देश के 75 संस्थान बनारस रेल इंजन कारखाना के नेतृत्व में कर रहे हैं युवाओं को प्रशिक्षित

कौशल विकास कर युवाओं को स्वरोजगार उद्यम व स्टार्टअप से जोड़ते हुए उनकी ऊर्जा एवं क्षमता का राष्ट्र निर्माण में उपयोग करने का पीएम का सपना पूरा करने में रेलवे जुट गया है। बरेका के नेतृत्व में देश के 75 रेलवे संस्थानों ने युवाओं के मुफ्त प्रशिक्षण दे रहे हैं।

Saurabh ChakravartyWed, 22 Sep 2021 08:20 AM (IST)
बरेका के नेतृत्व में देश के 75 रेलवे संस्थानों ने अपने दरवाजे युवाओं के मुफ्त प्रशिक्षण के लिए खोले हैं।

जागरण संवाददाता, वाराणसी। कौशल विकास कर युवाओं को स्वरोजगार, उद्यम व स्टार्टअप से जोड़ते हुए उनकी ऊर्जा एवं क्षमता का राष्ट्र निर्माण में उपयोग करने का पीएम नरेन्द्र मोदी का सपना पूरा करने में रेलवे जुट गया है। इस क्रम में बनारस रेल इंजन कारखाना (बरेका) के नेतृत्व में देश के 75 रेलवे संस्थानों ने पहली बार अपने दरवाजे युवाओं के मुफ्त प्रशिक्षण के लिए खोले हैं। आजादी का अमृत महोत्सव के क्रम में रेल कौशल विकास योजना के तहत कार्यशाला का आयोजन कर चयनित किए गए युवाओं को विभिन्न ट्रेड्स में 18-18 दिन प्रशिक्षित करने की शुरुआत हुई है। कार्यशालाओं का वर्चुअल शुभारंभ रेल, संचार, इलेक्ट्रानिक, सूचना एवं प्रौद्योगिकी मंत्री अश्विनी वैष्णव ने शुक्रवार को किया। इस दौरान प्रशिक्षुओं से बात कर उनका हौसला भी बढ़ाया।

बरेका में 60 युवाओं का चयन

बरेका के जनसंपर्क अधिकारी राजेश कुमार ने बताया कि बरेका को प्रशिक्षण अभियान का नोडल बनाया गया है। यहां पहले बैच में 60 युवा चयनित किए गए हैं। वेल्डिंग, फिटर, मशीनरी व इलेक्ट्रिकल ट्रेड में 15-15 युवाओं को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। मार्च 2022 तक 200 तथा वर्ष 2024 तक 1000 युवाओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा। देश में 50 हजार युवाओं का प्रशिक्षण से कौशल विकास का लक्ष्य है।

पीएम की जन्मतिथि पर रेलवे का उपहार

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने पीएम की जन्मतिथि पर इसे रेलवे का उपहार बताते हुए कहाकि इंस्ट्रूमेंटेशन, सिग्नलिंग, कंक्रीट की तैयारी और परीक्षण, कंक्रीट संरचनाओं को बनाने के लिए, इलेक्ट्रानिक कार्डों के प्रतिस्थापन व शोल्डरिंग आदि जैसे ट्रेड में युवाओं को ट्रेनिंग मिलनी चाहिए। उन्होंने वेल्डिंग प्रशिक्षु किरण चौहान से बात की। उड़ीसा के आदिवासी लड़के का उदाहरण दिया, जिसे ग्लोबल स्किल्स ओलंपियाड में कौशल स्पर्धा में चार स्वर्ण पदक मिले थे।

बरेका ने बनाया प्रशिक्षण पाठ्यक्रम

प्रशिक्षण कार्यक्रम का पाठ्यक्रम बनाने के साथ बरेका ही प्रशिक्षुओं के मूल्यांकन को मानकीकृत कर प्रतिभागियों का केंद्रीयकृत डेटाबेस रखेगा। इसमें प्रस्तावित कार्यक्रमों, आवेदन अधिसूचना, चयनितों की सूची, चयन परिणाम, अंतिम मूल्यांकन, अध्ययन सामग्री आदि की जानकारी होगी। इसके लिए नोडल वेबसाइट विकसित हो रही है।

प्रमाणपत्र संग सुरक्षा व टूल किट भी

प्रशिक्षुओं को प्रशिक्षण के बाद मानकीकृत परीक्षा उत्तीर्ण होने पर राष्ट्रीय रेल और परिवहन संस्थान द्वारा आवंटित व्यापार में प्रमाणपत्र दिया जाएगा। काम शुरू करने के लिए सुरक्षा, टूल किट निश्शुल्क मिलेगी। इससे रोजगार या उद्यम शुरू कर सकेंगे व विभिन्न निजी संस्थानों में नौकरी पा सकेंगे।

विश्वास पर खरा उतरेंगे : जीएम

महाप्रबंधक अंजली गोयल ने उद्घाटन समारोह में रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव, रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुनीत शर्मा को बरेका को नोडल इकाई बनाने के लिए धन्यवाद किया। कहा कि बरेका उनके विश्वास पर खरा उतरेगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.