बलिया में डेंगू को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट, मरीजों की संख्‍या बढ़कर पहुंची 14 तक

वायरल फीवर के जरिए डेंगू अपना पांव पसारने लगा है। इसको लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट हो गया है। जनपद में डेंगू मरीजों की संख्या 14 हो गई है। मरीज मिलने पर उसके घर से लेकर आसपास के इलाकों में लार्वा को मारने के लिए छिड़काव किया जा रहा है।

Abhishek SharmaFri, 10 Sep 2021 08:00 AM (IST)
बलिया में वायरल फीवर के जरिए डेंगू अपना पांव पसारने लगा है।

जागरण संवाददाता, बलिया। जनपद में वायरल फीवर के जरिए डेंगू अपना पांव पसारने लगा है। स्वास्थ्य विभाग अलर्ट हो गया है। जनपद में डेंगू मरीजों की संख्या 14 हो गई है। मरीज मिलने पर उसके घर से लेकर आसपास के इलाकों में लार्वा को मारने के लिए छिड़काव किया जा रहा है। जिला मलेरिया अधिकारी सुनील कुमार ने बताया कि जिला अस्पताल में डेंगू की जांच हो रही है। डेंगू मादा एडीज इजिप्टी मच्छर के काटने से होता है। इन मच्छरों के शरीर पर चीते जैसी धारियां होती हैं। ये मच्छर दिन में, खासकर सुबह काटते हैं। डेंगू की शिकायत बरसात के मौसम में ही सबसे ज्यादा होती है। ऐसे में घर पर और आसपास साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। हर रविवार मच्छर पर वार अभियान के तहत सभी लोग रविवार को पानी टंकी, कूलर, गमले के पानी को बदल दें। टायर, टूटे बर्तन आदि में भी पानी न रहने दें। जलजमाव वाले स्थान पर छिड़काव करें। घर के पास खुली नाली है तो वहां भी छिड़काव करें। मच्छरदानी लगाकर सोएं।

घर के बाहर की साफ-सफाई पर नहीं ध्यान : वायरल बुखार, डेंगू के मरीज मिलने के बाद भी घर के बाहर की साफ-सफाई पर जिम्मेदारों का कोई ध्यान नहीं है। गांव से शहर तक एक जैसे हालात हो गए हैं। नालियों में बजबजाती गंदगी रोगों को आमंत्रित कर रही हैं। सड़कों पर कूड़ा बिखरा पड़ा है। उसमें जानलेवा मच्छर पल रहे हैं। शहर में किसी भी मोहल्ले की स्थिति अच्छी नहीं है। शाम होते ही मच्छर घरों में किसी चैन से नहीं बैठने दे रहे हैं। बुधवार की शाम कुछ माेहल्लों में नगरपालिका की ओर से फागिंग कराया, लेकिन उससे भी राहत नहीं मिल रही है।

जिला अस्पताल में उमड़ रही मरीजों की भीड़ : मौसम में बदलाव के कारण इन दिनों जिला अस्पताल में मरीजों की काफी भीड़ उमड़ रही है। इसमें ज्यादा वायरल फीवर के मरीज आ रहे हैं। जिला अस्पताल में भीड़ के पीछे कारण यह है कि ग्रामीण सीएचसी और पीएचसी केंद्रों में उपचार के बेहतर इंतजाम अभी भी नहीं हो सके हैं। बहुत से अस्पताल चिकित्सकों के अभाव में बंद पड़े हैं। इस वजह से ग्रामीण क्षेत्र के लोग भारी संख्या में जिला अस्पताल में पहुंच रहे हैं। बैरिया से अस्पताल पहुंचे शंभू यादव ने बताया कि सीएचसी सोनबरसा में कोई इलाज नहीं हो पा रहा है। इस वजह से जिला अस्पताल आना पड़ा। रेवती क्षेत्र की महिला शांति देवी ने बताया कि एक सप्ताह से बुखार है। रेवती में दिखाया था, लेकिन आराम नहीं मिला। अब जिला अस्पताल में जांच कराना है। इसी तरह कई मरीज मिले जो बुखार, सिर दर्द, सर्दी, खांसी आदि रोग से पीड़ित थे। चिकित्सकों ने बताया कि मौसम बदलाव के चलते मरीजों की संख्या बढ़ी है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.