आजमगढ़ में सोते समय दंपती की धारदार हथियार से हत्या, फारेंसिक टीम और श्वान दल संग पहुंची पुलिस

घटना की जानकारी आसपास के लोगों को सोमवार की सुबह हुई तो हड़कंप मच गया। घटना का कारण बताने की स्थित में कोई नहीं था। लिहाजा जानकारी होने के बाद मौके पर पहुंपी पुलिस ने फारेंसिक साक्ष्‍य संकलन के लिए टीम को बुलाया और जांच पड़ताल शुरू कर दी।

Abhishek SharmaMon, 29 Nov 2021 01:31 PM (IST)
घटना की जानकारी आसपास के लोगों को सोमवार की सुबह हुई तो हड़कंप मच गया।

आजमगढ़, जागरण संवाददाता। जनपद के तरवां थाना क्षेत्र में अपराधियों से रविवार की रात सनसनीखेज वारदात हो अंजाम दिया। सोते समय दंपती की धारदार हथियार से हत्या कर दी। घटना की जानकारी आसपास के लोगों को सोमवार की सुबह हुई तो हड़कंप मच गया। घटना का कारण बताने की स्थित में कोई नहीं था। लिहाजा जानकारी होने के बाद मौके पर पहुंपी पुलिस ने फारेंसिक साक्ष्‍य संकलन के लिए टीम को बुलाया और जांच पड़ताल शुरू कर दी। 

सूचना मिलने पर एसपी अनुराग आर्य फोरेंसिक टीम और श्वान दल के साथ मौके पर पहुंच गए। पुलिस टीम घटना की वजह तलाशने में जुटी हुई थी। तरवां थाना क्षेत्र के तिथऊपुर गांव निवासी राम नगीना (50) मऊ जिले के चिरैयाकोट में चकबंदी विभाग में बतौर लेखपाल तैनात थे। रविवार की रात वह घर गांव से बाहर अर्ध निर्मित मकान में मच्छरदानी लगाकर सो रहे थे। साथ में उनकी पत्नी मंशा देवी भी थीं। रविवार की देर रात बदमाश घर में घुस गए और दंपती की धारदार हथियार से निर्मम हत्या कर दी। जानकारी होने के बाद मौके पर लोगों की भारी भीड़ लग गई। 

डबल मर्डर की इस घटना की जानकारी सुबह ग्रामीणों को हुई तो इस दोहरे हत्याकांड से गांव में हड़कंप मच गया। रात में हत्या कब हुई और घटना को किसने अंजाम दिया, इसकी भनक किसी को नहीं लग पाई। एसपी अनुराग आर्य ने बताया कि उन्हें सुबह सूचना मिली कि पति- पत्नी के सिर और गले पर धारदार हथियार से वार कर हत्या कर दी गई है।फिलहाल लूटपाट की बात सामने नहीं आई है। स्वजन से भी बातचीत में कोई कारण सामने नहीं आया है। पुलिस सभी पहलुओं पर जांच कर रही है। मौके से एक मोबाइल मिला है, जिसे कब्जे में ले लिया गया है। पुलिस के अनुसार जांच की जा रही है जल्‍द ही वारदात की वजह सामने आ जाएगी। 

मृतक मऊ जिले के मोहम्‍मदाबाद तहसील रानीपुर ब्लाक के लेखपाल थे यह चकबंदी विभाग में तैनात किए गए थे। मृतक लेखपाल वर्तमान समय में सरौदा, चिरैयाकोट सभा के लेखपाल थे। मृतक लेखपाल तीन भाइयों में सबसे बड़े थे। इनके कौशल प्रताप, उदय प्रताप दो पुत्र और सोनम, अनामिका दो पुत्रियां हैं। वहीं पुत्र उदय प्रताप द्वारा अज्ञात हमलावरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। घटना की सूचना मिलते ही डीआइजी अखिलेश कुमार, एडीएम प्रशासन अनिल कुमार, एसपी अनुराग आर्य, एसडीएम मेहनगर प्रेमचंद, तरवां थानाप्रभारी संजय कुमार, मेहनाजपुर, जहानागंज, मेहनगर आदि जगहों की पुलिस फोर्स मौके पर मौजूद रही। 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.