top menutop menutop menu

मुसहर बस्ती में बनेगा आंगनबाड़ी केंद्र

जागरण संवाददाता, दुद्धी (सोनभद्र) : तहसील मुख्यालय से सटे खजुरी गांव के मुसहर बस्ती में मंगलवार को पहुंचे जिलाधिकारी एस राजलिगम ने वहां के बच्चों एवं महिलाओं के सुविधा एवं जीवन उत्थान के लिए एक आंगनबाड़ी केंद्र व अतिरिक्त कक्ष का निर्माण कराने का निर्देश दिया।

जबकि सीएचसी की बदहाल व्यवस्था से आहत शीर्ष अधिकारी ने सीएचसी अधीक्षक को व्यवस्था में सुधार लाने का निर्देश दिया।

मंगलवार को संपूर्ण समाधान दिवस की सुनवाई के बाद तीन बजे जिलाधिकारी मुसहर बस्ती पहुंचे। वहां उनकी दिन दशा देख द्रवित हुए जिलाधिकारी ने मौके पर मौजूद डीपीआरओ, डीएसओ, बीएसए, पीडी समेत अन्य अधिकारियों से बस्तीवासियों के उत्थान के लिए विधिक तौर पर किये जाने वाले तत्कालिक लाभकारी कार्यों के लिए सुझाव मांगे। करीब आधे घंटे के चर्चा के बाद उन्होंने मौके पर मौजूद खंड विकास अधिकारी रमाकांत सिंह को निर्देशित किया कि वे मनरेगा के तहत इस बस्तीवासियों के लिए बंधी, समतलीकरण सरीखे कार्य उनसे कराए।वहीं बस्तीवासियों के लाल कार्ड न होने की बात बताई तो उन्होंने ग्राम पंचायत से सभी का प्रस्ताव कराकर उन्हें प्राथमिकता के आधार पर कार्ड उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। वनभूमि में आबाद बस्ती में आवास निर्माण की विधिक कारवाई के बाद ही कारवाई का भरोसा दिया। इसके बाद जिलाधिकारी का कारवां सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर पहुंचा। वहां अस्पताल का निरीक्षण करने के बाद नव निर्मित ब्लड बैंक एवं एनआरसी सेंटर को माहभर के अंदर संचालित करने का निर्देश दिया। इसके साथ अस्पताल में अव्यवस्था एवं गंदगी देख वे प्रभारी डा. मनोज कुमार इक्का से कड़ी नाराजगी जताते हुए व्यवस्था में सुधार लाने की हिदायत दी। इस मौके पर एसडीएम सुशील कुमार यादव, पुलिस क्षेत्राधिकारी संजय वर्मा समेत तमाम अधिकारी कर्मचारी गण उपस्थित रहे।

समाधान दिवस में 32 मामलों का निस्तारण

जासं, सोनभद्र : जिले के तीनों तहसीलों में मंगलवार को संपूर्ण समाधान दिवस का आयोजन किया गया। इसमें कुल 32 मामलों का निस्तारण किया गया। 305 लंबित मामलों को यथाशीघ्र निस्तारण के लिए अधिकारियों ने संबंधित विभागों को जिम्मेदारी दी।

मुख्य आयोजन दुद्धी में हुआ। यहां जिलाधिकारी एस राजलिगम व पुलिस अधीक्षक आशीष श्रीवास्तव ने सभी अधिकारियों का दायित्वबोध कराते हुए कहा कि गुणवत्तापूर्ण निस्तारण सम्बन्धित अधिकारियों द्वारा किया जाएगा। भूमि से जुड़े मामलों का निस्तारण मौके पर जाकर निस्तारित करने का निर्देश राजस्व व पुलिस विभाग को दिए गए। यहां 128 प्रकरण आए। जिसमें 05 मामले मौके पर निस्तारण हुआ। छह अधिकारियों की टीमें बनाकर निस्तारण कराया गया। घोरावल में एसडीएम प्रकाश चंद्र के नेतृत्व में 104 मामले सुने गए। जिसमें चार का निस्तारण हुआ। चार मामले टीम से निस्तारित कराया गया। इसी तरह राबर्टगंज एसडीएम वाइडी चौहान के नेतृत्व में आयोजन हुआ। यहां कुल सात मामले निस्तारित किए गए। जबकि 105 मामले आए थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.