पहले की देश सेवा, अब हैं धरा के श्रृंगार का जूनून

-रिश्तेदारों को मिठाई की जगह दे रहे पौधे अवकाश के दिन 150 किमी सफर कर पहुंचते हैं घर -गांवों में पौधारोपण व स्वछता के बने हैं दूत टोली के साथ सार्वजनिक स्थलों पर करते श्रमदान

JagranMon, 14 Jun 2021 10:47 PM (IST)
पहले की देश सेवा, अब हैं धरा के श्रृंगार का जूनून

जीतेंद्र श्रीवास्तव, सुलतानपुर : एक पूर्व फौजी को धरती के श्रृंगार का ऐसा जुनून है कि मिलने वालों को मिठाई की जगह पौधे देते हैं। छुट्टी के दिन डेढ़ सौ किमी का सफर कर गांव आते हैं तो युवाओं के साथ संपर्क मार्गों व सार्वजनिक स्थलों की सफाई करते हैं। अपनी इसी लगन से वे क्षेत्र में स्वच्छता व पौधारोपण के दूत बन गए हैं।

मुख्यालय से करीब 20 किलोमीटर दूर जयसिंहपुर तहसील के कारेबन गांव के धनंजय सिंह की प्राथमिक शिक्षा गांव व इंटर तक सेमरी के पीआर इंटर कालेज में हुई। पढाई के दौरान सेना में भर्ती हो गए। सिग्नल कोर में इनकी कार्यकुशलता को देखते हुए रक्षा मुख्यालय व डीजीएमओ(डाइरेक्टर जनरल मिलिट्री आपरेशंस) में भी तैनाती मिली। रिटायर हुए तो बैंक में जॉब कर ली और लखनऊ में रहने लगे। करीब 20 साल तक बाहर रहने के बाद जब अक्सर गांव आने लगे तो आवागमन वाले रास्तों पर उगी झाड़ झंखाड़ अखरने लगी। वह बताते हैं कि सड़क के किनारे भांग के देशी पौधे मुफ्त में नशाखोरी बढ़ा रहे थे। तभी मातृभूमि के लिए कुछ करने का ख्याल मन में आया। स्वच्छता व पौधारोपण का ऐसा जुनून चढ़ा कि हर शनिवार अवकाश के दिन राजधानी से गांव आते हैं और युवाओं के साथ श्रमदान में जुट जाते है। खुद के गांव के साथ आसपास वाले मलवा दम्मर का पुरवा व भिदूरा संपर्क मार्गों, सड़कों व सार्वजनिक स्थलों की सफाई करते है। धरती हरी भरी रहे इसके लिए उन्होंने नया तरीका अपनाया है वे रिश्तदारी में जाते हैं तो मिठाई नहीं पौधे लेकर जाते हैं। ग्रामीण क्षेत्र में फलदार छायादार बड़े व शहर वालों को गमले में लगाने वाले पौधे देते हैं।

-

इन युवाओं की बनाई टोली

गांव के शिवम सिंह, सचिन सिंह, शैलेश सिंह, अभिषेक सिंह, विनय सिंह, आकाश सिंह, अजीत कुमार, धर्मेंद्र कुमार, अक्षय, शाहिल, वैभव, भानु प्रताप, राजेन्द्र व शुभम गांव के युवा व किशोर इनकी टोली में हैं जो झाडू, फावड़ा, खुरपी, कुदाल, कुल्हाड़ी, हंसिया आदि लेकर श्रमदान करते हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.