वाराणसी में स्‍कूल में छात्रा से दुष्‍कर्म के बाद अब चाकलेट के बहाने पांच वर्षीय बच्ची से दुष्कर्म

रविवार की शाम एक बार फिर मासूम से दुष्कर्म करने का मामला प्रकाश में आया। घटना उजागर होते ही आरोपित युवक और परिवार के पुरुष सदस्य घर छोड़कर भाग निकले। परिवारीजनों की शिकायत पर घटना स्थल पहुंची पुलिस पीडि़ता के परिवारीजनों से पूछताछ की।

Abhishek SharmaMon, 29 Nov 2021 09:17 AM (IST)
रविवार की शाम एक बार फिर मासूम से दुष्कर्म करने का मामला प्रकाश में आया।

वाराणसी, जागरण संवाददाता। सिगरा थाना क्षेत्र में रविवार की शाम एक बार फिर मासूम से दुष्कर्म करने का मामला प्रकाश में आया। घटना उजागर होते ही आरोपित युवक और परिवार के पुरुष सदस्य घर छोड़कर भाग निकले। परिवारीजनों की शिकायत पर घटना स्थल पहुंची पुलिस पीडि़ता के परिवारीजनों से पूछताछ की। पुलिस मुकदमा दर्ज कर जांच में जुट गई है।

सिगरा क्षेत्र की पांच वर्षीय बच्ची अपनी दादी के साथ दिन में पड़ोस में वैवाहिक कार्यक्रम में गई। वहां आरोपित पड़ोसी युवक निसार भी मौजूद था। पीडि़ता के परिवारीजनों का कहना है कि निसार चाकलेट के बहाने बच्ची को 50 मीटर दूर अपने घर ले गया, जहां आरोपित घरवाले भी उसी शादी में गए थे। इसका फायदा उठाकर वह बच्ची को मकान के ऊपरी कमरे में ले गया। उसने मासूम से दरिंदगी दिखाई। बच्ची ने रोते-बिलखते हुए इसका विरोध किया तो उसे धमकी दी। शाम को घर पहुंची पीडि़ता ने अपनी मां को अपबीती सुनाई।

पीड़‍िता की मां ने परिवार के अन्य सदस्यों को इसकी जानकारी दी। घटना की जानकारी होते ही एसीपी चेतगंज अनिरुद्ध कुमार पहुंच गए और पीडि़ता के परिवारीजनों से पूछताछ की। फोरेंसिक टीम ने भी घटना स्थल से साक्ष्य संकलन किया। वहीं, एडीसीपी वरुणापार जोन प्रबल प्रताप सिंह ने भी पीडि़ता के घरवालों से बातचीत की। पुलिस ने आरोपित के घर में दबिश दी लेकिन वह नहीं मिला। मिली जानकारी के अनुसार निसार घर में ही बुनकरी का काम करता है जबकि पीडि़ता अभी नर्सरी की छात्रा है। एसीपी चेतगंज अनिरुद्ध कुमार ने बताया कि प्रथम दृष्टया अपराध बोध हो रहा है। पीडि़ता के पिता की तहरीर पर 376 और पक्सों की धाराओं में मुकदमा कायम कर लिया गया है।

बिटिया ने घरवालों का बढ़ाया हौसला : महज पांच वर्ष की बच्ची से दरिंदगी की घटना से पीडि़त परिवार सदमे में था। घरवाले हैरान और परेशान थे, वहीं चाचा को रोता देख पहुंची बहादुर बिटिया ने उसे चुप कराया। अपनी मां, पिता और दादा दादी का हौंसला बढ़ाया। कहा कि क्यों परेशान हो? नन्हीं सी बच्ची के मुंह से ये बोल सुनकर घरवालों में हिम्मत आ गई। लोकलाज का भय भूलकर पुलिस से शिकायत करने की हिम्मत जुटाई।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.