दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

वाराणसी में होम आइसोलेशन के 2224 और अस्पतालों में भर्ती 115 मरीज स्वस्थ, 17 मरीजों की हुई मौत

अनियंत्रित मृत्यु दर पर महकमे के लिए चिंता का सबब बनी हुई है।

जिले में कोरोना संकमण दर में गिरावट का क्रम बरकरार है तो वहीं ठीक होने की दर में भी लगातार इजाफा हो रहा है। बावजूद इसके अनियंत्रित मृत्यु दर पर महकमे के लिए चिंता का सबब बनी हुई है। सोमवार को 17 कोरोना मरीजों की मौत हुई।

Abhishek SharmaTue, 04 May 2021 09:59 AM (IST)

वाराणसी, जेएनएन। जिले में कोरोना संकमण दर में गिरावट का क्रम बरकरार है तो वहीं ठीक होने की दर में भी लगातार इजाफा हो रहा है। बावजूद इसके अनियंत्रित मृत्यु दर पर महकमे के लिए चिंता का सबब बनी हुई है। सोमवार को 17 कोरोना मरीजों की मौत हुई। एक दिन के लिहाज से यह अब तक की सर्वाधिक मौतें हैं। वहीं बीएचयू व मंडलीय हास्पिटल की लैब से मिले 5358 सैंपलों के परिणाम में 992 पाजिटिव मिले। अधिकांश मरीजों को हाेम आइसोलेशन का निर्देश देते हुए कमांड सेंटर से उनके स्वास्थ्य की निगरानी की जा रही है।

बीएचयू हास्पिटल में कबीरचौरा निवासिनी 34 वर्षीय महिला, कंदवा निवासी 42 वर्षीय, बरेका निवासी 72 वर्षीय, चंदनपुर निवासी 60 वर्षीय, चतरीपुर निवासी 53 वर्षीय, पहाड़ी गेट निवासी 58 वर्षीय व नीलमई लेन निवासी 78 वर्षीय पुरुष, डीडीयू हास्पिटल में बेनी पांडेयपुर निवासिनी 56 वर्षीय व ककरमत्ता निवासिनी 60 वर्षीय महिला, ट्रामा सेंटर बीएचयू में सामने घाट निवासिनी 60 वर्षीय व ककरमत्ता निवासिनी 67 वर्षीय महिला, ईएसआइसी हास्पिटल में पांडेयपुर निवासिनी 42 वर्षीय महिला, अनंत हास्पिटल में बरेका निवासी 36 वर्षीय पुरुष, एपेक्स हासपिटल में वृंदुपुरम काम्प्लेक्स निवासी 55 वर्षीय पुरुष, सेंट्रल हास्पिटल बरेका में बरेका निवासिनी 70 वर्षीय महिला, मेडिविन हास्पिटल में गायत्री नगर कालोनी निवासी 79 वर्षीय पुरुष एवं एलायंस हास्पिटल में सिकरौल निवासिनी 42 वर्षीय महिला की इलाज के दौरान मौत हो गई। वहीं होम आइसोलेशन के 2224 एवं विभिन्न अस्पतालों में भर्ती 115 मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव आने पर उन्हें स्वस्थ घोषित कर दिया गया। जिले में अब तक 69467 पाजिटिव केस मिले हैं, जिनमें से 53374 स्वस्थ भी हो चुके हैं। वर्तमान में 15494 सक्रिय कोरोना मरीज हैं। उधर, लैबाें में 3821 सैंपल पेंडिंग है, जिनके परिणाम का इंतजार है। 

अब कोटेदार भी बांटेंगे लक्षणयुक्त मरीजों को ‘कोरोना मेडिसिन किट’ : डीएम

 शहरी व ग्रामीण क्षेत्र में जहां भी कोरोना लक्षणयुक्त व्यक्ति मिल रहे हैं, फिर चाहे उनकी जांच रिपोर्ट आने में समय हो, उन्हें बचाव के लिए ‘कोरोना मेडिसिन किट’ उपलब्ध कराई जा रही है। स्वास्थ्य विभगा की रैपिड रिस्पांस टीम एक सप्ताह में 15,000 मेडिसिन किट बांट चुकी है। इसके लिए 20 वाहन लगाए गए हैं। वहीं दो स्वंय सेवी संस्थाओं के माध्यम से 1500 लोगों तक किट पहुंचाई गई। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि आगामी दिनों में कोविड संभावित लक्षण वाले 25000 लोगों तक किट पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। शहरी क्षेत्र में जिला आपूर्ति विभाग के कोटेदार 4500 किट बांटेंगे, इसके लिए उन्हें दवा उपलब्ध करा दी गई है। दवा पूरी तरह निश्शुल्क बांटी जाएगी।

नगर स्वास्थ्य अधिकारी की निगरानी में वार्डों में गठित निगरानी समितियों के माध्यम से भी 3000 किट बंटवाया जाएगा। वहीं ब्लाकों में आशा, एएनएम तथा ग्राम सचिवों के माध्यम से 10,000 मेडिसिन किट एवं शहरी क्षेत्रों में स्वाथ्य कर्मियों 7800 किट का वितरण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के विजन ‘ट्रेस, ट्रैक और ट्रीट’ को वाराणसी में पूरी तरह से लागू किया किया गया है ताकि जल्द से जल्द कोरोना पाजिटिव मरीजों की संख्या को कम किया जा सके। एसीएमओ डा. संजय राय ने बताया कि कोविड मेडिसिन किट लक्षण विहीन संभावित कोविड मरीजों में वितरित की जा रही है। यदि किसी भी व्यक्ति में कोविड-19 बीमारी के लक्षण दिखाई दे रहे हैं तो सचल आरआरटी टीम या नजदीकी प्राथमिक अथवा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों पर जाकर दवा प्राप्त कर सकता है। सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सुबह आठ से शाम पांच बजे तक पूर्व की तरह केंद्र पर ही निशुल्क दवा वितरित का कार्य करेंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.