top menutop menutop menu

वाराणसी में दारोगा व पुलिसकर्मियों से हाथापाई मामले में भाजपा नेता समेत 8 के खिलाफ 19 धाराओं में मुकदमा

वाराणसी, जेएनएन। लंका थाना क्षेत्र के सुंदरपुर चौराहे पर शुक्रवार की रात भाजपा नेता सुरेंद्र पटेल और उनके पुत्र से दारोगा से मारपीट और बवाल के मामले में दारोगा सुनील गौंड की तहरीर पर 7 नामजद और एक अज्ञात के खिलाफ बलवा, मारपीट, जानलेवा हमला, लूट, सरकारी कार्य में बाधा और 7 क्रिमिनल ला एक्ट सहित 19 धाराओं में मुकदमा दर्ज हुआ। मामले में गिरफ्तार भाजपा नेता सुरेंद्र पटेल और उनके भाई वीरेंद्र सिंह उर्फ बिंदु अधिवक्ता को लंका पुलिस ने जेल भेज दिया। कचहरी कोर्ट में पेशी के दौरान काफी संख्या में अधिवक्ताओं ने हंगामा किया। हालांकि शाम को दोनों की जमानत अर्जी मंजूर कर ली गई। सुंदपुर के रहने वाले पूर्व सभासद और जिला पंचायत सदस्य सुरेंद्र पटेल भाजपा में महामंत्री पद पर हैं। शुक्रवार की रात उसके पुत्र व काशी विद्यापीठ के छात्र नेता विकास पटेल और कुछ साथियों से कहासुनी के दौरान दारोगा से मारपीट हो गई थी ।

पुलिस पर लगातार हमले को लेकर एसएसपी सख्त

लंका में लागातर पुलिस पर हो रहे हमले को लेकर एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने बहुत ही सख्त बयान दिया है। एसएसपी ने कहा कि पुलिस पर हमला करने वालों के खिलाफ कठोर व दंडात्मक कार्रवाई की जा रही है। जनता में यह संदेश जाना चाहिए कि पुलिस पर हमला करने वाले बख्शे नही जाएंगे। लंका थाना क्षेत्र में यह चौथी घटना है जिसमे दारोगा पर हमला हुआ है। सीरगोवर्धनपुर में ज्ञानवापी से ड्यूटी के बाद लौट रहे दारोगा पर हमला कर लूट हुआ। चौकी प्रभारी चितईपुर के ऊपर सफारी सवारों ने हमला किया। इसी दारोगा पर एपेक्स हॉस्पिटल के प्रबंधक से भी गाली-गलौज और दुर्व्यवहार का मामला सामने आया था और एक बार फिर दारोगा पर हमला समाज मे गलत संदेश दे रहा है।

दारोगा की कार्यप्रणाली पर भी सवाल

भाजपा नेता और दारोगा के बीच हुए बवाल के बाद शनिवार को लंका थाने पर चर्चा रही कि दारोगा सुनील गौंड का आमजन में व्यवहार ठीक नही है और बदतमीजी से बात करने का आरोप है जिसके कारण उसकी कई जगह लोगों से बहस हो चुकी है। वर्तमान में चौकी प्रभारी सूरज तिवारी के छुट्टी पर जाने के बाद कुछ ज्यादा ही चर्चा में है।

भाजपा नेताओं ने पुलिस पर उठाया सवालिया निशान

बवाल के बाद लंका थाने पर शनिवार की सुबह भाजपा जिलाध्यक्ष हंसराज विश्वकर्मा और रोहनिया विधायक सुरेंद्र नारायण सिंह ने कहा कि जनप्रतिनिधि के ऊपर इस तरह की आपराधिक कार्रवाई करना अनुचित है। भाजपा नेता के ऊपर 19 मुकदमे लाद देना कहीं से उचित नहीं है। मास्क को लेकर भी नेताओ का आरोप है कि पुलिस खुद मास्क नही लगाई थी। शुक्रवार की रात एसपी सिटी विकास चंद्र त्रिपाठी के साथ भी भाजपा नेता अशोक तिवारी और सुरेश सिंह की वार्ता हुई लेकिन पुलिस की नागवार बातों से भाजपा नेता उठकर चले गए। विकास पटेल, सुरेंद्र पटेल, वीरेंद्र पटेल, संतोष सिंह, किशन राय उर्फ फैलू, शशांक यादव उर्फ गोलू , सहजाद खान और एक अज्ञात के खिलाफ 147 ,148 ,149 ,323 ,504 ,506 ,341 ,307 ,392 ,114 ,188 ,269 ,270 ,364 ,353 ,332 ,333 , 186 ,7 आइपीसी के तहत केस दर्ज किया गया है। वहीं शाम को लंका पुलिस ने आरोपितों के विरुद्ध दर्ज धाराओं में से धारा 307(हत्या का प्रयास), 392 (बल प्रयोग कर लूट) तथा 364 (अपहरण) भा.द.सं. को हटा लिया।

क्‍या था मामला

पुलिस के अनुसार सिपाहियों के साथ सुंदरपुर चौकी प्रभारी हॉटस्पॉट की घेरेबंदी करा रहे थे। इस दौरान बाइक सवार साथियों के साथ भाजपा नेता व जिला पंचायत सदस्य के पुत्र विकास पटेल पहुंच गए। मास्क नहीं लगाने पर पुलिस ने रोका तो हाथापाई करने लगे। कुछ देर में जिला पंचायत सदस्य भी परिवार के सदस्यों के साथ पहुंच कर मारपीट करने लगे। उन्होंने सरेआम चौकी इंचार्ज व सिपाही पर हाथ छोड़ दिया। इस दौरान वीडियो फुटेज बना रहे लोगों पर भी रौब गांठा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.