दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

वाराणसी में कोरोना संक्रमण के चलते विभिन्न योजनाओं पर लगा ग्रहण, ठेकेदार पर मजदूरों को बुलाने का दबाव

वाराणसी में चल रही विकास योजनाएं समय पर पूरा करना विभिन्न विभागों को चुनौती भरा होगा।

आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए योजनाओं को पूरा करना सरकार की प्राथमिकता में है। विभिन्न विभागों को मौखिक तौर पर योजनाओं को सयम से पूरा करने को कहा गया है। काेरोना संक्रमण के चलते काम बंद हो तो स्थिति सामान्य होते ही तेजी से कराएं।

Saurabh ChakravartySat, 15 May 2021 07:20 PM (IST)

वाराणसी, जेएनएन। जनपद में चल रही विकास योजनाएं समय पर पूरा करना विभिन्न विभागों को चुनौती भरा होगा। कोरोना संक्रमण के चलते ज्यादातर योजनाओं पर ग्रहण लग गया है, जो योजनाएं चल रही हैं वहां गिनती भर मजदूर काम कर रहे हैं। आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए योजनाओं को पूरा करना सरकार की प्राथमिकता में है। विभिन्न विभागों को मौखिक तौर पर योजनाओं को सयम से पूरा करने को कहा गया है। काेरोना संक्रमण के चलते काम बंद हो तो स्थिति सामान्य होते ही तेजी से कराएं। सभी को अलग-अलग जिम्मेदारी सौंपने के मजदूराें के साथ संसाधन दोगुना कर दें। वर्तमान स्थिति से अवगत भी कराएं। सभी योजनाओं को दिसंबर तक हरहाल में पूरा करने का पहले ही लक्ष्य दिया गया है। वहीं, ठेकेदारों पर मजदूरों को बुलाने का दबाव बनाया जा रहा है।

चौकाघाट से पड़ाव तक सड़क चौड़ीकरण का काम तेजी से चल रहा था। करीब 80 फीसद काम पूरा हो चुका है लेकिन काेरोना संक्रमण के चलते काम बंद हो गया है। चौड़ीकरण में सबसे बड़ी समस्या गंगा प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की ओर से शाही लाने के लिए लगाया पाइपलाइन है। इस काम को अप्रैल में पूरा होना था। पीडब्ल्यूडी का दावा है कि स्थिति सामान्य होने के साथ जून माह के अंत तक हरहाल में पूरा कर लिया जाएगा। कज्जाकपुरा आरओबी का काम सितंबर-2019 में शुरू हुआ था। इस आरओबी को तेजी से कराने को लेकर पहले दिन से दबाव है। अफसरों की लापरवाही के चलते काम संतोषजनक नहीं है। यही हाल रहा तो काम समय से पूरा नहीं हो पाएगा।

बाबतपुर-कपसेठी मार्ग पर उत्तर रेलवे के रेल सम्पार संख्या 21-ए /2 टी पर चार लेन रेल उपरिगामी सेतु का निर्माण संतोषजनक नहीं है। कोनिया सलारपुर मार्ग पर वरुणा नदी के कोनिया घाट के सामने संपर्क मार्ग का निर्माण कोरोना संक्रमण के चलते प्रभावित है। अभी तक 40 फीसद काम पूरा नहीं हो सका है। वर्ष 2018 से इस पर निर्माण चल रहा है लेकिन अभी तक 40 फीसद ही कार्य पूरा हो सका है। कालिकाधाम सेतु बाबतपुर वाया कपसेठी-भदोही मार्ग पर वरुणा नदी पर दो लेन पुल का निर्माण प्रस्तावित है। पहले काम में तेजी नहीं आई। मुख्यमंत्री की समीक्षा बैठक में काम संतोषजनक नहीं होने पर नाराजगी जाहिर की तो काम में तेजी आई लेकिन कोरोना संक्रमण फिर से आने के साथ काम नहीं के बराबर हो रहा है।

