एंबुलेंस कर्मियों ने दिया धरना, गंभीर रोगी रहे परेशान

नाराज कर्मियों ने चेताया सुनवाई नहीं हुई तो सोमवार से एंबुलेंस सेवा बंद

JagranSun, 25 Jul 2021 12:29 AM (IST)
एंबुलेंस कर्मियों ने दिया धरना, गंभीर रोगी रहे परेशान

सीतापुर : एंबुलेंस यूनियन ने एक बार फिर से हड़ताल कर दी है। इससे जिला अस्पताल से रेफर गंभीर रोगियों को लखनऊ के अस्पताल पहुंचने में मुश्किल हुई है। एडवांस लाइफ सपोर्ट (एएलएस) कर्मियों की हड़ताल के कारण डाक्टरों ने मजबूरी में रेफर रोगियों को साधारण एंबुलेंस से लखनऊ अस्पताल भेजा है। मांगों के प्रति मुखर कर्मियों ने जिला अस्पताल गेट पर एकजुट होकर धरने पर बैठ गए। चूंकि यह धरना सांकेतिक रहा इसलिए रात की शिफ्ट में ड्यूटी कर चुके एंबुलेंस कर्मी धरने में शामिल रहे। कर्मियों ने मांगें पूरी नहीं होने पर 26 जुलाई से कार्य बहिष्कार की भी चेतावनी दी है। एंबुलेंस यूनियन संघ के जिलाध्यक्ष अखिलेश सिंह, मीडिया प्रभारी निशांत मिश्र का कहना है कि हरियाणा की तरह यहां भी एंबुलेंस कर्मियों को नेशनल हेल्थ मिशन के अधीन किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, कोरोना काल के दौरान अग्रणी भूमिका निभा रहे (कोरोना योद्धाओं) एंबुलेंस कर्मियों का अपमान न करें। इसलिए विभाग में एंबुलेंस कर्मियों के साथ ठेका प्रथा बंद होनी चाहिए।

जिला अस्पताल में खड़ी कर दीं एएलएस

आंदोलित कर्मियों ने फिलहाल अभी 102 व 108 एंबुलेंस सेवा बहाल कर रखी है, जबकि एएलएस की एंबुलेंस सेवा बंद कर दी है। जिले में चार एएलएस (एडवांस लाइफ सपोर्ट) हैं। ये सभी एंबुलेंस जिला अस्पताल में खड़ी कर दी गई हैं। एएलएस एंबुलेंस में रेफर होने वाले गंभीर रोगियों को केजीएमयू व अन्य संबंधित अस्पताल ले जाया जाता है। इन एंबुलेंस में रास्ते में रोगी के उपचार से जुड़ी सभी सुविधाएं रहती हैं। फुल वेंटीलेटर व आक्सीजन की सुविधा एएलएस में रहती है। ट्रेंड इमरजेंसी मेडिकल टेक्नीशियन भी रहते हैं। एएलएस सेवा बाधित होने से शनिवार को रेफर रोगियों को साधारण एंबुलेंस से ट्रामा सेंटर लखनऊ भेजा गया है। एएलएस कर्मियों का कहना है कि जिला अस्पताल से हर रोज औसतन पांच-छह रेफर रोगियों को वह लोग लखनऊ ले जाते हैं।

ये हैं मांगे

कोरोना काल में मृतक हुए एंबुलेंस कर्मियों के आश्रितों को 50 लाख का बीमा दें।

एंबुलेंस कर्मियों को नेशनल हेल्थ मिशन के अधीन किया जाना चाहिए।

एंबुलेंस पर कार्यरत एएलएस कर्मियों को समायोजित किया जाए।

सेवा प्रदाता कंपनी बदलने पर एंबुलेंस कर्मियों को न बदला जाए।

समान कार्य समान वेतन लागू हो। वेतन कटौती बंद हो। एंबुलेंस कर्मियों की नौकरी सुरक्षित करो।

सीतापुर: सब्जी मंडी की पार्किंग में अतिक्रमण हटवाने पहुंचे ईओ दिनेश कुमार को विधायक शशांक त्रिवेदी व पूर्व विधायक अनूप गुप्ता के विरोध का सामना करना पड़ा। दरअसल नगर पंचायत की ओर से रेलवे स्टेशन पर सब्जी मंडी बनवाई गई है। यहां जिन व्यापारियों को दुकानें आवंटित हैं, उन्होंने दुकान के साथ पार्किंग पर कब्जा कर लिया है। ईओ ने अतिक्रमण हटाने के लिए दुकानदारों को नोटिस भेजा था। नोटिस पर व्यापारियों ने समय मांगा था। ईओ शनिवार को जेसीबी लेकर अतिक्रमण हटवाने पहुंचे। कुछ दुकानें हटा दीं तभी सूचना पर विधायक शशांक त्रिवेदी भी पहुंच गए। उन्होंने कार्रवाई रुकवा दी। वहीं देर शाम पूर्व विधायक अनूप गुप्त ने साथ कोतवाली का घेराव किया। उन्होंने ईओ के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने की बात कोतवाल संजय पांडेय से कही। कोतवाल ने कहा कि मामला नगर पंचायत का है, वहीं शिकायत करें। ज्यादा दबाव पर उन्होंने प्रार्थना पत्र लेकर डीएम के निर्देश के कार्रवाई करने की बात कही।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.