वाराणसी में 3658 ने उठाया आरोग्य स्वास्थ्य मेले का लाभ, गरीब कल्याण दिवस पर निश्शुल्क मिली स्वास्थ्य सेवा

शासन की ओर से नामित अपर निदेशक डा. सतीश चंद सिंह ने शहरी पीएचसी-पांडेयपुर व अपर निदेशक/मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. वीबी सिंह ने शहरी पीएचसी अशफाक नगर व भेलूपुर का निरीक्षण करते हुए स्वास्थ्यकर्मियों को जरूरी निर्देश दिए।

Abhishek SharmaSun, 26 Sep 2021 08:10 AM (IST)
शहरी व ग्रामीण प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेला आयोजित किया गया।

वाराणसी, जागरण संवाददाता। गरीब कल्याण दिवस के मौके पर शनिवार को जनपद के सभी शहरी व ग्रामीण प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेला आयोजित किया गया। मेले में 3658 मरीजों ने पहुंचकर निश्शुल्क चिकित्सीय परामर्श, जांच व दवा का लाभ लिया। शासन की ओर से नामित अपर निदेशक डा. सतीश चंद सिंह ने शहरी पीएचसी-पांडेयपुर व अपर निदेशक/मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. वीबी सिंह ने शहरी पीएचसी अशफाक नगर व भेलूपुर का निरीक्षण करते हुए स्वास्थ्यकर्मियों को जरूरी निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेले में कुल 3658 लोगों की स्वास्थ्य जांच की गई, जिनमें 1476 पुरुष, 1712 महिलाएं व 470 बच्चे शामिल थे। आयुष्मान भारत योजना के स्टाल लगाकर 451 लाभार्थियों के गोल्डेन कार्ड भी बनाए गए। वहीं कोविड हेल्प डेस्क पर 2184 लोगों की स्क्रीनिंग की गईं, जिसमें 989 व्यक्तियों का एंटीजन किट से कोरोना टेस्ट किया गया। सभी निगेटिव पाए गए। इसके अलावा 80 लोगों की हेपेटाइटिस-बी की जांच हुई। बुखार के 239 मरीज आए वहीं 108 लोगों की मलेरिया जांच में सभी निगेटिव मिले। 41 लिवर, 199 श्वांस से संबंधित रोग से ग्रसित, 320 उदर, 156 मधुमेह, 611 त्वचा संबंधी, 25 टीबी के संभावित लक्षण वाले, 46 एनीमिक (खून की कमी), 133 हाइपरटेंशन, दो कैंसर के मरीज मिले। इसके अलावा 304 महिलाओं की प्रसव पूर्व जांच (एएनसी), 1471 अन्य रोगों के मरीज देखे गए। स्थिति गंभीर देखते हुए 35 मरीजों को उच्च स्वास्थ्य केंद्रों के लिए रेफर किया गया।

कुपोषण के 43 बच्चे चिन्हित : मेले में 43 कुपोषित बच्चों को चिन्हित किया गया। 10 मरीजों को चिकित्सीय उपचार के लिए भेजा गया। इसके अलावा आठ को जनरल सर्जरी एवं 34 मरीजों के आंख की स्क्रीनिंग की गई, जिसमें आठ मरीजों को सर्जरी, 4 मरीजों को ईएनटी सर्जरी, चार को ओब्स एवं गायनी सर्जरी एवं एक मरीज को अन्य सर्जरी के लिए चिन्हित किया गया।

बोले लाभार्थी

यह सरकार की ओर से उठाया गया बहुत की सराहनीय कदम है। इन दिनों मौसमी बीमारियों के तकरीबन हर घर में मरीज हैं। - मोहन जी पाठक, नगवां

घर के नजदीक इतनी सुविधा है कि दूसरे किसी डाक्टर के पास जाने की जरूरत ही नहीं। यहां जांच भी हो रही है और दवा भी मिल रहा है। - कमला देवी, भगवानपुर

जांच और इलाज का खर्च इतना बढ़ गया है कि निजी हास्पिटल का खर्च सामान्य व्यक्ति वहन ही नहीं कर सकता। ऐसे में सरकार की पहल बड़ी राहत है। - प्रीति राजभर, सामनेघाट

मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेले का सबसे अच्छी बात ये है कि लोगों को उनके ही क्षेत्र में संपूर्ण चिकित्सा मिल पा रही है। समय और धन दोनों की बचत हो रही है। - विशाखा यादव, नगवां

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.