Corona Infection in Varanasi : वाराणसी में जागा महकमा, आठ एंबुलेंस चालकों को अधिक किराया लेते हुए पकड़ा

वाराणसी के परिवहन अधिकारियों ने बीस से अधिक एंबुलेंस को रोककर मरीज के परिजनों से किराया के बारे में पूछा।

वाराणसी के परिवहन अधिकारियों ने बीस से अधिक एंबुलेंस को रोककर मरीज के परिजनों से किराया के बारे में पूछा। चेकिंग के दौरान आठ एंबुलेंस चालक अधिक किराया लेते हुए पकड़े गए। उन्हें चेतावनी देते हुए सामान्य किराया लेने का निर्देश दिया गया

Saurabh ChakravartySun, 18 Apr 2021 08:05 PM (IST)

वाराणसी, जेएनएन। पंचायत चुनाव में व्यस्त होने के बाद भी एंबुलेंस संचालकों की मनमानी पर नकेल कसने के लिए रविवार को परिवहन अधिकारी सड़क पर उतर गए। परिवहन अधिकारियों ने बीस से अधिक एंबुलेंस को रोककर मरीज के परिजनों से किराया के बारे में पूछा। चेकिंग के दौरान आठ एंबुलेंस चालक अधिक किराया लेते हुए पकड़े गए। उन्हें चेतावनी देते हुए सामान्य किराया लेने का निर्देश दिया गया, क्योंकि उसमें मरीज थे। साथ ही मरीज के परिजन को अधिक किराया नहीं देने को कहा। दैनिक जागरण ने 17 अप्रैल के अंक में मौत के सौदागर बने एंबुलेंस चालक, आंखों का सूखा पानी खबर लिखकर जिला प्रशासन और परिवहन विभाग को आईना दिखाया था। खबर का असर रहा है कि एंबुलेंस चालकों की मनमानी पर रोक लगी और चालक अधिक किराया लेने से घबरा रहे हैं।

वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण तेजी से फैलने से लोग डर गए हैं। लोग अपने घरों से निकलना नहीं चाह रहे हैं जो इस महामारी के चपेट में आ चुके हैं उनकी हालत काफी दयनीय है। उन्हें अस्पताल में बेड और बाजार में दवा नहीं मिल रही हैं। दर-दर भटक रहे हैं। वहीं, एंबुलेंस चालक मरीजों को अस्पताल तथा कोरोना संक्रमित मरीज को अस्पताल से हरिश्चंद्र घाट तक पहुंचाने का मनमाना किराया मांग रहे थे। परिवार वालों के अनुरोध और विनती करने के बाद भी उनके सहेत पर कोई फर्क नहीं पड़ रहा था, जैसे उनकी मानवता मर गई हो। उन्हें सिर्फ पैसा दिखाई पड़ रहा था। दैनिक जागरण ने मनमाना किराया वसूल रहे एंबुलेंस संचालकाें और चालकों के खिलाफ अभियान चलाया तो महकमा भी जाग गया। पंचायत चुनाव में व्यस्त होने के बाद भी अधिकारी सड़क पर उतर गए और कई एंबुलेंस को रोककर किराया के बारे में पूछा और उन्हें चेतावनी दी।

अस्पताल मालिक तय करते हैं किराया

रिंग रोड पर एक एंबुलेंस को यात्रीकर अधिकारी ने रोक कर पूछा, कहां जा रहे हैं आप, मरीज से कितना किराया लिया है। एंबुलेंस चालक ने जवाब दिया, हमें नहीं मालूम। यह अस्पताल मालिक जाने, मुझे सिर्फ मरीज को अस्पताल पहुंचाना है। एंबुलेंस मरीज होने पर यात्रीकर अधिकारी ने चालक को चेतावनी देते हुए छोड़ दिया। उस एंबुलेंस का नंबर और अस्पताल का नाम और पता नोट कर लिया।

एंबुलेंस चालकों की मनमानी किसी भी हालत में चलनी नहीं दी जाएगी

एंबुलेंस चालकों की मनमानी किसी भी हालत में चलनी नहीं दी जाएगी। यदि कोई एंबुलेंस चालक अधिक किराया लेता है तो परिवहन विभाग के ई-मेल आइडी पर एंबुलेंस का फोटो और विडियो क्लिप बनाकर भेजें। उनके खिलाफ कार्रवाई तय हैं। प्रवर्तन कार्य के दौरान अब एंबुलेंस पर विशेष नजर होगी। कार्यालय खुलने पर एंबुलेंस संचालकों की सूची बनाई जाएगी।

-मिथिलेश सिंह, यात्रीकर अधिकारी

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.