Corona Vaccine in Varanasi : छूटे स्वास्थ्यकर्मियों ने नहीं दिखाई रूचि, 29 फीसद ही हुआ टीकाकरण

छूटे स्वास्थ्यकर्मियों के पास सोमवार को दोबारा टीके लगवाने का मौका था, लेकिन उनमें उत्साह की बेहद कमी रही।

Corona Vaccine in Varanasi वाराणसी में छूटे स्वास्थ्यकर्मियों के पास सोमवार को दोबारा टीके लगवाने का मौका था लेकिन उनमें उत्साह की बेहद कमी रही। जिले के 33 केंद्रों पर आयोजित 78 सत्रों केवल 29 फीसद ही टीकाकरण हो पाया। शेष बचे लोग 19 फरवरी को टीके लगवा सकते हैं।

Saurabh ChakravartyMon, 15 Feb 2021 10:38 PM (IST)

वाराणसी, जेएनएन। Corona Vaccine in Varanasi छूटे स्वास्थ्यकर्मियों के पास सोमवार को दोबारा टीके लगवाने का मौका था, लेकिन उनमें उत्साह की बेहद कमी रही। जिले के 33 केंद्रों पर आयोजित 78 सत्रों केवल 29 फीसद ही टीकाकरण हो पाया। 26 केंद्रों पर 50 फीसद से कम तो वहीं सात केंद्र ऐसे थे, जहां 20 फीसद से भी कम टीकाकरण हुआ। टीकाकरण की सबसे कम दर केयर हास्पिटल में रही, जहां मात्र आठ फीसद लाभार्थी पहुंचे। वहीं एलबीएस हास्पिटल रामनगर में शत-प्रतिशत व पीएचसी बड़ागांव में 95 फीसद टीकाकरण हुआ।

जिले के 33 केंद्रों पर 3379 स्वास्थ्यकर्मियों का टीकाकरण किया गया। इन केंद्रों पर 78 सत्र आयोजित किए गए, जिसमें 11483 लाभार्थियों के सापेक्ष 29 फीसदी टीकाकरण किया गया। सीएमओ डा. वीबी सिंह ने जिला महिला चिकित्सालय, पंडित दीन दयाल चिकित्सालय-पांडेयपुर, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र चौकाघाट, महाश्वेता हास्पिटल, ईएसआईसी हास्पिटल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र-शिवपुर सहित राजकीय आयर्वेदिक कालेज चौकाघाट का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होने सभी प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को निर्देशित किया कि टीकाकरण कार्यक्रम सफल बनाने में सहयोग करें। डा. सिंह ने बताया कि जिन स्वास्थ्यकर्मियों को टीका नहीं लग पाया है, उन्हें एक मौका और दिया जाएगा। शेष बचे लोग 19 फरवरी को टीके लगवा सकते हैं।

8074 को नहीं लग पाए टीके

जिले में पहले चरण में 22345 स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगाया जाना था। पांच फरवरी को पहला चरण समाप्त हो गया। 15 जनवरी को 3379 प्रतिरक्षित लाभार्थियों को मिलाकर अब 14271 स्वास्थ्यर्कियों को टीका लग पाया है। वहीं अभी तक 8074 स्वास्थ्यकर्मी टीके लगवाने से वंचित रह गए हैं। इस कारण इन्हें 19 फरवरी को एक मौका दिया गया है। दरअसल इससे एक दिन पहले यानी 18 फरवरी को फ्रंटलाइन वर्करों को टीके लगाए जाएंगे।

दूसरी डोज लेने वालों का बना रहा उत्साह

जब मुझे पहला वैक्सीन लगाया जा रहा था तो मुझे घबराहट सी हो रही थी। लेकिन पहला वैक्सीन लगाने के बाद 28 दिन किसी भी प्रकार की कोई समस्या नहीं हुई।

- संजय सिंह, इलेक्ट्रीशियन-जिला महिला अस्पताल।

वैक्सीन लगवाकर दूसरों को लगवाने के लिए जागरूक करें

वैक्सीन हमारे स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है ज्यादा से ज्यादा लोग वैक्सीन लगवाकर दूसरों को लगवाने के लिए जागरूक करें।

- मनोज कुमार, इलेक्ट्रीशियन-जिला महिला अस्पताल।

टीकाकरण की स्थिति

केंद्र                           लक्ष्य/लगे टीके

- सीएचसी अराजीलाइन   446/41

- पीएचसी बड़ागांव      160/152

- पीएचसी पिंडरा         30/25

- सीएचसी चोलापुर      122/53

- सीएचसी विद्यापीठ      180/103

- सीएचसी मिसिरपुर      588/79 (43 दूसरी डोज)

- सीएचसी चिरईगांव      269/73

- सीएचसी हाथी बाजार    344/126 (80 दूसरी डोज)

- शहरी सीएचसी दुर्गाकुंड   444/92

- शहरी सीएचसी चौकाघाट  369/149  

- पीएचसी हरहुआ         556/295

- बरेका केंद्रीय हास्पिटल     600/199

- एलबीएस हास्पिटल रामनगर   16/16  

- हेरिटेज इंस्टीट्यूट          219/113 (56 दूसरी डोज)

- जिला अस्पताल          281/155 (79 दूसरी डोज)

- रामकृष्ण मिशन हास्पिटल    147/27  

- शुभम हास्पिटल           70/70

- आयुर्वेद कालेज          600/159

- केयर हास्पिटल          459/38

- महाश्वेता हास्पिटल       400/139

- जिला महिला हास्पिटल    558/201 (73 दूसरी डोज)

- आशीर्वाद हास्पिटल        68/68

- एपेक्स हास्पिटल         735/143  

- ओरियाना हास्पिटल        88/13

- शहरी पीएचसी शिवपुर      372/68  

- गैलेक्सी हास्पिटल        254/73

- एसवीएम हास्पिटल       293/115

- सूर्या हास्पिटल            37/5

- पापुलर हास्पिटल         600/100  

- प्रिया हास्पिटल           525/67

- आइएमएस बीएचयू        841/245 (32 दूसरी डोज)

- ईएसआईसी हास्पिटल       75/33

- ट्रामा सेंटर बीएचयू        371/144

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.