दलदल बनी सड़क, फंस रहे वाहन

जिले की प्रमुख सड़कों के चौड़ीकरण और निर्माण कार्य का ठेका एक ही संस्था के पास है जिसके कारण कार्य नहीं हो पा रहे। हालात तो इतनी खराब है कि डुमरियागंज-चंद्रदीप घाट मार्ग दलदल में परिवर्तित हो गया है। वाहन फंस रहे हैं। स्कूली बचों का सफर भी खतरे से खाली नहीं है।

JagranPublish:Fri, 22 Oct 2021 11:32 PM (IST) Updated:Fri, 22 Oct 2021 11:32 PM (IST)
दलदल बनी सड़क, फंस रहे वाहन
दलदल बनी सड़क, फंस रहे वाहन

सिद्धार्थनगर : जिले की प्रमुख सड़कों के चौड़ीकरण और निर्माण कार्य का ठेका एक ही संस्था के पास है, जिसके कारण कार्य नहीं हो पा रहे। हालात तो इतनी खराब है कि डुमरियागंज-चंद्रदीप घाट मार्ग दलदल में परिवर्तित हो गया है। वाहन फंस रहे हैं। स्कूली बच्चों का सफर भी खतरे से खाली नहीं है।

यह मार्ग सात महीने से बन रहा है, लेकिन अभी तक सिर्फ चौड़कीरण के नाम पर पटरियों पर गिट्टी ही गिराई जा सकी हैं। जलभराव वाले स्थान पर ठीकेदार ने मिट्टी डाल दिया है, जो अब दलदल का रुख इख्तियार कर चुका है, जहां आए दिन न सिर्फ वाहन फंस रहे हैं बल्कि पैदल स्कूल आने जाने वाली छात्राओं को भारी असुविधा का सामना करना पड़ रहा है।

डुमरियागंज- चंद्रदीप घाट मार्ग वर्षो से बदहाली के हाल में था, इस सड़क के निर्माण के लिए 44 करोड़ रुपये अवमुक्त हुए हैं। काम भारद्वाज कांसट्रक्शन कंपनी को मिला। मार्च 2021 में निर्माण कार्य प्रारंभ कराने के जब विधायक ने भूमिपूजन किया तो उम्मीद थी कि शीघ्र यह सड़क मुकम्मल हो जाएगी और लोगों को अयोध्या तक आने- जाने में सुविधा मिलेगी, बावजूद निर्माण कार्य इस रफ्तार से हो रहा है कि सिर्फ पटरियों पर गिट्टी डालने का काम ही हो सका है। बारिश के बाद इस मार्ग पर कई जगह जलजमाव हो गया था, वहां गिट्टी डालने की जगह मिट्टी पाट दी गई, अब सड़क जगह- जगह दलदल में तब्दील हो चुकी है। जिसमें आए दिन वाहन फंसते हैं, और घंटों लोगों को जाम में फंसे रहना पड़ता है। इस मार्ग से होकर चौधरी चरण सिंह इंटर कालेज की छात्राएं भी स्कूल से घर तक पैदल अथवा साइकिल से आती जाती हैं, उन्हें भारी असुविधा का सामना करना पड़ता है। क्षेत्र के अफरोज मलिक, सत्येंद्र दुबे, नीरज, प्रमोद, सत्यम, विवेक आदि लोगों को कहना है कि ठीकेदार की मनमानी चारम पर है। सड़क अबतक पूरी नहीं हुई और जगह- जगह दलदल होने के कारण आवागमन दुष्कर हो गया है।

बांसी के लोकनिर्माण विभाग के अवर अभियंता राकेश शुक्ला ने कहा कि संबंधित ठीकेदार को स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं कि निर्माण कार्य में तेजी लाएं, मिट्टी डालने से जहां भी सड़क दलदल में तब्दील है वहां गिट्टी डालकर सही करने के निर्देश भी दिए गए हैं।