जौनपुर में बदलापुर स्टेशन के पास मालगाड़ी पलटी, लखनऊ-वाराणसी रूट बाधित; आधा दर्जन ट्रेनों का रूट डायवर्जन

खाली मालगाड़ी लखनऊ से वाराणसी की तरफ जा रही थी। इसी दौरान अभी स्टेशन को क्रास ही की थी कि पटरी टूट जाने से मालगाड़ी सभी पटरी को तोड़ते हुए पलट गई। हादसा इतना जोरदार था कि आवाज सुन हजारों की भीड़ जमा हो गई।

Abhishek SharmaThu, 11 Nov 2021 09:18 AM (IST)
मालगाड़ी के चार डिब्बे नीचे उतर गए तो शेष टूट गए।

जौनपुर, जागरण संवाददाता। बदलापुर के श्रीकृष्ण नगर रेलवे स्टेशन के पूर्वी छोर पर गुरुवार की सुबह पटरी टूटने से एक मालगाड़ी के चार डिब्बे पटरी से उतर गए। रेलवे अधिकारियों के अनुसार घटना सुबह  7:45 बजे की है। खाली मालगाड़ी लखनऊ से वाराणसी की तरफ जा रही थी। इसी दौरान अभी बदलापुर रेलवे स्टेशन को क्रास ही की थी कि पटरी टूट जाने से मालगाड़ी सभी पटरी को तोड़ते हुए पलट गई। हादसा इतना जोरदार था कि आवाज सुन हजारों की भीड़ मौके पर जमा हो गई। गाड़ी के चार डिब्बे नीचे उतर गए तो शेष पूरी तरह से क्षतिग्रस्‍त हो गए। इस दौरान वाराणसी- लखनऊ रेल यातायात पूरी तरह से बाधित हो गया। वहीं जानकारी होने के बाद मौके पर रेलवे के अधिकारी भी पहुंचे और राहत बचाव कार्य शुरू किया।

वाराणसी - सुल्तानपुर पैसेंजर निरस्त, आधा दर्जन ट्रेनों का डायवर्जन : श्रीकृष्ण नगर स्टेशन (जौनपुर) के समीप गुरूवार को सुबह रेल दुर्घटना के चलते जफराबाद - सुल्तानपुर रेलखंड पर ट्रेनों का परिचालन ठप हो गया। इसके कारण कैंट स्टेशन से लखनऊ जाने वाली गाड़ियां भी प्रभावित हो गई। रेलवे प्रशासन ने इस रूट पर संचालित गाड़ी संख्या - 04263/04264 वाराणसी - सुल्तानपुर पैसेंजर ट्रेन को परिचालन कारणों से निरस्त कर दिया। वहीं, कैंट स्टेशन से गुजरने वाली अप सद्भावना एक्सप्रेस और अप वाराणसी - जम्मूतवी स्पेशल निर्धारित मार्ग वाराणसी - जफराबाद - सुल्तानपुर के बजाय प्रतापगढ़ के रास्ते लखनऊ प्रस्थान करेगी। इसी प्रकार लखनऊ- वाराणसी रूट की गाड़ियों डाउन इंदौर - पटना स्पेशल, जम्मूतवी, कोटा - पटना स्पेशल, दिल्ली - मालदा फरक्का स्पेशल, देहरादून - हावड़ा स्पेशल और नई दिल्ली - वाराणसी महामना स्पेशल ट्रेन को वाया प्रतापगढ़ लाया जाएगा।

स्‍थानीय लोगों के अनुसार मालगाड़ी सुबह 7:45 बजे बदलापुर रेलवे स्‍टेशन से आगे बढ़ी ही थी कि जोर के आवाज के साथ कई डिब्‍बे पूरी तरह क्षतिग्रस्‍त हो गए। ट्रेन की गति तेज होने की वजह से कई डिब्‍बे बेपटरी होने के साथ ही बुरी तरह से कई टुकडों में बंंट गए। माना जा रहा है कि ट्रेन की पटरी चटकी होने की वजह से ऐसा हादसा हुआ है। हालांकि, इस बाबत रेलवे अधिकारियों की ओर से जांच के बाद ही स्थिति स्‍पष्‍ट करने की जानकारी दी गई है। हादसे के बाद स्‍थानीय लोगों के साथ ही रेलवे के अधिकारियों की टीम भी मौके पर पहुंच गई और नुकसान का जायजा लिया। प्रारंभिक जानकारी के अनुसार नुकसान सिर्फ रेल की पटरी और मालगाड़ी को ही हुआ है। सुरक्षा वजहों से अन्‍य ट्रेनों को जहां तहां रोक दिया गया है। ट्रेनों का संचालन इसकी वजह से बाधित हुआ है। रेलवे अधिकारी जल्‍द ही रूट पर यातायात को बहाल करने के लिए जुट गए हैं। 

ट्रेन के मलबे को हटाने के साथ ही बोगियों को किनारे करने के साथ ही क्षतिग्रस्‍त पटरी को ठीक करने की भी कवायद शुरू हो गई है। वैकल्पिक रास्‍तों से अब रूट से होकर गुजरने वाली ट्रेनों को पास कराने की तैयारियां शुरू हो गई हैं ताकि अन्‍य ट्रेनों का आवागमन अधिक न बाधित हो। माना जा रहा है के सर्दियों में रेल पटरियों के चटकने की वजह से हादसे होते हैं। इस मामले में भी रेल पटरी के चटकी होने की अधिक संभावना जताई जा रही है। हालांकि, दोपहर तक यातायात बहाल हो जाने की उम्‍मीद रेलवे अधिकारियों ने जताई है। वहीं मौके पर राहत और बचाव कार्य लगातार जारी होने के साथ ही वरिष्‍ठ अधिकारियों को भी इससे अवगत करा दिया गया है। 

मालगाड़ी के 22 डिब्बे पलटे: जफराबाद-सुल्तानपुर रेल प्रखंड के श्रीकृष्णानगर रेलवे स्टेशन से के पूर्वी सिग्नल के पास गुरुवार की सुबह एक मालगाड़ी के 22 डिब्बे पलट कर पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए। घटना से रेल महकमे में खलबली मच गई है। मौके पर स्थानीय लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। सुबह 7:45 बजे सुल्तानपुर से मुगलसराय जा रही एक खाली मालगाड़ी 53 डिब्बे लेकर जैसे ही रेलवे स्टेशन श्रीकृष्णनगर को पार कर तीन सौ मीटर पूर्वी सिग्नल के पास पहुंची तभी अचानक तेज आवाज के साथ बीच के 22 डिब्बे लूप लाइन छोड़कर मेन लाइन पर जाकर एक-दूसरे पर चढ़ गये। टक्‍कर इतनी जोरदार थी कि चक्के सहित तमाम उपकरणों के परखचे दूर-दूर जाकर गिरे। रेल की पटरी भी कई जगह टूट गये है। इंजन के पीछे 15 डिब्बे व गार्ड के आगे 17 डिब्बे सुरक्षित रहे। घटना का कारण पटरी का टूटा बताया जा रहा है। हालांकि रेल महकमे के लोग पूरी तरह अभी चुप्पी साधे हुए हैं। हादसा इतना भयावह था कि आवाज सुन हजारों की भीड़ जमा हो गई। अभी तक रेल विभाग का कोई उच्चाधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा है। सीओ चोब सिंह.व प्रभारी निरीक्षक संजय वर्मा सुरक्षा की दृष्टि से मौके पर मौजूद रहे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.