मीरजापुर के जंगल में गायब दो महिला समेत चार लोगों को रीवा से किया बरामद, पुलिस ने स्वजनाें को बुलाकर सौंपा

हलिया जंगल से अबूझहाल में लापता हुई दो महिलाओं समेत चार लोगों को पुलिस ने मध्य प्रदेश के रीवां बाजार से बरामद कर लिया। बरामद किए गए सभी को पुलिस ने थाने लाया और स्वजनों को बुलाकर सौंप दिया। अपने परिवार के लोगों को पाकर स्वजन भी खुश नजर आए।

Saurabh ChakravartySun, 19 Sep 2021 08:38 PM (IST)
जंगल में लकड़ी लेने के लिए जाते समय गायब हो गए थे सभी

जागरण संवाददाता, मीरजापुर। हलिया स्थानीय जंगल से अबूझहाल में लापता हुई दो महिला समेत चार लोगों को पुलिस ने मध्य प्रदेश के रीवां बाजार से बरामद कर लिया। बरामद किए गए सभी को पुलिस ने थाने लाया और स्वजनों को बुलाकर सौंप दिया। अपने परिवार के लोगों को पाकर स्वजन भी खुश नजर आए।

क्षेत्र के लहुरियादह गांव निवासी सूरज यादव की पत्नी कविता यादव 17 सितंबर को अपने पांच वर्षीय पुत्र अमित यादव व तीन वर्षीय पुत्र सुमित यादव तथा 21 वर्षीय ननद सरस्वती यादव के साथ जंगल में लकड़ी लेने के लिए गई थी। जंगल का रास्ता भटक जाने के कारण मध्य प्रदेश के रीवां बाजार पहुंच गई। शुक्रवार देर शाम तक घर वापस नहीं लौटी तो पति सूरज यादव पत्नी, बच्चों तथा बहन की खोजबीन में जुट गए। काफी खोजबीन के बाद भी सभी का पता नहीं चलने पर शनिवार को थाने में पहुंचकर उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई। शनिवार देर शाम चौकी प्रभारी मतवार रामनगीना यादव, चौकी प्रभारी ड्रमंडगंज भरत लाल पांडेय, हेड कांस्टेबल सरफराज, कांस्टेबल संजीव कुमार खोजबीन कर रहे थे। इसी बीच महिलाओं के मोबाइल का लोकेशन मध्य प्रदेश के रीवा में मिला। पुलिस वहां पहुंची तो चारों वहां खड़े मिले। यह देख उनसे पूछताछ की तो दोनों महिलाओं ने अपना नाम व पता बताया। टीम ने महिला की पहचान के लिए उसके पति सूरज यादव को फोनकर रीवां बुलाया। लहुरियादह गांव निवासी सूरज ने मौके पर पहुंचकर पत्नी बच्चों व बहन की पहचान किया। इस संबंध में चौकी प्रभारी ड्रमंडगंज भरत लाल पांडेय ने बताया कि महिला व बच्चे जंगल से भटककर मध्य प्रदेश के रीवा बाजार पहुंच गई थी। शनिवार देर शाम को महिलाओं व बच्चों को सुरक्षित बरामद कर लिया गया और आवश्यक कार्रवाई के बाद स्वजनों के हवाले सुपुर्द कर दिया गया है।

सिकरार नाले में तैरता मिला अधेड़ का शव : बरौधा चौकी क्षेत्र के दिघुली बौड़रा के बीच सिकरार नाले में रविवार को तैरता हुआ एक अधेड़ का शव दिखाई देने पर सनसनी फैल गई। ग्रामीणों की सूचना पर लालगंज इंस्पेक्टर हेमंत कुमार सिंह, चौकी इंचार्ज तिलांव धर्म नारायण भार्गव एवं बरौंधा चौकी इंचार्ज अजय कुमार श्रीवास्तव मौके पर पहुंच गए। नाले से शव को बाहर निकलवा कर शिनाख्त कराने का प्रयास किया, लेकिन किसी ने पहचान नहीं की। पुलिस ने शव का पंचनामा कराकर 72 घंटे के लिए पहचान कराने के लिए शव मर्चरी में रखवा दिया। ग्रामीणों के बीच चर्चा रही की गुहटी या सर्प के काटने पर शव को जलाया नहीं जाता, बल्कि उसे नदी नाले में प्रवाहित कर दिया जाता है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.