दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

वाराणसी में गोदाम भरने से केंद्रों पर गेहूं की खरीद बंद, फसल खरीद नहीं होने से अन्नदाता परेशान

अजगरा क्रय केंद्र में रखा गेहूं का बोरा। गोदाम भरने से बंद है।

गेहूं क्रय केंद्रों पर गोदाम भरने के कारण गेहूं की खरीद बंद होने के कगार पर है। किसानों का ट्रैक्टर का किराया भी बर्बाद हो रहा है। इस वर्ष गत वर्ष की तुलना में फसल अधिक हुई है। जिस कारण ज्यादा मात्रा में किसान अपनी फसल को बेंच रहे हैं।

Saurabh ChakravartySun, 16 May 2021 07:15 PM (IST)

वाराणसी, जेएनएन। गेहूं क्रय केंद्रों पर गोदाम भरने के कारण गेहूं की खरीद बंद होने के कगार पर है। वहीं कुछ जगहों पर खरीद बंद भी हो गई है। इससे किसान परेशान हैं। बहुतेरे किसान कई किलोमीटर की दूरी से ट्रैक्टर पर अपनी फसल लेकर आ रहे हैं लेकिन गोदाम में जगह नहीं होने से क्रय केंद्र प्रभारी उनको फसल सहित वापस कर दे रहे हैं। जिससे किसान मायूस हो रहे हैं। किसानों का ट्रैक्टर का किराया भी बर्बाद हो जा रहा है। इस वर्ष गत वर्ष की तुलना में फसल अधिक हुई है। जिस कारण ज्यादा मात्रा में किसान अपनी फसल को बेंच रहे हैं। क्रय केंद्र प्रभारियों का कहना है कि गेहूं उठान के लिए उच्चाधिकारियों को सूचित कर दिया गया है। वहीं गत दिनों पूर्व केंद्रों पर बोरी नहीं होने के कारण भी गेहूं की खरीद बंद हो गई थी।

ब्लॉकवार क्रय केंद्र के गोदाम का हाल

चोलापुर : इस ब्लॉक में कुल 5 केंद्र बनाए गए हैं। जिसमें मुनारी, चोलापुर ब्लॉक, अजगरा, भदवां, रौनाकलां शामिल है। यहां केवल रौनाकलां केंद्र में ही खरीदारी हो रही है। वहीं अजगरा, भदवां केंद्र का गोदाम भर चुका है। यहां खरीदारी बंद है। चोलापुर ब्लॉक स्थित केंद्र प्रभारी जितेंद्र यादव ने बताया कि गोदाम पूरी तरह भर चुका है। सोमवार से खरीदारी बंद कर देंगे।

हरहुआ : इस ब्लॉक में कुल 3 केंद्र बनाएं गए हैं। जिसमें आयर, विपणन शाखा गोसाईपुर और गोसाईपुर समिति शामिल हैं। सभी गोदाम भरे हैं। जिस कारण खरीद प्रभावित हो रही है। आयर केंद्र प्रभारी दुर्गा मिश्र ने बताया कि गोदाम भरने से खरीदारी बंद करनी पड़ी है। गोसाईपुर विपणन शाखा के प्रभारी ने बताया कि एफसीआई में सूचना देने पर गोदाम खाली करवा दिया गया है।

बड़ागांव : इस ब्लॉक में 3 क्रय केंद्र है। यहां गांग खुर्द केंद्र खाली है। वहीं अनेई केंद्र पर बड़े किसानों से खरीद बंद कर दी गई है। अगर गोदाम खाली नहीं हुआ तो छोटे किसानों से भी खरीद बंद करनी पड़ेगी। बेलवा केंद्र का गोदाम भर चुका था। रविवार शाम को गाड़ी आयी तब गोदाम खाली हुआ।

पिंडरा : इस ब्लॉक में 3 क्रय केंद्र बनाया गया है। फूलपुर केंद्र का गोदाम भरने से खरीदारी बंद है। बाबतपुर केंद्र पर बोरी नहीं होने से खरीदारी बंद है। मरूई छतावं केंद्र में यदि गोदाम खाली नहीं हुआ तो तीन दिन के बाद खरीदारी बंद करनी पड़ेगी।

काशी विद्यापीठ : यहां केवल केसरीपुर में एक केंद्र है। यहां गोदाम खाली है। यहां किसान कम पहुंच रहे हैं।

चिरईगांव : इस ब्लॉक में चार केंद्र बनाए गए हैं। यहां छाही, नारायणपुर और गौरा केंद्र पर खरीदारी हो रही है। वहीं उमरहा केंद्र बंद चल रहा है। केंद्र प्रभारी ओमप्रकाश ने जानकारी देने से इनकार कर दिया।

आराजीलाइन : इस ब्लॉक में दो क्रय केंद्र बनाए गए हैं। यहां भीखीपुर गोदाम प्रभारी विभूति नारायण श्रीवास्तव ने बताया कि यदि दो दिनों में गोदाम खाली नहीं होगा तो क्रय बंद करना पड़ेगा। वहीं दरेखु केंद्र पर ताला बंद था।

सेवापुरी : इस ब्लॉक में दो केंद्र बनाए गए हैं। कपसेठी केंद्र प्रभारी दयाशंकर ने बताया कि गोदाम भरने के कारण खरीदारी में समस्या हो रही थी। उच्चाधिकारियों को सूचना देने पर शनिवार को गोदाम खाली कराया गया है। वहीं सेवापुरी में दो दिन से क्रय केंद्र बंद है।

ठेकेदारों की पेंच कसते हुए निर्देश दिया कि दो दिन में गोदाम खाली करें

गोदाम भरने की सूचना पर शनिवार को हमनें कई केंद्रों का निरीक्षण किया। इसके बाद ठेकेदारों की पेंच कसते हुए निर्देश दिया कि दो दिन में गोदाम खाली करें। फिर भी यदि किसी केंद्र प्रभारी या किसान को कोई समस्या हो रही है तो हमें 7839565147 पर सूचित करें।

अरुण कुमार त्रिपाठी, जिला खाद्य विपणन अधिकारी।

वाराणसी में गेहूं खरीद

5110 एमटी गेहूं की खरीद हुई है इस वर्ष अब तक

08 सौ एमटी गेहूं की खरीद हुई थी गत वर्ष

1047 किसानों को मिला है इस वर्ष में अब तक लाभ

10 करोड़ रुपये की अब तक हुई है खरीद

08 सौ किसानों का हो चुका है भुगतान

247 किसानों के भुगतान की चल रही है प्रकिया

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.