मॉडल होगा मछोदरी स्कूल और इंटर तक की चलेंगी कक्षाएं, वाराणसी के कमिश्नर ने किया निरीक्षण

कमिश्नर ने निरीक्षण के दौरान स्कूल में लग रही खिड़की, दरवाजे, प्लास्टर व अन्य निर्माण कार्य की गुणवत्ता देखी।
Publish Date:Thu, 24 Sep 2020 10:39 PM (IST) Author: Saurabh Chakravarty

वाराणसी, जेएनएन। निर्माणाधीन मछोदरी स्कूल मॉडल स्कूल होगा। साथ ही क्षेत्र की बड़ी आबादी के बच्चों को गुणवत्ता युक्त शिक्षा मुहैया कराने का केंद्र बनेगा। कमिश्‍नर दीपक अग्रवाल गुरुवार को स्मार्ट सिटी योजना के तहत बन रहे इस स्कूल के निरीक्षण के दौरान यह बात कही। प्राइमरी व सेकेंडरी सेक्शन के साथ स्मार्ट क्लासेज की व्यवस्था, ऑडिटोरियम, कंप्यूटर लैब, स्किल डेवलपमेंट सेंटर होगा। स्कूल में सीसीटीवी कैमरा से निगरानी, बच्चों को शुद्ध पेयजल की व्यवस्था होगी। सीवर व्यवस्था, रेन वाटर हार्वेस्ट सिस्टम, सोलर सिस्टम व किडस प्ले एरिया आदि से परिपूर्ण यह स्कूल होगा। इस पर कुल  14.21 करोड़ रुपये खर्च हो रहे हैं। कमिश्नर ने निरीक्षण के दौरान स्कूल में लग रही  खिड़की, दरवाजे, प्लास्टर व अन्य निर्माण कार्य की गुणवत्ता देखी। कार्यदायी  संस्था को हिदायत दी कि गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दें। लापरवाही नहीं होनी चाहिए।

कमिश्नर ने स्कूल को सीबीएससी पद्धति से 12वीं तक शिक्षा मुहैया कराने पर बल दिया। पचास फीसद कार्य पूर्ण है। इसी वर्ष के अंत तक 100 फीसद कार्य पूर्ण करने का लक्ष्य है। कमिश्नर ने इसके बाद टाउनहाल में बन रहे 150 कारों एवं 200 दो पहिया वाहन के निर्माणाधीन पार्किंग स्थल का निरीक्षण किया। स्मार्ट सिटी में 23.31 करोड़ धनराशि की लागत से बन रहा यह पार्किंग मैदागिन के आसपास के क्षेत्र विशेश्वरगंज, कालभैरव, कोतवाली, चौक आदि के लिए बहुत उपयोगी होगा। गोदौलिया पार्किंग स्थल इसी वर्ष के अंत तक, टाउनहॉल पार्किंग अगले वर्ष सितंबर तक तथा बेनियाबाग पार्किंग अगले वर्ष दिसंबर तक पूर्ण कर लिए जाने का लक्ष्य तय है। निरीक्षण के दौरान नगर आयुक्त गौरांग राठी सहित अन्य विभागीय अधिकारी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.