शाम होते ही छा रही स्माग की चादर, आंखों में होती है जलन

सर्दी बढ़ने के साथ ही वायु प्रदूषण का स्तर भी बढ़ने लगा है। शाम होते ही स्माग छा जाता है और सांस लेना मुश्किल हो जाता है। चिकित्सक भी सांस और दमा के मरीजों को इन दिनों सावधानी बरतने की हिदायत दे रहे हैं। स्माग से आंखों में जलन की समस्या भी सामने आ रही है।

JagranWed, 27 Oct 2021 10:59 PM (IST)
शाम होते ही छा रही स्माग की चादर, आंखों में होती है जलन

शामली, जागरण टीम। सर्दी बढ़ने के साथ ही वायु प्रदूषण का स्तर भी बढ़ने लगा है। शाम होते ही स्माग छा जाता है और सांस लेना मुश्किल हो जाता है। चिकित्सक भी सांस और दमा के मरीजों को इन दिनों सावधानी बरतने की हिदायत दे रहे हैं। स्माग से आंखों में जलन की समस्या भी सामने आ रही है।

पंजाब-हरियाणा में पराली-पत्ती जलाने की घटना बढ़ने के कारण मंगलवार की रात शामली में स्माग बढ़ गया है। हालांकि किसानों को पराली-पत्ती न जलाने के लिए जागरूक किया जा रहा है, लेकिन इसके बावजूद जलाई जा रही है। डा. पंकज गर्ग का कहना है कि स्माग के कारण आंखों में जलन, सांस लेने में दिक्कत, एलर्जी आदि के मरीज बढ़ गए हैं। उन्होंने बताया कि मौसम परिवर्तन के साथ-साथ ओपीडी में मरीजों की संख्या भी बढ़ी है। ज्यादातर मरीज वायरल के साथ-साथ सांस, दमा और एलर्जी के सामने आ रहे हैं। इन दिनों प्रदूषण के चलते घर में रहना ही बेहतर है, क्योंकि बढ़ता प्रदूषण स्वास्थ्य पर बुरा असर डाल रहा है। बुजुर्गों और सांस के मरीजों के लिए यह बेहद खतरनाक साबित हो सकता है। वातावरण में अनेक प्रकार के प्रदूषित तत्व मिले हुए हैं, जो शरीर में जाकर सांस से संबंधित रोग का कारण बनते हैं। आंखों में जलन के मरीजों की बढ़ी संख्या

नेत्र रोग विशेषज्ञ डा. उमंग अग्रवाल का कहना है कि स्माग के कारण आंखों में एलर्जी के मरीजों की संख्या बढ़ी है। आंखों में पानी आना, आंखें लाल होना और जलन की दिक्कत ज्यादा है। ऐसे में लोगों को अपनी सेहत के प्रति सतर्क रहना होगा। आंखों में एलर्जी होने पर मरीज आंखों को साफ पानी से धोएं। जोर-जोर से आंखों में पानी न मारें। इसके अलावा चश्मे का इस्तेमाल करें और ज्यादा दिक्कत होने पर चिकित्सक से जांच कराकर दवा का सेवन करें।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.