Corona Infection in Varanasi : होम आइसोलेशन में हैं तो ऑक्सीजन लेवल पर रखें नजर

होम आइसोलेट हैं वह सभी कंट्रोल रूम से पहुंच रहे कॉल पर ऑक्सीजन लेवल की जानकारी देते रहें।

वाराणसी के जिलाधिकारी एवं स्वास्थ्य समिति के अध्यक्ष कौशलराज शर्मा का कहना है कि जो प्रवासी इस बीच जिले में आये हैं और होम आइसोलेट हैं वह सभी कंट्रोल रूम से पहुंच रहे कॉल पर ऑक्सीजन लेवल की जानकारी देते रहें।

Saurabh ChakravartyThu, 15 Apr 2021 07:45 PM (IST)

वाराणसी, जेएनएन। जिलाधिकारी एवं स्वास्थ्य समिति के अध्यक्ष कौशलराज शर्मा का कहना है कि जो प्रवासी इस बीच जिले में आये हैं और होम आइसोलेट हैं वह सभी कंट्रोल रूम से पहुंच रहे कॉल पर ऑक्सीजन लेवल की जानकारी देते रहें। गैर प्रान्तों से आ रहे प्रवासियों को बीमारी से बचाने के लिए स्वास्थ्य विभाग लगातार सैंपलिंग कराने में जुटा है। रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन के साथ ही  बीएचयू सर सुंदरलाल चिकित्सालय, एसएसपीजी मंडलीय चिकित्सालय,एसवीएम भेलूपुर तथा एलबीएस हॉस्पिटल रामनगर पर टीम लगाकर जांच करायी जा रही है। सभी स्वयं की सुरक्षा के लिए जांच जरूर करायें।

प्रभारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ एनपी सिंह ने बताया कि होम आइसोलेट मरीजों के पास प्रत्येक दिन फोन जा रहा है। सभी कोविड नियमों का पालन करते हुये फोन पर पूरी जानकारी दें। जांच रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद भी सतर्क रहें।  इधर बीच महाराष्ट्र, गुजरात, पंजाब दिल्ली इत्यादि प्रदेशों से आने वाले प्रवासियों को स्वास्थ्य विभाग होम आइसोलेट करा रहा है। इसमें कई लोग कोरोना पाजिटिव भी मिले हैं। सामान्य लोगों के बीमार मिलने के बाद सभी को होम आइसोलेशन में रखा गया है और सभी की कंट्रोल रूम से प्रतिदिन मोनीटरिंग की जा रही है।

नोडल रैपिड रेस्पान्स टीम डॉ राहुल सिंह ने बताया होम आइसोलेशन में रहने के दौरान मास्क लगाकर रहें,  जिससे घर के अन्य सदस्य प्रभावित्त न हों। घरों से  बाहर न निकलें। घरों में सबसे दूरी बनाकर अलग रहें। पल्स ऑक्सीमीटर साथ रखें। ऑक्सीजन लेवल की  जानकारी लेते रहें। पल्स को नापते रहें। ऑक्सीजन लेवल 95 से नीचे या सेहत में उतार चढ़ाव या गड़बड़ी हो तो इसकी सूचना तत्काल टोल फ्री नंबर 1077 पर दें।

थर्मामीटर से अपने शरीर के तापमान को भी नापते रहें। अपने मोबाइल में होम आइसोलेशन और आरोग्य सेतु एप जरूर डाउनलोड करें। कंट्रोल रूम से बताई गई दवाइयों का सेवन करें, जैसे – टैब एजीथ्रोमायसिन 500 एमजी 1 रोज, टैब जेंकोविट 1 रोज, टैब विटामिन सी 1 रोज, बुखार आने पर टैब पैरासिटमऑल 500 एमजी दिन में 3 बार तथा टैब आइवर्मेक्टिन 12 एमजी लगातार 3 दिन तक अवश्य लें। प्रोटीन का सेवन करें। मिर्च और मशाला से दूर रहें। सादा एवं संतुलित भोजन करें। साथ ही साथ आयुर्वेदिक काढ़ा का भी प्रयोग करते रहें। ठंडी चीजों का परहेज करें। इस दौरान आपको ध्यान रखना है कि आपको होम आइसोलेशन में 17 दिन तक रहना है, आप अपने कमरे में 10 दिन तक रहें। 10 दिन के बाद 7 दिन तक कोविड नियमों का पालन करते हुये रूम के बाहर टहल सकते हैं। समस्या होने पर समय से सूचना दें, ताकि स्वास्थ्य टीम मौक़े पर पहुंच कर मदद कर सके या नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर ले जाकर उपचार कराया जा सके।       

बचाव के लिए करायें जांच

गैर प्रान्तों से आ रहे प्रवासियों को बीमारी से बचाने के लिए स्वास्थ्य विभाग लगातार सैंपलिंग कराने में जुटा है। रेलवे स्टेशन,बस स्टेशन के साथ ही  बीएचयू सर सुंदरलाल चिकित्सालय, एसएसपीजी मंडलीय चिकित्सालय,एसवीएम भेलूपुर तथ एलबीएस हॉस्पिटल रामनगर पर टीम लगाकर जांच करायी जा रही है। लक्षण नजर आने पर  स्वयं की सुरक्षा के लिए जांच जरूर करायें।

दिनचर्या में इसे करें शामिल

मास्क लगायें और दूसरों को भी प्रेरित करें, सोशल डिस्टेन्सिंग का पालन करें।  हाथों को समय-समय पर धुलते रहें, बुजुर्गों व बच्चों को घर से बाहर न जाने दें। सभी लोग जरूरत पर ही घर से निकलें तथा कोविड का टीका जरूर लगवाएं।

• कंट्रोल रूम से आने वाले फोन पर बतायें ऑक्सीजन लेवल, रहें सजग - जिलाधिकारी

• होम आइसोलेट मरीजों के पास हर रोज जा रहा फोन, कोविड नियमों का पालन करते हुये फोन पर दें पूरी जानकारी, जांच रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद भी रहें सतर्क – प्रभारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी

• सेहत में सुधार व गड़बड़ी की भी दें जानकारी, टीम करेगी उपचार – नोडल रैपिड रेस्पांस टीम 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.