वाराणसी में लगा मुख्‍यमंत्री आरोग्य मेला, मरीजों की निशुल्क जांच और दवाओं का हुआ वितरण

आरोग्य मेले की बढ़ती लोकप्रियता के परिणामस्वरूप शिविर में लोग आयुर्वेद के इलाज़ के लिए दूर दूर से आ रहे है और आयुर्वेद इलाज़ को प्राथमिकता के रूप में कराकर स्वास्थ्य लाभ ले रहे है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पहड़िया पर डा. टीना सिंघल ने मरीजो को चिकित्सा परामर्श दिया।

Abhishek SharmaPublish:Sun, 28 Nov 2021 05:17 PM (IST) Updated:Sun, 28 Nov 2021 05:17 PM (IST)
वाराणसी में लगा मुख्‍यमंत्री आरोग्य मेला, मरीजों की निशुल्क जांच और दवाओं का हुआ वितरण
वाराणसी में लगा मुख्‍यमंत्री आरोग्य मेला, मरीजों की निशुल्क जांच और दवाओं का हुआ वितरण

वाराणसी, जागरण संवाददाता। मुख्यमंत्री आरोग्य मेले का आयोजन रविवार को जिले के विभिन्न स्वास्थ्य केंद्रों पर किया गया। राजकीय आयुर्वेद महाविद्यालय एवं चिकित्सालय की प्राचार्य प्रो. नीलम गुप्ता व वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी डा. विनय मिश्रा के निर्देशन में महाविद्यालय के चिकित्सकों ने आज शहरी स्वास्थ्य केंद्र पहड़ियां और सिकरौल में स्वास्थ्य शिविर लगाया गया।

आरोग्य मेले की बढ़ती लोकप्रियता के परिणामस्वरूप शिविर में लोग आयुर्वेद के इलाज़ के लिए दूर दूर से आ रहे है और आयुर्वेद इलाज़ को प्राथमिकता के रूप में कराकर स्वास्थ्य लाभ ले रहे है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पहड़िया पर डा. टीना सिंघल ने मरीजो को चिकित्सा परामर्श दिया। शिविर में सहयोग जूनियर डा. ज्योति कौशिक, डा. श्वेता ने दिया। स्वास्थ्य परीक्षण के पश्चात मरीजो को निःशुल्क दवाइयां वितरित की गई। शाम तक पहाड़िया केंद्र पर 72 मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। चिकित्सकों के साथ साथ महाविद्यालय के स्नातकोत्तर छात्रों एवं फार्मसिस्ट विजय प्रकाश वर्मा एवं अजय सिंह ने भी सहयोग दिया और कार्यक्रम को सफल बनाया।

संजीवनी हालिस्टिक वैलनेस रिसर्च सेंटर का उद्घाटन, प्राकृतिक चिकित्सा मानव के लिए वरदान : माता प्रभावती सिंह ट्रस्ट द्वारा संचालित संजीवनी हालिस्टिक वैलनेस रिसर्च सेंटर का उद्घाटन तालुकदार सिंह सीटूपुर जौनपुर के राजेश कुमार सिंह राजू ने किया। मुख्य अतिथि तालुकदार सिंह ने बताया कि इस सेंटर के माध्यम से होलिस्टिक चिकित्सा के सभी विधा से आयुर्वेद प्राकृतिक चिकित्सा, योग एक्यूप्रेशर, फिजियोथैरेपी से चिकित्सा किया जाएगा और यहां के जनपद वासी स्वास्थ लाभ उठाएंगे। इस योग वैलनेस रिसर्च सेंटर के संचालक व मुख्य चिकित्सक डॉ. अजीत कुमार सिंह ने बताया कि इस अवसर पर एक राष्ट्रीय वेबिनार का कार्यक्रम रखा गया है। जिस के मुख्य वक्ता होलिस्टिक चिकित्सा के ओजस्वी एवं प्रकांड विद्वान विश्व संवाद परिषद योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय महासचिव प्रो. नवीन सिंह ने बताया कि प्राकृतिक चिकित्सा आज के युग में मानव के लिए वरदान साबित होगा क्योंकि जो प्राकृतिक में है वह आपके शरीर में है यथा ब्रह्मांड यथा पिंडे मिट्टी पानी नभ धूप हवा सब रोगों की एक दवा। कार्यक्रम में डा. अजीत सिंह, डा. एके चौधरी, डा. संजीव राजपूत सिंह, डा. अरुण कुमार दुबे, डा. सुनील शुक्ला आदि मौजूद थे।