ई-पाठशाला में बेहतर प्रदर्शन दिलाएगा पुरस्कार, राज्य अध्यापक पुरस्कार के लिए 31 मई तक आवेदन करने का मौका

ई-पाठशाला में बेहतर प्रदर्शन दिलाएगा पुरस्कार, 31 मई तक आवेदन करने का मौका

राज्य अध्यापक पुरस्कार की पात्रता के लिए इस बार ई-पाठशाला भी जोड़ दिया गया है। बेसिक शिक्षा विभाग के शिक्षकों को वैश्विक कोरोना महामारी में ई-पाठशाला में तहत बेहतर प्रदर्शन करने पर 15 अंक निर्धारित किया गया है।

Saurabh ChakravartySat, 08 May 2021 05:36 PM (IST)

वाराणसी, जेएनएन। राज्य अध्यापक पुरस्कार की पात्रता के लिए इस बार ई-पाठशाला भी जोड़ दिया गया है। बेसिक शिक्षा विभाग के शिक्षकों को वैश्विक कोरोना महामारी में ई-पाठशाला में तहत बेहतर प्रदर्शन करने पर 15 अंक निर्धारित किया गया है। इसी प्रकार विभिन्न गतिविधियों पर निर्धारित 120 अंकों में सीखने की नई तकनीकी अपनाने पर भी 15 अंक, ऑपरेशन कायाकल्प के तहत विद्यालय में कराए गए कार्यों पर दस अंक निर्धारित है।

काेरोना महामारी को देखते हुए राज्य अध्यापक पुरस्कार के लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि 31 मई तक के लिए बढ़ा दी गई है। निर्धारित अवधि में बेसिक शिक्षा विभाग से संचालित प्राथमिक, उच्च प्राथमिक के अलावा अशासकीय सहायता प्राप्त जूनियर हाईस्कूलों में कार्यरत अध्यापक राज्य पुरस्कार के लिए प्रेरणा वेब पोर्टल प ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। संविदा पर तैनात व शिक्षामित्र पुरस्कार के लिए आवेदन नहीं कर सकते हैं। जनपद स्तर पर शिक्षकों के आवेदन का सत्यापन कर रिपोर्ट 30 जून तक बेसिक शिक्षा निदेशक भेजी जाएगी। जनपद स्तर पर चयनित शिक्षकों को राज्य स्तर समिति के समक्ष व्यक्तित्व परीक्षण की प्रस्तुति करनी होगी।

पुरस्कार के लिए इन बिंदुओं पर होगा मूल्यांकन

- शिक्षक द्वारा बच्चों व अभिभावकों को प्रोत्साहित किए गए कार्य

-राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय पत्रिकाओं में लेख का प्रकाशन

- विद्यालयों में नियमित उपस्थिति

- इन सर्विस प्रशिक्षण में उपस्थिति

- नामांकन बढ़ने व ड्राप आउट बच्चों के लिए किए गए कार्य

- ई-सामग्री व हस्तपुस्तिका के विकास में योगदान

अब ई-पाठशाला का खुलेगा ताला, मिशन प्रेरणा के तहत तीन सप्ताह की पाठ्य सामग्री तैयार

कोरोना महामारी को देखते हुए जूनियर हाईस्कूल स्तर के विद्यालय 20 मई तक बंद कर दिए गए हैं। इस दौरान ऑनलाइन क्लास, ई-पाठशाला भी बंद कर दिया गया था। अब बेसिक शिक्षा विभाग के परिषदीय विद्यालयों ने ई-पाठशाला शुरू करने पर निर्णय लिया है ताकि महामारी में भी बच्चों की पढ़ाई बाधित न हो।

मिशन प्रेरणा के तहत ई-पाठशाला के पाठ्य सामग्री पहले से ही तैयार कर ली गई थी। ‘घर ही बन जाएगा विद्यालय हमारा, हम चलाएंगे ई- पाठशाला’ के सिद्धांत पर कक्षा-एक से आठ तक की हर कक्षा की अलग-अलग योजना बनाई गई है। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी राकेश सिंह ने तीन सप्ताह की पाठ्य सामग्री खंड शिक्षा अधिकारियों (बीईओ), एसआरजी, एआरपी के वाट्स-एप ग्रुपों पर साझा भी कर दिया गया है।

 

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.