दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

बलिया में आक्सीजन पाइप को चुराते दो चोरों को कर्मचारियों ने दबोचा, कोतवाल को नहीं जानकारी

अस्पताल के चौकीदार की सजगता से पाइप लाइन का पाइप चुराते दो युवक रंगे हाथ पकड़े गए।

जिला अस्पताल में बेड तक लगे आक्सीजन पाइप पर चोरों की निगाह है और कोतवाली पुलिस सुस्त बैठी हुई है। अस्पताल की परेशानी बढ़ जा रही है। मंगलवार की देर शाम अस्पताल के चौकीदार की सजगता से पाइप लाइन का पाइप चुराते दो युवक रंगे हाथ पकड़े गए।

Saurabh ChakravartyWed, 12 May 2021 05:39 PM (IST)

बलिया, जेएनएन। जिला अस्पताल में बेड तक लगे आक्सीजन पाइप पर चोरों की निगाह है और कोतवाली पुलिस सुस्त बैठी हुई है। अस्पताल की परेशानी बढ़ जा रही है। मंगलवार की देर शाम अस्पताल के चौकीदार की सजगता से पाइप लाइन का पाइप चुराते दो युवक रंगे हाथ पकड़े गए। एक मौका पाकर भाग निकला। सीएमएस डा. बीपी सिंह की सूचना पर पहुंची कोतवाली पुलिस ने चोर को गिरफ्तार कर कोतवाली ले गई। सुबह जब चोर के बारे में कोतवाल व चौकी प्रभारी से पूछा गया तो उन्हें इसकी जानकारी ही नहीं थी।

अस्पताल के नए भवन के ग्राउंड फ्लोर पर स्थित एसएनसीयू वार्ड में दो युवक दरवाजे के शीशा तोड़ कर अंदर लगी आक्सीजन पाइप लाइन को उखड़ते नजर आए। यह देख चौकीदार ने अन्य कर्मचारियों के साथ दो चोरों को मौके पर पकड़ लिया। इसमें से एक युवक किसी तरफ चकमा देकर भाग निकला। कर्मचारियों ने पकड़े गए चोर की अच्छी तरह धुनाई कर आक्सीजन पाइप के साथ पुलिस को सौंप दिया।

हमला कर लहूलुहान कर दिया

हल्दी थाना क्षेत्र के सीताकुंड गांव में 11 मई की रात बदमाशों ने घर में घुसकर विजय शंकर पांडेय पुत्र स्व.राजेश्वर पांडेय पर हमला कर उन्हें लहूलुहान कर दिया। आवाज सुनकर दौड़ी आयी बहू पर भी बदमाशों ने हमला कर दिया। घटना 10 बजे रात की है। तब विद्युत आपूर्ति ठप थी और पूरे गांव में अंधेरा छाया हुआ था। इसका फायदा उठाकर बदमाशों ने इस घटना को अंजाम दे दिया। विजय शंकर के बांह, सिर, कंधे व हाथ की उंगली पर वार कर हमलावर उन्हें लहूलुहान कर दिए। गांव में कोरोना संक्रमण और अंधेरा छाए रहने से सभी लोग अपने घरों में दुबके रहे। आस-पास के लोगों को भी इसका पता नहीं चल सका। स्थानीय दवा दुकानदार ने किसी तरह उनकी मरहम पट्टी की। इस घटना के बाद से विजय शंकर का परिवार भयभीत हो गया है। घर के सदस्यों ने किसी को भी घटना की जानकारी नहीं दी। पूरे शरीर में बैंडेज बंधा देख लोगों द्वारा पूछने पर इसकी जानकारी हुई। पीड़ित परिवार ने अब तक स्थानीय थाने को भी सूचना नहीं दी है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.