं। 20 जमीन पर आकार लेने की राह देख रही हैं।

पिड़रा विधानसभा क्षेत्र के विधायक डा. अवधेश सिंह की ओर से 49 परियोजनाओं की स्वीकृति दी गई। कुल 364 लाख जारी हुए लेकिन 40 ही परियोजनाएं साकार हुई। शेष निर्माण की राह देख रहीं हैं। सेवापुरी विधानसभा क्षेत्र के विधायक नील रतन सिंह पटेल की ओर से 64 परियोजनाओं पर मुहर लगाई गई। इस्टीमेट मुताबिक 678 लाख की राशि जारी हुई। इसमें 59 पूर्ण हुई। शेष पांच अधूरी हैं। अजगरा विधानसभा क्षेत्र के विधायक कैलाश नाथ सोनकर की ओर से स्वीकृत 58 परियोजनाओं के लिए 626 लाख जारी हुए। जमीन पर 49 पूरी हो चुकी हैं। शेष नौ एजेंसी को पूरा कराना है। रोहनिया विधानसभा क्षेत्र के विधायक सुरेंद्र नारायण सिंह ने 118 परियोजनाओं पर मुहर लगाई। कुल लगभग 474 लाख की राशि जारी हुई लेकिन 106 पूरी हुई। शेष 12 पूर्ण होने की राह देख रही हैं।

सीडीओ का अल्टीमेटम

कार्यदायी एजेंसियों को सीडीओ मधुसूदन हुल्गी की ओर से अल्टीमेटम दिया गया है कि शीघ्र कार्य पूरा कराएं। नवम्बर- दिसंबर तक विधानसभा चुनाव को लेकर अधिसूचना जारी होने की उम्मीद है। अधिसूचना के बाद कार्य करा पाना मुश्किल होगा। इसलिए नवम्बर तक कार्य को हरहाल में पूरा कराएं। लापरवाही किसी कीमत पर नहीं होनी चाहिए।

अब प्रत्येक वित्तीय वर्ष में तीन करोड़

विधानमंडल क्षेत्र विकास निधि में अब प्रत्येक वित्तीय वर्ष माननीय को तीन करोड़ रुपये क्षेत्र के विकास के लिए मिलेंगे। पहले यह राशि दो करोड़ ही मिलती थी। यह वर्ष वित्तीय वर्ष 2021 से प्रभावी बताया जा रहा है।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.