CM Yogi in Varanasi : प्लान बना कर वाराणसी की सड़कों को दीपावली से पूर्व गड्ढा मुक्त करें : योगी आदित्‍यनाथ

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को सर्किट हाउस में अधिकारियों के साथ बैठक कर विकास कार्यों की जानकारी ली एवं आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। शहर व गांव की समस्त सड़कों की कार्य योजना बनाकर दीपावली से पूर्व गड्ढा मुक्त करें।

Saurabh ChakravartySun, 19 Sep 2021 10:52 PM (IST)
काशी विश्‍वनाथ धाम कारिडोर के कार्यों के बारे में जानकारी लेते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

जागरण संवाददाता, वाराणसी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रविवार को सर्किट हाउस में अधिकारियों के साथ बैठक कर विकास कार्यों की जानकारी ली एवं आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। शहर व गांव की समस्त सड़कों की कार्य योजना बनाकर दीपावली से पूर्व गड्ढा मुक्त करें। समस्त विभाग अपनी-अपनी सड़कों का सर्वे कर प्लान बना ले। जनपद में विभिन्न विभागों ने 542 सड़कों पर 900 किलोमीटर पैच वर्क की कार्ययोजना बना ली है। जिस पर 17 करोड़ 68 लाख रुपए व्यय आएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि फीवर ट्रैकिंग कर डेंगू व अन्य संक्रामक रोगों के नियंत्रण हेतु सघन पर्यवेक्षण व विशेष स्वच्छता कार्य, टेस्टिंग, इलाज, बचाव हेतु जागरूकता कार्यक्रम शहर से गांव तक चलाएं। जनपद की समस्त 694 ग्राम पंचायतों में 712 स्प्रे मशीन व 120 फागिंग मशीन से स्प्रे व फागिंग हो रहा है। हैंड पंप के पास सफाई व नाली सफाई की जा रही है। गांव में 694 निगरानी समिति क्रियाशील है। अब तक जरूरतमंदों को 151679 मेडिकल किट वितरित की जा चुकी है। काशी में प्रवासियों, मजदूरों व अन्य को व्यापक स्तर पर 137723 लोगों को आर्थिक सहायता दी गई। प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना में अब तक 2 लाख 90 हजार 437 गोल्डन कार्ड बन चुके हैं तथा 66851 लोगों का उपचार आयुष्मान भारत में किया जा चुका है। फीवर ट्रैकिंग में जुलाई से अब तक 75050 टेस्ट किए गए। जनपद में चिकनगुनिया, कालाजार, जेई/एईएस का कोई केस बनारस में नहीं पाया गया। डेंगू की 124 कंफर्म केस पाए गए जिन का इलाज हुआ। अब तक जनपद में 21,78000 वैक्सीनेशन हो चुका है। स्पेशियल सैनिटेशन प्रोग्राम जून से बराबर चलाया जा रहा है। शहर व गांव में व्यापक फागिग, एंट्री लार्वा स्प्रे, ब्लीचिंग स्प्रे, सॉलि़ड वेस्ट मैनेजमेंट, नाली सफाई आदि कार्य युद्ध स्तर पर किए जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश में बाढ़ पर बेहतर नियंत्रण प्रबंधन किया गया, जिसके फलस्वरूप जनधन हानि न्यून रही। पहले चौकशी रखने पर नियंत्रण में सुगमता रहती। उन्होंने अभी भी गंगा जल स्तर पर निगाह रखने और आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिए। काशी में बाढ़ नियंत्रण व प्रभावित लोगों को की गई सहायता अच्छी रही। इसे आमजन ने महसूस किया। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को कहा कि पर्यटकों को और अधिक आकर्षित करने व आमजन काशी में सुखद अनुभूति ऐसे कार्यों के और प्रस्ताव आमजन से संवाद के साथ तैयार करें।

मेरठ से प्रयागराज गंगा एक्सप्रेसवे बड़ी सुविधाजनक परियोजना है। इससे पूर्व में लगने वाले समय से आधा समय इस एक्सप्रेस वे पर मेरठ से प्रयागराज तक लगेगा। काशी में फोरलेन का जाल बिछ गया है। शहर के हर क्षेत्र का सुंदरीकरण हुआ। दशकों से पार्किंग की समस्या भी शीघ्र चार तैयार हो रही पार्किंग स्थलों से दूर होगी। खिड़कियां घाट, दशाश्वमेध प्लाजा, गोदौलिया से दशाश्वमेध, गोदौलिया मार्ग, काशी विश्वनाथ कॉरिडोर ये सब काशी की छटा बिखेरेगी और दुनिया तक काशी का भव्य रुप दिखेगा। वर्तमान में भी काफी में 8871.27 करोड़ रुपए की 117 प्रमुख परियोजनाएं संचालित है। इस अवसर पर कमिश्नर दीपक अग्रवाल, जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा सहित अन्य अधिकारी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.