मऊ में मुख्तार अंसारी के उच्च श्रेणी बंदी मामले की सुनवाई टली, 28 जुलाई को नई तिथि

बांदा जेल में निरूद्ध सदर विधायक मुख्तार अंसारी उच्च श्रेणी बंदी की सुविधा मांगने वाले मामले पर शुक्रवार को सुनवाई टल गई। अब यह सुनवाई 28 जुलाई को होगी। फर्जी असलहा लाइसेंस मामले में आरोपित आधा दर्जन लोगों के साथ विधायक के विरूद्ध गैंगस्टर का मामला पंजीकृत है।

Saurabh ChakravartyFri, 23 Jul 2021 06:02 PM (IST)
मुख्तार अंसारी उच्च श्रेणी बंदी की सुविधा मांगने वाले मामले पर शुक्रवार को सुनवाई टल गई।

मऊ, जागरण संवाददाता। बांदा जेल में निरूद्ध सदर विधायक मुख्तार अंसारी उच्च श्रेणी बंदी की सुविधा मांगने वाले मामले पर शुक्रवार को सुनवाई टल गई। अब यह सुनवाई 28 जुलाई को होगी। मुख्तार अंसारी ने अपने अधिवक्ता के माध्यम से आनलाइन आवेदन कर बांदा जेल में उच्च श्रेणी का बंदी घोषित करने व बैरक में टीवी की सुविधा देने के संबंध में आवेदन दिया था।

इस आवेदन पर वर्चुवल सुनवाई गैंगस्टर की विशेष अदालत अपर सत्र न्यायाधीश रामअवतार प्रसाद की अदालत में लंबित है। वहीं राज्य की ओर से विशेष लोक अभियोजक (गैंगस्टर कोर्ट) कृष्णशरण सिंह ने उत्तर प्रदेश जेल मैनुअल का हवाला देते हुए प्रार्थना पत्र दिया कि आरोपित के अधिवक्ता द्वारा प्रस्तुत प्रार्थना पत्र सुनवाई योग्य नहीं है। आरोपित के अधिवक्ता दारोगा सिंह द्वारा आपत्ति के लिए समय की मांग की गई थी। इस पर न्यायाधीश ने शुक्रवार की तारीख आपत्ति व सुनवाई के लिए नियत किया था। इन मामलों में शुक्रवार को एक अधिवक्ता के निधन पर सुनवाई नहीं हो सकी। न्यायालय ने टेलीविजन के आवेदन पर 26 जुलाई व उच्च श्रेणी आवेदन पर 28 जुलाई की तारीख नियत कर दी। गौरतलब है कि फर्जी असलहा लाइसेंस मामले में आरोपित आधा दर्जन लोगों के साथ सदर विधायक के विरूद्ध गैंगस्टर का मामला दक्षिणटोला थाने में पंजीकृत है।

लिटिल फ्लावर स्कूल पर गरजा बुलडाेजर

शहर के लिटिल फ्लावर स्कूल सिकठिया पर गुरुवार को रात नौ बजे के करीब प्रशासनिक टीम पहुंची और ओवरब्रिज के नीचे स्थित अतिक्रमण को बुलडोजर से ढहवा दिया। इसे लेकर घंटों अफरातफरी की स्थिति रही। लिटिल फ्लावर स्कूल द्वारा सरकारी जमीन में अतिक्रमण कर लिया गया है। विद्यालय प्रबंधक द्वारा स्कूल का गेट ओवरब्रिज के समीप बना दिया गया है। इसे लेकर प्रशासन की तरफ से विद्यालय प्रशासन कई बार नोटिस जारी की गई थी। इसके बावजूद विद्यालय प्रशासन ने अतिक्रमण नहीं हटाया। इसे देखते हुए गुरुवार की रात नौ बजे एसडीएम सदर जयप्रकाश यादव के निर्देश पर नायब तहसीलदार, लेखपाल व नगर पालिका की टीम जेसीबी के साथ स्कूल पर पहुंची। पहले टीम ने नापी की और अतिक्रमण को चिह्नित किया। इसके बाद बुलडोजर लगाकर विद्यालय का गेट सहित सारे अतिक्रमण को हटा दिया। देर रात प्रशासनिक कार्रवाई से विद्यालय प्रशासन सकते में रहा। आस-पास के लोग भी कार्रवाई की डर से सहमे रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.