भारत बंद को लेकर पुलिस अलर्ट, रहेगा रूट डायवर्ट

सोमवार को किसानों द्वारा भारतबंद के मद्देनजर पुलिस अलर्ट है। यातायात व्यवस्था बनाने के लिए पुलिस अधिकारियों के आदेश पर रूट डायवर्जन किया जा रहा है। पूरे जिले में व्यवस्था के मद्देनजर पुलिस की ड्यूटी लगाई है।

JagranSun, 26 Sep 2021 09:09 PM (IST)
भारत बंद को लेकर पुलिस अलर्ट, रहेगा रूट डायवर्ट

शामली, जागरण टीम। सोमवार को किसानों द्वारा भारतबंद के मद्देनजर पुलिस अलर्ट है। यातायात व्यवस्था बनाने के लिए पुलिस अधिकारियों के आदेश पर रूट डायवर्जन किया जा रहा है। पूरे जिले में व्यवस्था के मद्देनजर पुलिस की ड्यूटी लगाई है।

जिला यातायात पुलिस प्रभारी भंवर सिंह ने बताया कि किसान संगठन जिले में विजय चौक, बनत, थानाभवन, बिडोली गुरुद्वारा, कैराना बाइपास, कांधला में चौधरी चरण सिंह मूर्ति व शामली गुरुद्वारा तिराहा पर जाम लगाएंगे। यातायात व्यवस्था बनी रहे, इसके लिए पुलिस अधीक्षक सुकीर्ति माधव ने रूट डायवर्ट करने के आदेश दिए थे। यातायात पुलिस ने आदेश को अमलीजामा पहनाया है।

यहां से निकलेंगे वाहन-

-शामली से होकर विभिन्न स्थानों से पानीपत जाने वाले वाहन अजंता चौक से कांधला व कैराना होकर पानीपत जाएंगे।

- मुजफ्फरनगर से शामली आने वाले वाहन बुटराड़ा अड्डे से बाबरी मार्ग से सहारनपुर मार्ग से शामली निकलेंगे।

- शामली से मेरठ जाने वाले वाहन कुड़ाना मार्ग से भौंराकला होकर निकलेंगे।

- सहारनपुर से आकर पानीपत जाने वाले वाहन जलालाबाद से ऊन बाइपास से निकलेंगे।

- करनाल से सहारनपुर जाने वाले वाहन बिडौली से बाइपास मार्ग से होकर निकलेंगे।

- बागपत से आने वाले वाहन कांधला कस्बे से होकर कैराना व पानीपत जाएंगे।

जलस्तर घटने से किसानों को राहत

संवाद सूत्र, कैराना : यमुना नदी के जलस्तर में अब लगातार कमी आ रही है। ऐसे में खादर क्षेत्र के किसानों ने राहत की सांस ली है।

पहाड़ों पर बारिश के चलते हथिनीकुंड बैराज से यमुना नदी में दो दिन पूर्व 38105 क्यूसेक पानी छोड़ा गया था। इसके चलते कैराना में यमुना नदी का जलस्तर बढ़ गया था। शनिवार को 15876 क्यूसेक पानी छोड़ा गया था। अब यमुना नदी का जलस्तर घट रहा है। रविवार को भी जलस्तर में गिरावट दर्ज की गई। ड्रेनेज विभाग के जेई आशु कुमार ने बताया कि रविवार को जलस्तर में दस सेंटीमीटर की गिरावट आने के बाद पानी का बहाव 229.20 मीटर पर आ गया है। इसके अलावा हथिनीकुंड बैराज से 10067 क्यूसेक पानी भी छोड़ा गया है। उधर, यमुना नदी का जलस्तर घटने से खादर के किसानों को राहत मिलती नजर आ रही है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.