मिठवल बीआरसी के कनिष्ठ सहायक निलंबित, जांच शुरू

तत्कालीन खण्ड शिक्षा अधिकारी रीता गुप्ता के शिकायती पत्र पर उत्तर प्रदेश स्कूल शिक्षा के महानिदेशक विजय किरन आनंद ने ब्लाक संसाधन केंद्र मिठवल में कनिष्ठ सहायक पद पर कार्यरत शिव सागर को निलंबित कर दिया है। बीएसए सिद्धार्थनगर को प्रेषित पत्र में उन्होंने प्रकरण की जांच कर एक सप्ताह के अंदर साक्ष्य सहित आख्या प्रस्तुत करने का निर्देश भी दिया है।

JagranMon, 21 Jun 2021 11:59 PM (IST)
मिठवल बीआरसी के कनिष्ठ सहायक निलंबित, जांच शुरू

सिद्धार्थनगर : तत्कालीन खण्ड शिक्षा अधिकारी रीता गुप्ता के शिकायती पत्र पर उत्तर प्रदेश स्कूल शिक्षा के महानिदेशक विजय किरन आनंद ने ब्लाक संसाधन केंद्र मिठवल में कनिष्ठ सहायक पद पर कार्यरत शिव सागर को निलंबित कर दिया है। बीएसए सिद्धार्थनगर को प्रेषित पत्र में उन्होंने प्रकरण की जांच कर एक सप्ताह के अंदर साक्ष्य सहित आख्या प्रस्तुत करने का निर्देश भी दिया है।

कनिष्ठ सहायक पर खण्ड शिक्षा अधिकारी रीता गुप्ता ने अनुशासन हीनता, शासकीय अनियमितता, वित्तीय अनियमितता आदि आठ आरोप लगाते हुए बीते 21 जनवरी को महानिदेशक स्कूल शिक्षा उत्तर प्रदेश शासन को शिकायती पत्र प्रेषित किया था। जिसपर महानिदेशक ने साक्ष्यों के आधार पर शिकायतों की जांच कर यह निर्देश दिया। जबकि वर्तमान में बीईओ रीता गुप्ता भी निलंबित चल रही हैं। इन्हें बीते तीन मार्च को विभिन्न आरोपों में निलंबित कर दिया गया था। इस संबंध में शिवसहाय का कहना था कि उन्होंने क्या आरोप मेरे ऊपर लगाया है मुझे नहीं मालूम है। हमारे ऊपर हुई कार्रवाई की भी हमें कोई जानकारी नहीं है। खण्ड शिक्षा अधिकारी के लगाए गए आरोपों की यदि जांच होगी तो मामला खुदबखुद सामने आ जाएगा। जबकि वर्तमान खण्ड शिक्षा अधिकारी वीरेंद्र त्रिपाठी ने बताया कनिष्ठ सहायक पर निलंबन की कार्रवाई हुई है, यह जानकारी तो हमें हैं। पर अभी तक कोई पत्र इस संबंध में हमें प्राप्त नही हुआ है। बेसिक शिक्षा अधिकारी को ही कार्रवाई करनी है।

बीएसए सिद्धार्थनगर राजेंद्र सिंह ने बताया कि हमें अभी महानिदेशक स्कूल शिक्षा का कोई लेटर तो प्राप्त नहीं हुआ है। पत्र आने दीजिए तब देखता हूं कि प्रकरण क्या है। तभी मैं कुछ बता भी पाऊंगा। सेवानिवृत्त कर्मचारियों ने की पुरानी पेंशन बहाली की मांग सिद्धार्थनगर : सेवानिवृत्त कर्मचारी एवं पेंशनर एसोसिएशन जिला इकाई ने सोमवार को कलेक्ट्रेट परिसर में बैठक की। कर्मियों के समक्ष आ रही समस्याओं पर चर्चा की। पुरानी पेंशन बहाली की मांग की। डीएम दीपक मीणा को सात सूत्रीय मांगों का ज्ञापन सौंपा।

जिलाध्यक्ष अवधेश यादव ने कहा नई पेंशन व्यवस्था को समाप्त कर पुरानी नीति को लागू किया जाए। शासन स्तर से मंहगाई भत्ते व राहत को बंद कर दिया गया है। इसे बहाल किया जाए। पेंशनर को आयकर के दायरे से बाहर रखा जाए। 30 जून को सेवानिवृत्त हो रहे कर्मचारियों को जुलाई का एक वेतनवृद्धि देने के बाद पेंशन का निर्धारण करें। कोरोना संक्रमण से मृत कर्मचारी, शिक्षक व पेंशनर के स्वजन को सम्मानित अनुग्रह राशि दी जाए। वरिष्ठ उपाध्यक्ष शंभू प्रसाद, मंत्री महेश्वरी दयाल, सीताराम, कन्हैया प्रसाद, गिरिजा शंकर मिश्रा, दयाराम पाठक, खेदू प्रसाद, रामदास आदि मौजूद रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.