इग्नू स्टडी सेंटर में प्रवेश की अंतिम तिथि 15 जुलाई

कैराना स्थित विजय सिंह पथिक महाविद्यालय में इग्नू केंद्र में प्रवेश की अंतिम तिथि आगामी 15 जुलाई घोषित कर दी गई है।

JagranThu, 17 Jun 2021 10:31 PM (IST)
इग्नू स्टडी सेंटर में प्रवेश की अंतिम तिथि 15 जुलाई

शामली, जागरण टीम। कैराना स्थित विजय सिंह पथिक महाविद्यालय में इग्नू केंद्र में प्रवेश की अंतिम तिथि आगामी 15 जुलाई घोषित कर दी गई है।

इंदिरा गांधी मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) के क्षेत्रीय निदेशक डा. अमित चतुर्वेदी व इग्नू स्टडी सेंटर के संरक्षक प्राचार्य डा. योगेंद्र पाल सिंह ने बताया कि विजय सिंह पथिक राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय कैराना के इग्नू स्टडी सेंटर पर प्रवेश की अंतिम तिथि 15 जुलाई 2021 है। इग्नू अध्ययन केंद्र के कोर्डिनेटर डा. अजय बाबू शर्मा ने बताया कि केंद्र पर अंग्रेजी शिक्षण तथा पर्यावरणीय अध्ययन में छह माह का सर्टिफिकेट कोर्स तथा हिदी और अंग्रेजी में दो वर्षीय मास्टर प्रोग्राम कोर्स उपलब्ध है। पंजीकरण एवं प्रवेश इग्नू की वेबसाइट पर आनलाइन होंगे। वहीं, प्रवेश संबंधी समस्त निर्देश व शर्ते इग्नू की वेबसाइट के स्टूडेंट पोर्टल पर उपलब्ध हैं। सभी पाठ्यक्रमों के विवरण भी कॉमन प्रास्पेक्टस के साथ इग्नू की वेबसाइट पर उपलब्ध है। बताया गया कि महाविद्यालय के इग्नू अध्ययन केंद्र संख्या 39036 है। यह केंद्र इग्नू क्षेत्रीय केंद्र नोएडा संख्या 39 से संबद्ध है। छह माह के सर्टिफिकेट पाठ्यक्रमों के कोड सीटीई (सर्टिफिकेट कोर्स इन इंग्लिश टीचिग), सीईएस (सर्टिफिकेट कोर्स इन एनवायरंमेंटल स्टडीज), दो वर्ष के मास्टर प्रोग्राम के कोड एमईजी (अंग्रेजी में मास्टर प्रोग्राम) तथा एमएचडी (हिदी में मास्टर प्रोग्राम) हैं। इग्नू के सभी पाठ्यक्रम सरकारी सेवाओं में वैध होते हैं। कक्षाएं केवल रविवार को संचालित होती हैं। दिसंबर तक या नई गाइडलाइन आने तक कक्षाएं आनलाइन चलेंगी।

यूनीफार्म वितरण की नई व्यवस्था का विरोध

जागरण संवाददाता, शामली : स्वयं सहायता समूह की कार्यकत्रियों ने बेसिक शिक्षा विभाग के विद्यालयों में यूनीफार्म वितरण की नई व्यवस्था का विरोध करते हुए इसे निरस्त करने की मांग की है।

जिले की स्वयं सहायता समूह की कार्यकत्रियों ने गुरुवार को कलक्ट्रेट पहुंचकर डिप्टी कलक्टर निकिता को प्रार्थना पत्र देते हुए बताया कि वे समूह से जुड़कर महिलाएं सिलाई व अन्य कार्य कर अपना रोजगार चला रही है। पिछले वर्ष भी समूह की महिलाओं ने सिलाई का कार्य कर ड्रेस आपूर्ति की थी, लेकिन इस बार नई व्यवस्था से समूह की महिलाओं से यह रोजगार छीन लिया गया। इससे महिलाओं को अपना व अपने परिवार का पालन-पोषण करने में अधिक परेशानी उत्पन्न होगी। उन्होंने सरकार की ओर से चलाई गई नई व्यवस्था को निरस्त कराकर पूर्व की भांति बच्चों की यूनिफार्म का पैसा अभिभावकों के खाते में न भेजकर स्वयं सहायता समूह की महिलाओं द्वारा कार्य कराए जाने की मांग की। इस अवसर पर पिकी, श्वेता, मूर्ति, सविता, सुधा, बबीता, वैशाली आदि मौजूद रही।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.