शहर में लगी गन्ना लदे वाहनों की कतार

शहर में लगी गन्ना लदे वाहनों की कतार

गन्ने की आवक बढ़ने से रविवार देर शाम शहर में जाम की स्थिति बन गई। गन्ना लदे ट्रैक्टर-ट्रालियों की कतार लग गई। मिल प्रबंधन के अनुसार सोमवार सुबह तक स्थिति सामान्य हो जाएगी।

Publish Date:Mon, 30 Nov 2020 04:49 AM (IST) Author: Jagran

शामली, जेएनएन। गन्ने की आवक बढ़ने से रविवार देर शाम शहर में जाम की स्थिति बन गई। गन्ना लदे ट्रैक्टर-ट्रालियों की कतार लग गई। मिल प्रबंधन के अनुसार सोमवार सुबह तक स्थिति सामान्य हो जाएगी।

गन्ने के वाहनों से शहर में जाम की समस्या प्रमुख है, लेकिन पिछले कुछ दिनों से राहत मिली हुई थी। रविवार सुबह करीब साढ़े नौ बजे मिल की एक मशीन में खराबी आने के कारण पेराई बंद हो गई थी। इसके बाद किसानों को एसएमएस भेजकर व अन्य माध्यमों से सूचना दी गई कि अभी गन्ना लेकर न आएं। जो किसान पहुंचे, उनका गन्ना लिया गया। मरम्मत में करीब तीन घंटे का वक्त लगा और दोपहर से मिल सुचारू रूप से चल रही है।

मिल के वरिष्ठ प्रबंधक गन्ना दीपक राणा ने बताया कि खराबी के दौरान किसानों को सूचना दे दी गई थी। गांवों में काफी गन्ना रुक गया था। खराबी ठीक होने के बाद किसान गन्ना लेकर आ रहे हैं, जिससे थोड़ी दिक्कत बनी है। वहीं, रात के समय सड़कों पर अन्य यातायात कम हो गया, जिससे जाम की समस्या बहुत अधिक नहीं रही। गन्ने के वाहनों को सड़क पर एक तरफ खड़ा कराया गया है। उधर सोमवार सुबह भी यही स्थिति रही तो जाम की बड़ी समस्या बन सकती है। क्योंकि शहर में सोमवार को अन्य दिनों के मुकाबले भीड़ अधिक होती है।

-गन्ना समितियों में फार्म मशीनरी बैंक शुरू

शामली: सहकारी गन्ना विकास समिति शामली, ऊन और थानाभवन में फार्म मशीनरी बैंक का संचालन शुरू हो गया है। फसल अवशेष प्रबंधन के लिए किसान किराए पर यंत्र ले सकते हैं।

जिला गन्ना अधिकारी विजय बहादुर सिंह ने कहा कि किसानों से अपील है कि गन्ने पत्तियों को जलाएं नहीं। यंत्रों के माध्यम से पत्तियों को जमीन में मिलाएं, जिससे उर्वरा शक्ति बढ़ेगी और प्रदूषण भी नहीं फैलेगा। विभिन्न माध्यमों को इस संबंध में जानकारी दी जा रही है। अधिक जानकारी के लिए शामली समिति के सचिव 7081202282, ऊन समिति के सचिव 7355266238, थानाभवन समिति के सचिव 7081202283 के नंबर पर संपर्क कर सकते हैं। यंत्र लेने में कोई दिक्कत है तो टोल फ्री नंबर 18001213203 पर शिकायत कर सकते हैं। सर्वेक्षण, सट्टा, कैलेंडर, पर्ची से जुड़ी समस्या 18001035823 पर दर्ज करा सकते हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.