परियोजना मार्ग पर 20 घंटे भीषण जाम

जागरण संवाददाता, ओबरा (सोनभद्र) : ओबरा-सी में गिट्टी व बालू सहित तकनीकी सामान लदे भारी वाहन रविवार देर रात लाल बहादुर शास्त्री मार्ग पर फंस गए। ओवरलोड वाहनों के वजह से बने बड़े-बड़े गड्ढों में आधा दर्जन वाहन 20 घंटे तक फंसे रहे। इसकी वजह से कई वाहनों को भारी क्षति भी हुई है।

दरअसल, शास्त्री मार्ग से ही भारी वाहनों का आवागमन आमतौर पर होता है। इसकारण आने और जाने वाले दोनों वाहन फंसे रहे। ज्यादातर बड़े वाहन नगर के कई प्रमुख मार्गों पर खड़े रहे। इस कारण महात्मा गांधी मार्ग, स्टेडियम मार्ग पर भी जाम से आम जनता को परेशान होना पड़ा। सोमवार प्रात: देखते-देखते तीन वाहनों के फंसने के कारण जाम बढ़ने लगा था। कई घंटों के प्रयास के बाद एक ट्रक को निकालने में सफलता मिली लेकिन, उसके निकलते ही उसी स्थान पर दूसरा वाहन फंस गया। सोमवार दोपहर तीन बजे तक प्रशासन द्वारा अपेक्षित मदद नहीं मिलने के कारण गाड़ियां फंसी हुयी थी। पिछले दो दिनों के दौरान हुयी बारिश के कारण क्लब एक के पास बने गड्ढों में पानी भर गया था। यातायात चालू होने के कारण गड्ढों में कई वाहन फंस गये। पिछले 48 घंटे में क्लब एक के पास बने गड्ढे में दर्जनों वाहन कई-कई घंटों के लिए फंसते रहे हैं।

सड़क मरम्मत की मांग

भारी वाहनों के प्रवेश को लेकर पहले से ही तमाम ट्रेड यूनियन आक्रोश जताते रहे हैं। बीते शुक्रवार को क्लब एक के पास ही संयुक्त संघर्ष समिति ने चक्का जाम कर बड़ी विरोध सभा की थी लेकिन, प्रशासन ने इस पर खास ध्यान नही दिया। इस वजह से सोमवार को गड्ढों में कई वाहन फंस गए। ओबरा-सी के लिए आ रहे भारी वाहनों की वजह से महात्मा गांधी मार्ग, लाल बहादुर शास्त्री मार्ग और शारदा मंदिर मार्ग को भारी क्षति पहुंच रही है। कई जगहों पर बने गड्ढे जानलेवा हो गए हैं। इसको देखते हुए तमाम संगठनों ने ओबरा-सी के मद से भारी क्षमता के सड़क निर्माण की मांग की है। अभियंता संघ के क्षेत्रीय सचिव अदालत वर्मा ने कहा कि अगर तत्काल सड़कों का निर्माण नहीं कराया गया तो संयुक्त संघर्ष समिति वाहनों के नगर प्रवेश पर रोक लगा देगी। विदित हो कि कालोनी के महात्मा गांधी मार्ग पर ओबरा इंटर कालेज एवं परियोजना चिकित्सालय तथा डिग्री कालेज मार्ग पर आंबेडकर स्टेडियम, ओबरा पीजी कालेज एवं किड्स केयर स्कूल जैसे महत्वपूर्ण संस्थान हैं । इससे इन मार्गों में नागरिकों सहित स्कूली बच्चों के लिए खतरा बना रहता है।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.