कोरोना संक्रमण से पहले यहां रोज 100 से अधिक मजदूर काम करते थे लेकिन इस समय गिनती के आठ मजदूर हैं। वरुणा नदी के दोनों तरफ दो-दो पिलर और नदी के बीच एक पिलर बनकर तैयार हो गया है। अभी बड़ागांव की तरफ से आने वाले दिशा में दो पिलर पर ढलाई हो पाई है। कपसेठी दिशा की तरफ अभी काम शुरू नहीं हो सका। यही हाल हा तो दिसंबर तक यह काम पूरा नहीं हो पाएगा। फुलवरिया फोरलेन का काम 80 फीसद पूरा हो गया है लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते काम बंद है। कुछ मजदूर सामानों की देखरेख करने को है। उसी से काम भी कर रहे हैं। काम फिर से शुरू करने को लेकर लोक निर्माण विभाग ने कवायत शुरू कर दी है।

फुलवरिया फोरलेन की दूरी-5.3 किलोमीटर

लागत-60 करोड

जमीन मुआवजा-110 करोड

लहरतारा फुलवरिया-शिवपुर सम्पार-चार पर आरओबी

लंबाई -627.280 मीटर

लागत -5437.47 लाख

भौतिक प्रगति-76 फीसद

कार्य प्रारंभ-अप्रैल-2018

लहरतारा फुलवरिया-शिवपुर सम्पार-पांच पर आरओबी

लंबाई -643.630 मीटर

लागत -5260.51 लाख

भौतिक प्रगति- 64 फीसद

कार्य प्रारंभ-अप्रैल, 2019

चौकाघाट से पड़ाव तक चौड़ीकरण

लंबाई- सात किलोमीटर

लागत-17 करोड़

भौतिक प्रगति-82 फीसद

कार्य प्रारंभ-मई-2019

बाबतपुर-कपसेठी मार्ग पर आरओबी

लबाई -567.717 मीटर

लागत-3810.50 लाख

भौतिक प्रगति-74 फीसद

कार्य प्रारंभ-मार्च-2019

गाजीपुर रोड पर आशापुर आरओबी

लंबाई -682.63 मीटर

लागत-5017.10 लाख

भौतिक प्रगति- 90 फीसद

कार्य प्रारंभ-मई-2018

शिवपुर मार्ग स्थित वरुणा नदी पर सेतु

लंबाई -- 107.380 मीटर

लागत -- 3464.85 लाख

भौतिक प्रगति- 47 फीसद

कार्य प्रारंभ-अप्रैल-2018

कज्जाकपुरा आरओबी

लंबाई-1355.51 मीटर

लागत-6278.73 लाख

भौतिक प्रगति-46 फीसद

कार्य प्रारंभ-सितंबर-2019

कोनिया घाट पर सेतु का निर्माण

लंबाई -94.73 मीटर

लागत-2621. 15 लाख

भौतिक प्रगति- 40 फीसद

कार्य प्रारंभ-मई-2018

कालिकाधाम सेतु

लंबाई -- 95.68 मीटर

लागत -- 1913.80 लाख

भौतिक प्रगति- 42 फीसद

कार्य प्रारंभ-मई-2020

बचे काम को जल्द पूरा कर लिया जाएगा

फुलवरिया फोरलेन में लोक निर्माण विभाग के हिस्से का 80 फीसद काम पूरा हो चुका है। बचे काम को जल्द पूरा कर लिया जाएगा। कोरोना संक्रमण के चलते काम प्रभावित हुए हैं लेकिन स्थित सामान्य होते ही मजदूर और संसाधन बढ़ाकर काम समय से पूरा किया जाएगा। विभाग के सभी योजनाओं पर काम कर रहे ठेकेदारों को मजदूर बुलाने को कहा गया है। समयावधि पर काम को खत्म कर लिया जाएगा।

-सुग्रीव राम, अधिशासी अभियंता लोक निर्माण विभाग

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.