नहीं उठेगा कूड़ा तो तुरंत मिलेगा SMS, घर के बाहर क्यूआर कोड लगाया जाएगा

घर से कूड़े का उठान नहीं हुआ तो सिटी कमांड एंड कंट्रोल रूम को मिनटों में पता चल जाएगा।
Publish Date:Mon, 28 Sep 2020 06:20 AM (IST) Author: Saurabh Chakravarty

वाराणसी, जेएनएन। स्वच्छ भारत मिशन के तहत स्मार्ट सिटी वाराणसी में तेज गति से कदम उठाया जा रहा है। नगर आयुक्त गौरांग राठी ने बड़ा कदम उठाते हुए घर-घर कूड़ा उठान के लिए मुंबई आधारित ग्लोबल कंपनी एजी इनवायरो कंपनी से अनुबंध किया गया है। इस योजना में हाइटेक सिस्टम का इस्तेमाल किया जाएगा। अंदाजा इससे ही लगा सकते हैं कि यदि आपके घर से कूड़े का उठान नहीं हुआ तो सिटी कमांड एंड कंट्रोल रूम को मिनटों में पता चल जाएगा। इसकी जानकारी उसे एसएमएस से हो जाएगी।

इस स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट पर तेजी से काम किया जा रहा है। यहां कुछ इस तरह की व्यवस्था की जा रही है, जिससे मोहल्ले या गली तक में हर घर की निगरानी की जा सके। यहां इस समय घर-घर से कचरा उठाने का काम शुरू किया जा रहा है। इन कामों की निगरानी करने के लिए घरों की बाहरी दीवारों पर बार कोड लगाने की योजना है। इसके तहत जैसे ही कूड़ा उठाने की गाड़ी घर के बाहर से गुजरेगी, वैसे ही बार कोड को स्कैन करके रेडियो फ्रिक्वेंसी आइडी चिप सेंट्रल सर्वर को डाटा भेज देगा। बार कोड का सबसे बड़ा फायदा यह है कि अगर सफाईकर्मी, सफाई करने के लिए नहीं पहुंचा तो बार कोड से उनकी लापरवाही सामने आ जाएगी। ऐसे में सेंट्रल सर्वर में बैठे अधिकारी को इस लापरवाही के बारे में फौरन पता लग जाएगा। वह फिर से सफाईकर्मी को कूड़ा साफ करने के लिए उस घर में भेज देंगे।

हाइटेक सिस्टम से कूड़ा उठान को लेकर जनता में भी उत्साह है। इसका फायदा ये होगा कि पहले लोग गाड़ी नहीं आने पर नुक्कड़ और चौराहों पर कूड़ा फेंक देते थे। जिससे गंदगी फैलती थी लेकिन इस बार कचरा सीधे कचराघर में ही जाएगा। चौराहे, सड़कें व गलियां साफ रहेंगी। क्यूआर कोड से कर्मचारियों की हाजिरी स्वच्छ भारत मिशन में कर्मचारियों की हाजिरी क्यूआर कोड के जरिए ही लगाई जाएगी। इसमें कार्यक्षेत्र में उनकी उपस्थिति का विवरण होगा। इसके अलावा जो गाडि़यां कचरा उठान का काम करेंगी, उनकी निगरानी के लिए जीपीएस सिस्टम लगाया जाएगा। नगर की मुख्य सड़कों की सफाई के लिए मशीन का इस्तेमाल किया जाएगा। सामुदायिक व सार्वजनिक शौचालय की सफाई जेटिंग मशीन से की जाएगी।

घर-घर कूड़ा उठान चरणबद्ध तरीके से होगा

घर-घर कूड़ा उठान चरणबद्ध तरीके से होगा। इसमें हाईटेक मशीनों का इस्तेमाल हो रहा है। लक्ष्य है कि कचरा के नाम पर शहर में एक तिनका भी नजर न आए। इसके लिए मुंबई की एक ग्लोबल कंपनी से अनुबंध किया गया है।

-देवीदयाल वर्मा, अपर नगर आयुक्त, नगर निगम वाराणसी।

थर्ड पार्टी वसूलेगी यूजर चार्ज

नगर निगम प्रशासन घर-घर कूड़ा उठान की कवायद दो अक्टूबर से शुरू करने जा रहा है। इसके लिए एजी इनवायरो कंपनी से अनुबंध किया है। हर यूजर के सापेक्ष 94 रुपये नगर निगम प्रशासन की ओर से कंपनी को देना होगा। हालांकि, नगर निगम प्रशासन ने यूजर से कितना रुपये लेगी, इसको लेकर मंथन जारी है। रविवार की रात आठ बजे कैंप कार्यालय में नगर आयुक्त गौरांग राठी ने वर्ष 2019 में बनाए गए यूजर रेट स्लैब की फाइल को निकाला है जिसको आधार बनाकर वर्तमान परिवेश में यूजर चार्ज का रेट तय होगा। वहीं, थर्ड पार्टी यूजर चार्ज वसूलेगी।पुराने रेट में 500 वर्गफीट क्षेत्रफल व उससे अधिक के घर से 50 रुपये, 500 वर्गफीट से कम होगा तो 30 रुपये व कच्चा मिट्टी का घर है तो 20 रुपये लिया जाएगा। ऐसे ही पान की दुकान से लेकर स्कूल व माल तक का रेट निर्धारण किया गया है जिसमें 50 रुपये से लेकर 45 सौ रुपये प्रति माह देय होगा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.