कनेक्शन दीजिए सरकार, वाराणसी में दिव्यांग बच्चों संग अंधेरे में परिवार, अधीक्षण अभियंता ने दिए जांच के निर्देश

वाराणसी में एक परिवार कई माह से अंधेरे में गुजारा कर रहा है।

वाराणसी की सुमन गुप्ता अपनी तीन बेटियों एवं एक बेटे के साथ शहर के मंगलागौरी क्षेत्र में रहती हैं। बेबसी का आलम यह है कि उन्हें एक बेटा व एक बेटी हैं जो दिव्यांग हैं। एक बेटा जो स्वस्थ था वह पहले ही गुजर गया है।

Saurabh ChakravartyWed, 03 Mar 2021 08:30 AM (IST)

वाराणसी, जेएनएन। सुमन गुप्ता अपनी तीन बेटियों एवं एक बेटे के साथ शहर के मंगलागौरी क्षेत्र में रहती हैं। बेबसी का आलम यह है कि उन्हें एक बेटा व एक बेटी हैं, जो दिव्यांग हैं। एक बेटा जो स्वस्थ था, वह पहले ही गुजर गया है। परेशानी यह कि उनका परिवार कई माह से अंधेरे में गुजारा कर रहा है। अब तो गर्मी भी आ गई है। आरोप है कि पिता के बकाये पर एक बेटे को तो कनेक्शन मिल गया है लेकिन दूसरे को मना कर दिया गया है। इस मामले में महिला की शिकायत पर अधीक्षण अभियंता ने जांच के निर्देश दिए हैं। चौक विद्युत उपकेंद्र क्षेत्र की सुमन गुप्ता का कहना है कि श्वसुर राजकुमार गुप्ता का पुश्तैनी मकान मंगलागौरी क्षेत्र में हैं। उनके श्वसुर के दो बेटे गोपाल गुप्ता और दिलीप गुप्ता हैं। वर्ष 2009 में श्वसुर के निधन के बाद 41006 रुपये का बिल बकाया था। बिजली बिल जमा नहीं होने के कारण विभाग ने कनेक्शन काट दिया। सुमन ने आरोप लगाया कि इस बीच दूसरे बेटे ने स्थानीय जेई और एसडीओ की मिलीभगत से नया कनेक्शन ले लिया। वहीं दूसरे बेटे का परिवार बच्चों की पढ़ाई के लिए पड़ोसी से एक एलईडी बल्ब जलाने के लिए मिन्नत करके उसके कनेक्शन से जोड़ लिया। इसकी भनक जब विभागीय अधिकारियों को लगी तब वे मौके पर पहुंचे और पड़ोसी के कनेक्शन से बिजली नहीं जलाने की हिदायत दी। सुमन बताती हैं कि वह मंदिर के बाहर माला-फूल बेच कर गुजारा करती हैं। उन्होंने कनेक्शन के लिए कई बार गुहार लगाई है, लेकिन कोई उचित हल नहीं निकला। पिछले माह उन्होंने इसकी शिकायत नगरीय विद्युत वितरण मंडल द्वितीय के अधीक्षण अभियंता से की। इसके बाद विभाग हरकत में आ गया है।

महिला की लिखित शिकायत मिली है

उक्त महिला की लिखित शिकायत मिली है। इस मामले की जांच के लिए नगरीय विद्युत वितरण खंड तृतीय के अधिशासी अभियंता को निर्देश दिया गया है। जांच में जो भी दोषी मिलेगा, उसके ऊपर कार्रवाई की जाएगी। चाहे उपभोक्ता हो या विभागीय कर्मचारी। वैसे, बकाया का भुगतान करने के लिए ये उपभोक्ता ओटीएस का लाभ उठा सकते हैं। इसमें रजिस्ट्रेशन करने पर उनका ब्याज माफ हो जाएगा।

- दीपक अग्रवाल, अधीक्षण अभियंता

नगरीय विद्युत वितरण मंडल, द्वितीय

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.