सफाई कर्मियों की फौज फिर भी शहर में गंदगी

सफाई कर्मियों की फौज फिर भी शहर में गंदगी
Publish Date:Fri, 30 Oct 2020 04:49 PM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, उन्नाव : नगर पालिका क्षेत्र में साफ-सफाई को लेकर सफाई कर्मी संजीदा नहीं है। रस्म के तौर ड्यूटी की जा रही है। इसी का नतीजा है कि वार्डों में गंदगी फैली रहती है, जबकि 600 सफाई कर्मियों की फौज हर दिन सफाई के लिए जुटती है। उसके बाद भी शहर में गंदगी से लोगों को परेशान होना पड़ता है।

शहर में हर दिन 40 एमटी कूड़ा घर, दुकान, होटल, ढाबे से निकल रहा है। इसके निस्तारण की कोई व्यवस्था नहीं है। सफाई कर्मी हर दिन केवल ड्यूटी की रस्म पूरी कर चलते बनते हैं। इसी का नतीजा है कि वार्डों में और गली मोहल्लों में गंदगी रहती है।सफाई व्यवस्था के लिए नगर पालिका में 600 सफाई कर्मी नियुक्त है। इसमें आउटसोर्सिंग के 500 कर्मी हैं। कूड़े का उठान न होने से शहर के मुख्य मार्गों पर गंदगी रहती है। कांशीराम कालोनी का हाल यह है कि यहां पर सफाई कर्मी जाते ही नहीं है। ऐसे में यहां पर सबसे अधिक गंदगी है।

............

कूड़ा करकट से रैंकिग को लगता झटका

- शहर में कूड़ा करकट अधिक होने से हर साल होने से स्वच्छ सर्वेक्षण में नगर पालिका को स्वच्छता पर अंक मिलते है। स्वच्छता के लिए 1500 अंक होते हैं जो मेरिट बनाने में सहायक होते हैं लेकिन नगर पालिका इसी में पिछड़ता रहा है।

--------------

कचहरी और लोक निर्माण कार्यालय रोड बने अस्थाई कूड़ाघर

- शहर में सबसे अधिक कूड़ा लोक निर्माण विभाग के कार्यालय के बाहर जमा रहता है। उसके बाद कचहरी रोड पर जिला जली के पास ट्रांसफार्मर के पास कूड़े का ढेर लगा रहता है। गंदगी के कारण आवारा जानवरों की भी धमाचौकड़ी बनी रहती है।

--------------

- सफाई कर्मियों का बीट ड्यूटी चेक की जा रही है। जहां कहीं भी सफाई कर्मी सफाई में लापरवाही कर रहे हैं उन पर कार्रवाई होगी।

आरपी श्रीवास्तव, ईओ नगर पालिका

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.